Saket Garg   (Saket Garg)
7.1k Followers · 418 Following

Blogger, Journalist, Writer, Social Activist
Joined 13 September 2016


Blogger, Journalist, Writer, Social Activist
Joined 13 September 2016
Saket Garg 13 SEP AT 12:15


YourQuote आया मेरी ज़िन्दगी में फ़रिश्ते सा
है लिखने का app पर जुड़ गया मुझसे रिश्ते सा

चैन-सुकून दिया, ज्ञान दिया, सम्मान दिया इसने
मुझे मेरी रूह का एक बिछड़ा हिस्सा दिया इसने

मुझ में खोये हुऐ मुझ को ढूंढने में मदद की इसने
मेरे बिखरे अल्फ़ाज़ को मुकम्मल शक्ल दी इसने

है दुआ ये यूँ ही बढ़ता रहे निरंतर प्रगति की ओर
जो बँधी है इसके मेरे बीच, कभी ना टूटे वो डोर

- साकेत गर्ग 'सागा'

-


Show more
221 likes · 18 comments · 3 shares
Saket Garg 22 AUG AT 15:37


टूट गयी उम्मीद मेरी, टूट गया मैं
मर गयी उम्मीद मेरी, क्यों नहीं मरा मैं

- साकेत गर्ग 'सागा'

-


(3:40 PM, 22 August, 2019)

#RandomMusings #उम्मीद #SaGa

91 likes · 8 comments · 1 share
Saket Garg 22 AUG AT 3:12

होकर 'धुँआ' फैल जाऊँगा, इस हवा में ही कहीं
मेरे 'अपने' ही मुझे जलाकर, 'राख' कर देंगे

- साकेत गर्ग 'सागा'

-


3:10 AM, 22 August 2019

89 likes · 7 comments · 1 share
Saket Garg 20 AUG AT 16:25

वो क्या बदले, वक़्त भी बदल गया मेरा
ना वो रहे मेरे, ना यह वक़्त रहा मेरा

- साकेत गर्ग 'सागा'

-


76 likes · 6 comments
Saket Garg 19 AUG AT 13:00


नहीं!
उस जिस्म की
नहीं है प्यास मुझको

बस उस जिस्म से लिपटकर
एक बार सुकून से
रो पाऊँ

इतनी सी आस है मुझको

- साकेत गर्ग 'सागा'

-


72 likes · 7 comments · 2 shares
Saket Garg 8 AUG AT 12:09

वो जो इस तपती सुलगती
बंजर-सी सूखी-सी
ज़मीन को
है ना

दूर
मीलों दूर
उन काले बादलों में
दुबकी छुपी-सी बैठी
उस नन्ही-सी बारिश की बूँद से

हाँ
हाँ! मुझे 'वही' है तुमसे

आज भी
बस वही है तुमसे

- साकेत गर्ग 'सागा'

-


62 likes · 6 comments · 1 share
Saket Garg 5 AUG AT 1:51

रोज़-रोज़ मैं माँगू
तुझसे माँगू
क्या-क्या मैं माँगू
क्यों मैं माँगू
ऐ ख़ुदा

सुन
तू तो बस
अब मुझे
जो भी दे दे
जैसे भी दे दे

'बेहिसाब' दे दे

- साकेत गर्ग 'सागा'

-


Show more
71 likes · 4 comments · 2 shares
Saket Garg 4 AUG AT 18:42

तुम्हारे माँ-बाप,
रिश्तेदारी,
दुनियादारी
के मना करने पर भी,
अगर उसके दोस्त हो तुम

तो सुनो,
उसके 'दोस्त' हो तुम!

- साकेत गर्ग 'सागा'

-


Show more
74 likes · 5 comments · 5 shares
Saket Garg 3 AUG AT 21:40

पुरानी तस्वीरें कभी, पुरानी नहीं होती
जो उन्हें देख बहे आँखों से, वो बूँदे पानी नहीं होती

बीती ज़िंदगानी का एक, अदद हिस्सा हैं वो होती
पुरानी तस्वीरें महज, 'याद-दहानी' नहीं होती

- साकेत गर्ग 'सागा'

-


75 likes · 5 comments · 7 shares
Saket Garg 3 AUG AT 1:58

मेरी पेशानी पर रहती है, 'बेचैनी' आजकल
मेरी पेशानी को वो, 'चूमती' नहीं आजकल

- साकेत गर्ग 'सागा'

-


78 likes · 10 comments

Fetching Saket Garg Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App