QUOTES ON #मतदान

New to YourQuote? Login now to explore quotes just for you! LOGIN

#मतदान quotes

Trending | Latest
Pulkit Sharma 23 APR AT 13:40

नेताओं की चीख में खामोशी का मधुर राग है
लोकतंत्र में उंगली पर ये सबसे स्वच्छ दाग है।।

-


254 likes · 24 comments · 154 shares
Gautam Kothari sanatni 25 APR AT 11:52

इस साल का सबसे सर्वश्रेष्ठ संदेश
▫▪▫▪▫▪▫▪▫▪▫▪▫▪▫▪▫▪▫▪▫▪▫▪▫▪▫▪▫▪▫▪▫▪▫▪▫
"" मतदान और कन्यादान ""
वो दोनों दान खानदान देखकर कीजिये..!!
वर्ना आपको ही परेशानी होगी, ये तय है..!!!

-


Show more
119 likes · 5 comments · 180 shares
Ranju Jaiswal 21 APR AT 16:26


वो बट गया धर्म में किंतु देश धर्म निरपेक्ष चाहिए,
वो बेच आया वोट अपना,उसे नेता ईमानदार चाहिए

नैतिकता का हुआ पतन चलो अब मैं भी नेता हुआ
इस देश में कहां किसी को नैतिकता वाला नेता चाहिए

देश पर मर मिटने को अब कहां कोई तैयार होता है,
हर एक की यही तमन्ना अब देश बर्बाद होना चाहिए

अखण्ड भारत का सपना हुआ करता था कभी,
अब हर नेता को अलग अपना एक देश चाहिए

आतंकी नेतृत्व भी मंजूर है,गर मुफ्त में सबकुछ मिले,
मुफ्तखोरी की लत हमें हर कर्ज माफ़ होना चाहिए


-


70 likes · 60 comments · 46 shares
Bhavini_ Kushwah 28 NOV 2018 AT 9:21

तरक्की का नाम लेकर
बाते बढ़ी बनाएंगे
एक वोट पाने की खातिर
पूरी जान लगाएंगे
बहकावे मे आके हम भी
उन्हे वोट देने जाएंगे
जब सरकार उनकी बन जाएगी
तब ठोकर हम ही खाएंगे

🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

"लोकतांत्रिक देश हमारा
ना जाने कब सिखेगा
मत का सही उपयोग कर पाना"

-


Show more
66 likes · 18 comments · 174 shares
empty miinds 25 JAN AT 15:27

मैं वोट हूं,
इस देश के उज्ज्वल भविष्य की ज्योत हूं ।
इस देश के लोकतंत्र का सबूत हूं ।
देखा है मैंने की कैसे मै एक पल मे मैं मूल्यवान हो जाता हूं,
किसी की भाग्य बदलता हूं तो किसी की साथ निभाता हूं।
देखा है मैंने किस तरह लोग मेरे लिए जाती धरम में बांटे जाते है,
किस तरह एक दूसरे को कभी मरते है तो कभी मिटाते है,
किस तरह मेरे लिए बड़े बड़े वादे किए जाते है,
और मतदान होने के बाद सब तोड़ दिए जाते है।
इस देश में बदलाव का प्रतीक हूं,
भारत के प्रतेक वक्ती द्वारा जनादेश हूं,
हां, मैं वोट हूं।

-


65 likes · 9 comments · 232 shares

आज भी एक त्यौहार है,
मतदान करना अपना अधिकार है।

न जाति से न धर्म से ,
मेरा मत, उसके अच्छे कर्म से।

देश को दिलाएं एक नई उड़ान,
करें उसी को अपना मतदान।

मन में रख सवाल हजार, कौन करेगा देश का उद्धार,
मतदान अपना अधिकार, पांच साल तक रहेगी अपनी ही सरकार।

फिर न कोसना देश के सरकार को, न कहना नेता भष्ट्राचार है,
सोच समझ कर करना मतदान, वोट उसी को जो इसका शख्त हकदार हैं।

किसी ओर को देख के नहीं कि उसने क्या चुना है,
जो दिलाए देश को नई पहचान, उसे ही वोट देना हैं।

इस कुर्सी पर किसे बैठाना है,
इसका चुनाव हमें ही करना है।

जो देश के प्रत्येक नागरिक के मुश्किल में साथ,
अपनी पसंद से चुने सरकार यह अपने हाथ।

जब न आए कोई सरकार पसंद ,बटन दबाना नोटा पर,
लेकिन मतदान अवश्य करें यह अपना है अधिकार।

आज भी एक त्यौहार है,
मतदान करना अपना अधिकार है।

-


Show more
63 likes · 60 comments · 124 shares

अपने वतन के बारे में ...
कहीं हमारी एक चूक से ,
चला ना जाए गलत हाथों में...
सब मिलकर अपने ,
अधिकार का सम्मान करो ...
उठो अब ,सब मिलकर मतदान करो...

-


Show more
55 likes · 37 comments · 214 shares
Mahendra Inaniya 3 DEC 2018 AT 7:54

अपना वोट
और दिल की चोट
किसी को नहीं दिखाई देती

-


Show more
53 likes · 28 comments · 72 shares

अभी तक जिंदगी हमने अपने इन्हीं वसूलो पर जिया है🙏
विश्व शांति से बढ़कर कोई देश नहीं ...
अपने देश से बढ़कर कोई धर्म नहीं ...
धर्म से बढ़कर पिता (संबंध) नहीं ...
पिता से बढ़कर प्रेम नहीं ...
प्रेम से बढ़कर रूढ़ीवादी समाज नहीं ...
और समाज से बढ़कर स्वयं नहीं...

-


Show more
51 likes · 21 comments · 14 shares
Shivani Barot 21 APR AT 17:01

लोकतंत्र का त्यौहार है आप समझो अपना मताधिकार,
छोड़ आलस अब सुनो देश के भावी ने रखी है पुकार।

बड़ी बड़ी बातें करते हों, हर घड़ी उठाते हो सवाल,
सरकार की नियत है कातिल इन्सानियत हुई हलाल।

गरीबी, बेरोज़गारी, महंगाई, अस्वच्छता, निरक्षरता, भ्रष्टाचार,
हर तरफ तबाही का मंज़र है क्या यही है देश का उद्धार?

हमारी जनता राष्ट्र की अनगिनत समस्याओं से परेशान हैं,
आतंकवाद का मस्ला है और देश का सिपाही सत्ता का गुलाम है।

उम्मेदवारों के प्रलोभन में हर बार आप क्यों फिसल जातें हो?
अपने बच्चों की शिक्षा को इस कदर कोडियों के दाम कर जाते हो।

सैंकड़ों युवा बेरोज़गार हैं, कई गांवों में पानी-बिजली की तंगी है,
शहीदों के घर भी अंधेरा हैं, लाचार किसान आत्महत्या करता है।

आज भी देश की नारी असुरक्षित है, सड़कों पर बेटी की इज्ज़त निलाम है।
काले धन का न कोई अतापता हैं , बैंकों में रखी जमापूंजी अब लापता हैं।

आप पक्ष, विपक्ष या अपक्ष को चुनो पर सही उम्मेदवार को अपना मत दो।
जब कोई उम्मेदवार न भाए तो नोटा पर कर दो वार पर मतदान करों सरकार।

आप देश की सरकार को कोसते हों, पर वक़्त आने पर सही मतदान क्यों नहीं करते?
देश का वर्तमान जैसा भी है इसकी ज़िम्मेदार सरकार बाद में पर देश की जनता पहले है।

-


Show more
48 likes · 23 comments · 12 shares
YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App