8 NOV 2019 AT 15:26

"बचपन ही है जो जीने की अनचाही ख्वाइशों से इंसान को परे रखता है।"

- विजय कुमार गोरे (((((आर्यन)))))