Vipulchandra Parmar   (✍️ निरक्षर..)
2.5k Followers · 10.0k Following

Joined 19 October 2017


Joined 19 October 2017

फिर एक बार देश पर महाब्बत छा ने वाली हैं
कुछ दिन और जाने दो 15 अगस्त आने वाली हैं

-


101 likes · 3 comments
Vipulchandra Parmar 10 HOURS AGO

खुशियों के दामन में एक हिस्सा है दोस्तो का..
जिंदगी में एक मस्त बड़ा क़िस्सा है दोस्तो का..

-


111 likes · 5 comments
Vipulchandra Parmar YESTERDAY AT 14:45

Tears of father


कही सूखे बजर जमीन की तराह जज़बात न निकले..
कही दुःख के आँसू दुष्काल मे भी कभी न निकले..

-


Show more
109 likes · 4 comments
Vipulchandra Parmar 15 JUL AT 17:39

"मुझे बताए बगैर ही चल निकले मेरे आँसू उनकी याद मैं
मगर शिकायत योदो की तो हरकीज़ न थी बस उनकी थी"

-


Show more
118 likes · 8 comments
Vipulchandra Parmar 15 JUL AT 11:38

हम तो मर ही गए थे..
तुमने जिन्दा किया ही क्यू..

-


123 likes · 5 comments
Vipulchandra Parmar 14 JUL AT 11:54

मैं मिटकर तुझ मे स्थितप्रज्ञ हो जाऊ
है प्राण मैं किसीका सबकुछ हो जाऊ

-


117 likes · 2 comments
Vipulchandra Parmar 13 JUL AT 20:51

मस्त पवन लहराई हैं
रिश्तों मैं मिठी बातें आई हैं

कुछ पुरानी -नई बातों पर मस्ती छाई है
मौसम मैं बड़ी महक आई है
रात के आँगन में 'निरक्षर 'मन की परछाई है

-


Show more
140 likes · 8 comments
Vipulchandra Parmar 13 JUL AT 15:42

तेरा रुठ ना चाय में शक्कर कम जैसा लगता हैं।
रंगीन दुनिया मे भी बेरंग जैसा क्यों लगता हैं।

-


My.s.

134 likes · 10 comments · 1 share
Vipulchandra Parmar 13 JUL AT 13:02

किताब मैं वो जिन्दा शब्द ढुंढे मैंने,
जो किसीके आँसू निकाला करतें थे..

-


131 likes · 4 comments
Vipulchandra Parmar 12 JUL AT 19:30

माना की उलझने बहुत हैं जिंदगी मैं..
. . इस पजल को सुलझना हैं जिंदगी मैं

-


120 likes · 7 comments

Fetching Vipulchandra Parmar Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App