QUOTES ON #दलाल

#दलाल quotes

Trending | Latest
7 APR 2018 AT 21:57

हर दुकां फिरा हूँ,जहॉ खुदा होने की अफ़वाह थी,
दाम बढ़ा दिये दलालो ने,ज़रूरत मेरी देखकर

-


20 FEB 2020 AT 12:31


जो सरकारी काम दर्जनों दिनों में
ना हों सका
इधर एक फोन क्या किया
" दलाल "को
उधर फट से वो काम हो गया

वाह रे रिश्वत
तेरा भी जवाब नही

मैंने देखा
भ्रष्टाचार का भी होता प्रचार है
लगता है
हर ऑफिस में एक दलाल है

-


9 JAN AT 6:06

***************************************
# 10-01-2021 # काव्य कुसुम # दलाली #
***************************************
अब वे श्मशान में भी दलाली खाये जा रहे हैं ।

दलाली खाकर होंठों पे लाली लाये जा रहे हैं ।

दाल में काला नहीं अब सारी दाल ही काली है-

दलाली देने वाले दलाल ही उन्हें भाये जा रहे हैं ।

-


5 MAY 2020 AT 20:40

सांग पाहुणा
आला कसा घरी...
आमंत्रण तर मी दिले नव्हते
कोणी ' कोरोना दलाल ' तर नाही...

-


21 DEC 2018 AT 0:31

अब तक जिनसे पूछते रहते थें, हम हाल चाल !... आज वे फिर निकल बैठें ,दलाल ! ... होके मशरूफ़ अपनी धून में,वो करते रहें हमें हलाल !..

-


27 APR 2020 AT 10:48

यूँ चश्मों से ना देखो मुझे
तुम्हारी नज़रों का प्यार
अटक जाता है दीवारों में।

धुंधला हो जाने दो मुझे
मत दो इसे तुम वो प्यार
जो मेरा है, तेरे दीदारों में।

सजा इन्हें ना डराओ मुझे
लत लग जाना करे बेकार
खींच प्रेम, ठहर नज़ारों में।

धुंधला हो जाने दो मुझे
कर के प्यार पे ऐतबार
फिर दिखूंगा स्पष्ट दीदारों में।

-


29 MAR 2020 AT 9:56

अब कहां है वो धर्म के निठल्ले दलाल,
जो आज अपना सिर भी नहीं रहे निकाल।
कल तक जो लड़ रहे थे अल्लाह राम पर,
अब क्यों नह करते है वो सवाल।

क्यों नहीं करते क्युकी ये इंसानियत की जंग,
ना हरा ना ही भगवा सिर्फ एक ही रंग।
हो तुम किसी भी धर्म के नहीं बच पाओगे,
गर यूं ही घूमते रहे बाहर हो कर बेफिक्र मलंग,

-


10 APR 2020 AT 0:23

झूठ को सच और सच को झूठ दिखाते हैं...।
ये झूठे कलम वाले आवाम को बरगलाते हैं...।।

बड़ा ही नाजुक रिश्ता है लोगों का लोगों से...।
ये टी.वी. वाले मुल्क को जहर की चाय पिलाते हैं...।।

बहुत फिक्र है इन्हें सरकारों के गिरने और गिराने की...।
ये मुल्क के दलालों को इन्सानों का मसीहा बतलाते हैं...।।

गरीबी,भूख,बेकारी और भी सवाल हैं जाने कितने...।
मगर ये मुल्क को मज़हबी खिलौनों से बहलाते हैं...।।

था कभी ऐतबार हमें इन खबरों के फनकारों पर...।
अब तो ये खबरों का धमाका री-मिक्स बनाते हैं...।।
📝AFसर©️

-


25 JUN 2019 AT 0:53

अबस है दलीलें
दलाल हुआ ज़माना !!
फ़रामोशी के शिकंजे
शैतान हुआ ज़माना !!

*अबस :- व्यर्थ *दलीलें :- तर्क

-


28 JUN 2019 AT 15:31

दिल्ली में दलाल है,
वो भी तो किसी माँ का लाल है,
जो बन गया दिल्ली में दलाल है.
पढ़ा-लिखा, जानकार कमाल है.
जो बन गया दिल्ली में दलाल है.
बनके दोस्त, आस जीत लेता है,
फिर तो वो विश्वास जीत लेता है.
बातों से सब खरीद- बेच लेता है.
देकर झांसा, वह पैसे येठ लेता है.
उसके सामने सरकार क्या नेता है,
पैसों के लिए सब कुछ कर लेता है.
रुपये ही उसका धर्म और इमान है.
सच कहूँ तो वो बड़ा अजीब इंसान है.
-mkm




-