Prasoon Vyas   (प्रसून व्यास)
14.1k Followers · 349 Following

Corporate Banker by profession.
Technically, Not a poet or writer.
Joined 2 September 2016


Corporate Banker by profession.
Technically, Not a poet or writer.
Joined 2 September 2016
7 JAN AT 11:38

पहले लिखता था तो लोग शरमा जाते थे,
अब लिखूंगा तो वे लोग शर्मिंदा होने लगेंगे...

-


27 SEP 2020 AT 9:14

Paid Content

-


12 AUG 2020 AT 8:53

तेरा यूँ रूख़सत हो जाना कोई राहत की बात नहीं थी,
मगर शायरी को कुछ लोग और भी बूढ़ा समझने लगेंगे..

-


8 JUL 2020 AT 9:38

आईने खत्म हो रहें हैं दुनिया में आजकल,
खर्च करने वाले अब इंसान ही ख़रीद लेते हैं...

-


7 JUN 2020 AT 18:37

तल्खियों को समेटकर कहीं फेंक दिया है मैने,
बिखरा हुआ घर आखिर किसे अच्छा लगता है...

-


2 JUN 2020 AT 12:34

वक्त इस कदर अपना हो चुका है मेरा,
फरेबी पर भी अब वाहवाही मिलने लगी है..

-


16 MAY 2020 AT 22:46

भूखे बच्चों के आगे वो मज़बूर हो गई,
पत्थर की वो आँखें आज मज़दूर हो गई..

-


11 MAY 2020 AT 20:08

बहुत दिन हुए सुकूँ से रोटीयाँ नहीं खाई,
अब मैं खुद को शहर की हवा नहीं लगने दूँगा...

-


10 MAY 2020 AT 21:28

बहुत कम वक्त मिला है तुम सबको ये जताने के लिए,
बस एक इतवार ही मिला है अपनी माँ को मनाने के लिए...

-


10 MAY 2020 AT 15:54

अब नहीं सुनूँगा मैं दलीलें मंदिरों और मस्ज़िदों की,
एक बीमारी ही क़ाफी है लोगों की औक़ात दिखाने को..

-


Fetching Prasoon Vyas Quotes