Varun K. Sharma   (Varun K. Sharma)
572 Followers · 105 Following

read more
Joined 2 September 2016


read more
Joined 2 September 2016
Varun K. Sharma 20 AUG AT 0:37

कया हुआ अगर नहीं पहुंच पाए उस मुकाम पर,
उड़ान हर बार बादलों के पार तक की नहीं होती,
क्या हुआ अगर मुट्ठी में न भर पाए कई ख्वाब तो,
ख्वाबों की अहमियत कभी कम नहीं होती,
अगर मंज़िल हर बार तुझे लगती है उतनी ही दूर,
तो तेरी राह को बदलने की जरुरत नहीं,
क्योंकि काफ़िले एक दिन लक्ष्य पर पहुंच जाएंगे ज़रूर,
लेकिन हर मंज़िल तेरे पहुंचने की भूखी नहीं होती।

-


10 likes · 2 shares
Varun K. Sharma 31 JUL AT 13:51

Trying to reach two heavens,
While hell is pulling me down,
I'm surrounded by people I love,
But there's still a damn void.

-


19 likes · 1 share
Varun K. Sharma 24 JUL AT 1:21

जी करता है आज,
की लिख डालें वो मंज़र,
उन लम्हों के जिनमें,
बस तुझे याद करते करते,
गुजारी हमने कई रातें।

जी करता है आज,
कह दूं वो हर बात,
जो दिल में लिए हम,
चलते रहे दिन रात,
वो हसीन पल, लम्हे, जज्बात,
जब हम थे तेरे साथ।

-


6 likes · 1 share
Varun K. Sharma 11 JUL AT 2:04

कुछ ऐसी बात हों जाए,
की डगमगा कर फिसल जाए,
नींद इन आंखों से,
लफ्ज़ मेरे ज़हन से,
वक्त मेरे हाथों से,
दर्द मेरे जख्मों से,
और तेरी खामोशी, मेरे मुस्कुराने से।

-


14 likes · 2 shares
Varun K. Sharma 10 JUL AT 1:37

Why can't I?
Maybe it's the next day's schedule,
That's hovering over and over,
Maybe it's today's worries,
Trying to turn me down,
Maybe it's the distance,
That's killing me inside,
Or maybe I'm simply,
Not sleepy at all.
But why? Why can't I?
Maybe something's missing,
That I'm yet to find.

-


3 likes · 2 shares
Varun K. Sharma 8 JUL AT 0:54

न जाने कैसे हम उस मुकाम पर पहुंच गए,
जिसे ढूंढने निकले थे उसी के साथ खो गए।

-


4 likes · 1 share
Varun K. Sharma 6 JUL AT 0:36

Just when I thought I couldn't,
I saw myself in the mirror,
And uttered the empty words,
That carried no weight,
But were heavy as iron,
Sharp as blade, mighty as steel,
A little hopeful, but not that real,
As I saw my own silhouette,
I felt so dark but then,
I stood in wonder,
Speaking the words that weren't true,
But true enough to make me believe,
In myself just this one time again,
Saying to myself like every other time,
That "I can do this all over again".

-


9 likes · 1 share
Varun K. Sharma 18 JUN AT 0:49

कुछ ऐसा गुज़रा यह बेतुका वक्त कि अब हसना छोड़ दिया,
इन आंखों ने तेरी याद में अब रोना छोड़ दिया।

-


12 likes · 4 comments
Varun K. Sharma 5 JUN AT 9:54

गले मिलकर गिले शिकवे मिटाने का वक्त आ गया,
उस खुदा का शुक्र अदा करने का वक्त आ गया,
खूब बटेंगी आज मीठी सेवईयां और व्यापक किस्म के आहार,
चांद फलक पर लेकर ईद का त्योहर आ गया।

।। ईद मुबारक ।।

-


9 likes · 3 shares
Varun K. Sharma 30 MAY AT 0:19

तेरे पास न होने का एहसास जब दिल पर आता है,
तेरा ख्याल न रख पाने का ख्याल अब मुझे सताता है।
ज़रिए तो कई ढूंढे हैं हमने तुझे हमेशा खुश रखने को,
खुशी तेरी बरकरार रहे बस यही मेरा मन चाहता है।

-


7 likes · 1 share

Fetching Varun K. Sharma Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App