Sushma Thakur   (❤️~ѕỖⓃ𝕌~❤️)
10.7k Followers · 32 Following

I am expressing my feelings which turn into quotes and poem💕
Joined 12 March 2019


I am expressing my feelings which turn into quotes and poem💕
Joined 12 March 2019
Sushma Thakur 12 MAY AT 13:37

ज़िन्दगी के हर पड़ाव से निकलने के बाद
हर मुश्किल का सामना करने के बाद
खुद को हौसला और हिम्मत देने के बाद
मार्ग में आई हर चुनौती का डट कर
मुकाबला करने के बाद
जानती हूँ मंज़िल अभी दूर है
फिर भी इस सफ़र में हर दुख
का आँसू पी कर भी जाने
कमी कहाँ रह जाती है।

-


Show more
103 likes · 4 comments · 1 share
Sushma Thakur 5 MAY AT 0:35

कभी कभी इतनी कोशिश के बाद भी रास्ता
नही मिलता।
दिन के उजाले में भी लोग रास्ता भटक जाते है
तो कुछ लोग रात के अंधेरे में भी अपनी मंज़िल ढूंढ लेते है।।
किसी ने सच ही कहा है कभी कभी ज़िन्दगी का रास्ता
नही मिलता।

-


Show more
132 likes · 12 comments · 4 shares
Sushma Thakur 26 APR AT 0:50

यादों का सफर था
जो उन हवाओं के साथ
गुफ्तगू कर मेरे मन को
फूलों की खुशबू सा
महका जाता।

-


Show more
154 likes · 10 comments · 8 shares
Sushma Thakur 22 APR AT 0:39

हो चाहे दुख की आंधी
या हो खुशियों की बहार
हर वक़्त एक जैसा नही रहता।
सृष्टि का यही नियम है परिवर्तन
वक़्त और हालात के साथ
और कभी कभी खुद को भी
पड़ता है बदलना।


-


Show more
164 likes · 13 comments · 4 shares
Sushma Thakur 13 APR AT 0:42

आज तक समझ नही पाई मेरे साथ गलत हुआ
या मैने खुद के साथ गलत किया????
हालत और वक़्त की रुसवाई ने मुझे मजबूर कर दिया
या खुद से दूर कर दिया????
मंज़िल की तलाश में खुद काफ़िर
बन गई या हालातो से समझौता कर लिया????
आज वक़्त और परिस्थिति मेरे पक्ष में हो या न हो
दोनों हालात में तक़दीर ने मुझे मजबूत बना दिया।
इस लम्हें की महफूज़ डोर को क्या नाम दूँ !!!
जिसने मुझे टूट कर भी वक़्त के साथ जीतना सीखा दिया।

-


134 likes · 15 comments · 10 shares
Sushma Thakur 12 APR AT 23:48

आज आँखे भर आई
महसूस हुआ कुछ तुम भी कहना चाहते थे
मगर जाने किस मजबूरी से बात दिल की
दिल मे ही रह गई।
तुमसे कहते हुए
सांसे थमने लगी मानो दिल की धड़कन
आवाज़ दे रही हो तुम्हे..... जाने क्या बात
थी जो तुम्हारे लबो पे आकर यूँ रुक गई
जैसे बादल के होते हुये भी बारिश का
अचानक से रुक जाना।

-


Show more
135 likes · 17 comments · 9 shares
Sushma Thakur 8 APR AT 12:59

शायद कोई था जिसने तुम्हारे इंतज़ार में
कई दिन रात महीने साल निकाल दिये
एक बार पलट कर देख लेते।
जिसकी तलाश में तुम ज़िन्दगी में आगे
ही बढ़ते चले गए।
क्या पता तुम पीछे ही किसी मोड़ पर
उसे छोड़ आये हो।
एक बार पलट कर देख लेते

-


Show more
196 likes · 9 comments · 14 shares
Sushma Thakur 8 APR AT 12:53

हम्म किसी से कोई वैर नही मुझको
बस कभी नाराज़ होती हूँ तो खुद से
लाख किया हो किसी ने मेरे साथ गलत
मगर सब कुछ वक्त के सहारे छोड़
और खुदा पे भरोसा रख आगे बढ़ती हूँ
सब ठीक हो जायेगा एक दिन यही
सोच कर हौंसला देती हूं खुद को
हम्म किसी से वैर नही मुझको


-


Show more
154 likes · 12 comments · 8 shares
Sushma Thakur 2 APR AT 2:01

ऐ वक़्त कुछ देर ठहर जा
अभी तक़दीर के पन्ने खाली है
आखिर तू भी तो जानता है सब
अभी कई किस्सों का एक होना बाकी है
चाहती हूँ थम जाए ये पल
जहां आसमां को ज़मी और
ज़मी को आसमां होना बाकी है।

-


207 likes · 21 comments · 12 shares
Sushma Thakur 22 MAR AT 23:41

कभी सच को बयाँ करती है तो कभी झूठ को
भी बयाँ कर देती है ।
कभी मौत का मंजर देख कर भी शांत रहती है
तो कभी छोटी सी खुशी से भी आंसू छलका देती है
कभी ये आंखे अपने टूटे हुए सपनो को बुनती है
तो कभी उन्ही आंखों पर खुशी की चमक होती है
कभी ज़िन्दगी की कशमकश में उलझा देती है
तो कभी ये आँखे हर दर्द खुशी से सह जाती है।
सच मे, ये आँखे बहुत कुछ झेलती है।

-


Show more
218 likes · 10 comments · 13 shares

Fetching Sushma Thakur Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App