QUOTES ON #SHAYARI

#shayari quotes

Trending | Latest
12 SEP 2018 AT 16:28

She died. My heart killed her.

-


4 JUN 2020 AT 17:34

।। बादलों से ज्यादा हमारे आँखें बरसती हैं
कहीं शहर से पहले हमारा घर ही ना डूब जाए ।।

-


6 AUG 2017 AT 1:17

Paid Content

-


1 FEB 2020 AT 21:16

Chalo na firse ek naye shuruaat karte h,
Isbar tm ishq karo
saude mai
Hum nafrat karte h.

Kuch bikhre dastan firse likhte h,
Isbar kore kagas tm bharo,
Zarre-zarre mai
Hum bewafai karte h.

-


17 OCT 2019 AT 23:24

एक शिकवा ओ शिकन तक नहीं जबीं पर
मर गया कम्बख़्त पर अदाकारी नहीं गयी।

-


14 APR 2020 AT 14:21

" मज़दूर...... "
रोटी की जंग में ख़ुद को हार रहा हूँ,
मैं मज़दूर हूँ साहब,
क्या इसी की सज़ा अब काट रहा हूँ,

थोड़े से चावल दाल में परिवार पाल रहा हूँ,
घंटों धूप में ख़ून अपना,
सिर्फ़ जीने भर के लिए उबाल रहा हूँ,
दुनिया तो रुक गई सबकों ये बता रहा हूँ,
भूख के शहर हर रोज़ मगर,
मैं उम्मीद में मीलों चलता जा रहा हूँ,

मैं वाकई क्या किसी को नज़र आ रहा हूँ,
सब बोल तो रहे है हफ़्तों से,
जहाँ हो वहाँ ठहरो "मैं" आ रहा हूँ,
रोने की आदत है मुझें ये भी मान रहा हूँ,
पर राशन की लाइनों में भी,
वो कहते हैं रुको, "मैं" पहचान रहा हूँ,

मैं आपकी बातों से अपनी हालात जान रहा हूँ,
साँसे उखड़ने लगी अब मेरी भी,
आज तीसरा दिन हैं अब तो सिर्फ़ पानी माँग रहा हूँ,
रोटी की जंग में ख़ुद को हार रहा हूँ,
मैं मजदूर हूँ साहब,
क्या इसी की सज़ा अब काट रहा हूँ....!!

-


6 NOV 2019 AT 12:19

सर पटक कर देखना है एक बार,
इश्क़ को पत्थर कहा था मीर ने,

-


16 JUL 2019 AT 10:23

असर था जो देर तक रहा
हादसे कब के गुज़र गए
- दीपाली

-


5 MAY 2020 AT 20:12

एक शख़्स है आसमाँ हमारा
उसकी दीद में चाँद देखते है हम

-


17 DEC 2019 AT 13:03

"स्याही" सूख नहीं पाती है पुराने "अख़बार" की
के "खबर" आ जाती है एक और "बलात्कार" की

ना फक्र है, ना नाज़ है
सोया हुआ समाज है

-