tanvi sharma   (Tanvi sharma)
1.3k Followers 0 Following

read more
Joined 30 August 2018


read more
Joined 30 August 2018
3 JUL AT 7:52

( कच्ची उम्र )
हा माना उम्र और दुनिया की समझ नही हैं आपके जितनी,
मगर जिंदगिया बर्बाद होते मैने भी देखा हैं,
और जिस समाज की हर वक्त चिंता रहती हैं, वहीं समाज बर्बाद जिंदगियों की कहता हैं,क्या करे सब किस्मत का लेखा हैं।
आपकी एक सबसे बड़ी जिमेदारी ,अपने बच्चो की शादी कर देना
जिमेदारी पूरी कर के आगे का सब किस्मत के नाम छोड़ कर मुंह मोड़ लेना,,
आपकी एक जिमेदारी तो पूरी हो जायेगी,,
लेकिन क्या शादी के बाद इतनी सारी जिमेदारिया मेरी ये कच्ची उम्र संभाल पाएगी
अभी तक तो किताबे बोझ लगा करती थी,
बस अभी अभी ही किताबो से दिल लगाया हैं,
और अभी अभी ही किताबो का महत्व समझ आया हैं,
अभी अभी तो खुद की पहचान बनाने का रास्ता नजर आया हैं
थोड़ा वक्त दो मैं बेहतर और इस लायक बन जाऊंगी जिमेदारी ये आपकी इसका थोड़ा भार मै भी उठाऊंगी,
अभी तक जिसने दुनिया नहीं देखी ,
वो कैसे अपनी दुनिया बना पाएगी,,
और उम्र कच्ची हैं मेरी,ये कलाई अभी से परिवार जैसी जिमेदारी को जकड़ नही पाएगी।

-


7 FEB AT 11:56

Paid Content

-


24 NOV 2020 AT 21:37

लिखूं तो आखिर लिखूं क्या,,🤔


read it completely in caption💞

drop 💞in coment box💞




तेरी बनाई दुनिया मुझे रास नहीं आती।

-


20 NOV 2020 AT 19:01

बिना वजह 🙄ये यू मेरा बात
-बात पर घबराना ,,🥺
यू एक मीठे 💞अहसास का
मुझे करीब से छू जाना🙈
खुद में खो जाती हूं 🤔तो अगले
ही लम्हें में खुद को मुस्कुराता पाती
हूं 😛
मैं लड़की हूं मासूम सी😊
अपनी मासूमियत पर मैं 😝
खुद ही मर जाती हूं 😂

-


1 OCT 2020 AT 14:41

मुस्कुराकर खिल खिलाकर जब मैं घर से बाहर जाती थी,,
वक़्त कोई भी ही मोहल्ले की हर औरत को मैं नजर आती थी
घर से बाहर अकेले ना जाना मां मुझको अक्सर टोका करती थी
घबराती नहीं मैं मुश्किलों से,मगर लोगो के घूरने पर इज्जत का ख्याल कर अक्सर डरती थी
घर की लगाई बंदिशों को ध्यान में रख,,काम ख़त्म होते ही मैं घर लौट आती थी
खुल कर जीना तो दूर,,,इतनी बंदिशों के बाद भी मैं उन दरिंदो का शिकार बन जाती हूं
हर दिन हर सेकंड मैं किसी ना किसी लड़की के अंदर मर जाती हूं
बेटी बचाओ रेप कराओ ये सुनहरे अक्षरों में लिखना,,
मैं जा रही हूं हारकर ,,अब मोमबत्तियां लेकर मेरे पीछे ना दिखना,,
मैं फिर आऊंगी ओर फिर यूंही दरिंदो का शिकार बन जाऊंगी
कुछ नहीं होगा बदलाव दरिंदो की ज़िंदगी में,,
मैं कल निर्बया थी,आज मनीषा हूं ,,कल कुछ और बन कर आऊंगी

-


26 OCT 2019 AT 19:13

🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍃

खुद की बहन बेटियों को पिंजरे मे रख,,,,बहुओं से घुघंट कराते हो,,, बाहर जा कर दुसरो की बहन बेटियों को नजरों से ही scan कर आते हो,,
भेड़ जैसे दोस्तों की भीड़ मे मिलकर करते हों छेड़छाड़,,
क्या अपनी इसी हरकत के जरिये खुद को मर्द बताते हों?

🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍃

-


8 OCT 2019 AT 12:53

Jis ravn ne sita maa ko hath tk nhi lgaya aj sb log usko milkr jlate h..
Hr roj jo rape hota h ldkiyo ka,,tb log unko szaa dene ki bjay vkt ko hi klyug btate h

-


16 JUN 2019 AT 21:28

प्यार एक अहसास💞
कृष्णा से है मुझको प्यार,,वो भगवान होंगे तुम्हारे ,मेरी चाहत है वो
,,,💞💞💞💞💞💞💞
प्यार एक अहसास💞

-


12 JUN 2019 AT 9:57

Zindgi apne hisab se jio,,,yh sirf tumhari h,,
Kisi k baap ki nhi😝

-


6 JUN 2019 AT 17:50

छोड़ दिया कुछ खास दोस्तों को भी हमने,,,,
क्योंकि डर था कहीं हमारी दोस्ती ,,,उनके लिए प्यार मे ना बदल जाये

-


Fetching tanvi sharma Quotes