Satvinder Singh   (𝕾𝖆𝖙𝖛𝖎𝖓𝖉𝖊𝖗)
128 Followers · 13 Following

read more
Joined 7 January 2020


read more
Joined 7 January 2020
31 MAR AT 20:51

Najaane us shakhs ko kaisa ye hunar aata hai,
Raat hoti hai to ankhoo main utar aata hai,
main us ke khyaal se niklu to kahan jaau,
wo meri soch ke har raste pe nazar aata hai.

-


17 MAR AT 17:02

कहना तो बहुत कुछ चाहता हूँ
तुझसे मगर कह कहाँ पाता हूँ
सच तो है जीना है तेरे बगैर
पर एक पल भी कहाँ रह पाता हूँ

-


15 MAR AT 21:54

अब तो डर-डर के दिन गुजारता हूँ,
पता नही तुम्हारा तुम किस दिन किसी और के हो जाओ !!

-


8 MAR AT 9:21

Happy international
women's day ♀🌹👩

-


7 MAR AT 21:51

तेरी यादों ने मुझे घेरा होता है

-


28 FEB AT 17:34

खुदसे मुझे अफसोस है
मन ही मन मैं अब बिखर सा गया हूँ
तुमसे अब क्या कहूँ
दिल भी अब मेरा खामोश है

-


27 FEB AT 20:55

आज फिर साथ अपने उनकी याद लायीं है
नजाने वो शाम कब आएगी
जब उनकी याद नहीं बल्कि वो खुद आयेगी

-


24 FEB AT 18:45

कौन हो तुम जो मुझपे हँसते हो
या फिर मुझे देखने को तरसते हो
मैं मंज़िल हूं और तुम गलत रास्ता हो
भूल थी मेरी जो तुम पे चल पड़ा
तुझको पाने को सब से लड़ पड़ा
भूल नहीं पा रहे हो या लगी दिल में आग है
फर्क नहीं तेरे हसने का अब मुझ पर
सुन लो यही मेरा सवाल है यही मेरा जबाव है......

-


22 FEB AT 21:01

तुझे इश्क़ लिखूं तुझे प्यार लिखूं ,
तुझको मैं अपना संसार लिखूं,
तुझे साथी बताऊं या परमेश्वर,
तुझे ईश्वर का उपहार लिखूं,
मुझे अश्क मिले तुझको खुशियां,
तेरे खातिर मैं अरदास लिखूं,
मैं राम कहूं तुम हो कान्हा,
मैं मीरा सा इजहार लिखूं,
सोचूं कुछ करूं कुछ और,
तुझको मैं हर बार लिखूं,
तुझे इश्क़ लिखूं तुझे प्यार लिखूं .....

-


22 FEB AT 16:27

इश्क़ वो भी करते हैं,
जिनकी मुलाकातें नहीं होती,
दूर रहकर भी,
अलग होने की बातें नहीं होती,
तुम्हें हर वक्त आसानी से मिल जाता हूं,
इसलिए मेरी अहमियत नहीं जानते,
उनसे पूछो हमारी अहमियत,
जिनकी गलियों में हमारे बगैर रातें नहीं होती।

-


Fetching Satvinder Singh Quotes