QUOTES ON #HINDI

New to YourQuote? Login now to explore quotes just for you! LOGIN

#hindi quotes

Trending | Latest
Dhawal Barot 14 JUN 2017 AT 19:02

अच्छा हे की रिश्तो का कब्रिस्तान नहीं होता,
वरना जमीन कम पड़ जाती|

-


6334 likes · 186 comments · 1290 shares
Mayanka Dadu 25 MAY 2017 AT 13:05

मेरे वजूद की थी बस इतनी सी निशानी
किसी ने कहा शराब किसी ने कहा पानी

-


Show more
6007 likes · 147 comments · 1443 shares

स्वेटर की तरह बुना था जो रिश्ता
कहीं उसका धागा एक छूटा हुआ है

-


4468 likes · 97 comments · 591 shares
Avinash Kumar 20 AUG 2018 AT 16:44

पल दो पल आकर मेरे संग बिताना तुम
हो सके तो इस बरसात ठहर जाना तुम

-


Show more
4330 likes · 246 comments · 626 shares
Saket Garg 16 APR 2017 AT 2:11

तुम क्या सिखाओगे मुझे प्यार करने का सलीक़ा
मैंने 'माँ' के एक हाथ से थप्पड़, दूसरे से रोटी खाई है

- साकेत गर्ग

-


Show more
3874 likes · 591 comments · 1153 shares
Piyush Mishra 21 APR 2018 AT 17:26

'Aaj Tum Na Aaogi,
Kal Main Hi Naa Mil Paunga,
Phir Baat Parson Aa Gayi,
To Kaun Kisko Kya Pata'

(@officialpiyushmishra)

-


Show more
3763 likes · 128 comments · 234 shares
Naincy Goyal 10 JUN 2018 AT 13:53

मैं एक पहेली हूँ
कभी सुलझी, कभी उलझी

-


Show more
3668 likes · 436 comments · 411 shares
Abhishekk 5 JUN 2017 AT 22:42

आज घर पे मेहमान आये हैं,
आज फिर कुछ अच्छा खाने को मिलेगा ।




आज घर पे मेहमान आये हैं,
आज फिर एक रोटी के चार टुकड़े होंगे ।।

-


3591 likes · 108 comments · 227 shares
Harsh Snehanshu 26 JUN 2017 AT 4:27

जिस बेनाम बचपन के लिए पूरी जवानी
पिताजी की वृहत परछाई को कोसा,
उस परछाई को अब देखने पर मालूम होता है
कि वो पिताजी की दी हुई छांव थी।

-


Show more
3275 likes · 88 comments · 454 shares
Deepak Shah 7 AUG 2018 AT 9:25

इक नज़्म!
जो नहीं चाहती
किसी मंच पे आना,
इक ग़ज़ल!
जो नहीं चाहती
किसी तरन्नुम में बंध जाना

इक एहसास!
जिसको गँवारा नहीं
किन्हीं अल्फ़ाज़ में गढ़ना,
इक रंग!
जिसका मुमकिन नहीं
बाहर से आँखों पे चढ़ना

ये जो दे रहा चुपचाप
इंद्रधनुषी रंग
इस बूँद को
वो तेरा इश्क़ है

-


Show more
2880 likes · 225 comments · 368 shares
YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App