QUOTES ON #ZINDAGI

#zindagi quotes

Trending | Latest
2 SEP 2020 AT 21:44

ज़िंदगी जीना है तो हर हाल में जीना सिखलो,
ख़ुशी हो या गम हर माहौल में जीना सिखलो,
एक ही बार मिलती है ये ज़िन्दगी,
इसे संभाल कर रखना सीखलो।।

-


21 AUG 2020 AT 11:03

जब सेे ज़िन्दगी की हक़ीक़त से रुबरु हुए है,
दुनियां से गुफ्तगू करने की चाहत ही खत्म हो गई।।

-


8 APR 2020 AT 15:53

जब इंसान उड़ने लगता है
तो उसके पैर ज़मीन पर नहीं
घमंड पर चलने लगते हैं !

-


30 MAY 2020 AT 13:13

Unka Jana aana to laga hi rehta hai zindagi me
Pehle asar hota tha ab frak hi nahi padta

-


29 JUN 2020 AT 11:04

Dear zindagi

हम तो बेढब ठहरे तेरे लिए
तो चलने का हुनर ही सिखा दे ऐ ज़िन्दगी !!

हैरत नूमा तमाशे से भरी है ज़िन्दगी
दिलाशे रखना भी सिखा दे ऐ ज ज़िन्दगी !!

हताशों में डूबी है तू मेरी ज़िंदगी
निराशों से उबरना सिखा दे ऐ ज़िन्दगी !!

बेजार सी लगती है तू कभी कभी
कभी तो गुलज़ार बन्ना सिखा दे ऐ जिंदगी !!

यूं तो गुमशुदा से है सभी रास्ते
अच्छा मुसाफ़िर बना दे ऐ ज़िंदगी !!

कभी हसीन कभी दर्दनाक मंजर दिखाती है
तो बेबाक दर्शक बना दे ऐ ज़िन्दगी !!

जो खुल कर जीना तक भूल गए हैं
उनके लिए जीने की वजह बना दे ए ज़िन्दगी !!

तू तो किस्मत के साथ खेलने में उस्ताद है
थोड़ी तुझसे लड़ने की आरज़ू सीखा दे ए ज़िन्दगी !!

-


13 MAR 2019 AT 14:25

ज़िंदगी जिये जाना भी कैसी मजबूरी है,
ख़्वाहिशें हज़ार, पर कमबख्त सभी अधूरी है..!!!

-


3 MAY 2019 AT 14:55

"तुम बात कर लिया करो कभी कभी मुझसे,
कहते है, जिन्दगी से रूबरू होना अच्छा होता है "

-


6 JUN 2019 AT 15:29

पहले हि बहुत बोझ था, ज़िन्दगी मैं अधूरे सपनों का,
और अब तुम भी एक सपना बन कर रह गये..!!!

-


27 OCT 2017 AT 17:34

ऐ दोस्त,अरसे बाद,
तेरी तस्वीर को देख रहा था ..
लिखूं ना लिखूं या क्या लिखूं ..
बस अपने भीतर यही सोच रहा था ....

अचानक मेरी नजर तुम्हारे चश्मे पर पड़ी
तो मेरे चेहरे का खालीपन मुझे एकटक देख रहा था ..
पता नहीं शायद कुछ वह मेरी खामोशी से कह रहा था ..
वही खालीपन तेरे जाने के बाद महसूस कर रहा था.. अपनी अधूरी दुनिया में फिर से जीने की शुरुआत कर रहा था..

फिर क्या ,खुद को बिखरने से समेट रहा था..
तेरी यादों को अपनी यादों से भी बिखेर रहा था
तूने जो याद किया था..
इसलिए बंद आखो से तेरी तस्वीर को देख रहा था...
अब और क्या कहूं ..
तुम्हारे जाने को अब भी भुला नहीं पाता हूं ..
न जाने क्यों खुश हो कर भी खुश नहीं हो पाता हूं.
तू नहीं अब इस दुनिया में बड़ी मुश्किल से खुद को समझाता हूं.....
याद जब भी तुम्हारी आती है तो मन ही मन मुस्कुराता हूं .......मन ही मन मुस्कुराता हूं ... मन ही मन मुस्कुराता हूं....

-


3 JUL 2019 AT 18:00

अच्छे दिन सिर्फ बैठे बैठे सोचने से नहीं आते....
उन्हें पाने के लिए कुछ करना भी पड़ता है |
और बुरे दिनों से लड़ना भी पड़ता है ||

Unknown

-