Pramar ❤   (अmar | ✓𝕻𝖗𝖆𝖒𝖆𝖗 ♥️)
14.3k Followers · 12 Following

read more
Joined 25 December 2018


read more
Joined 25 December 2018
9 MAY AT 11:23

तुम दुलारे
हर नयन में बसे
भोले हृदय हो तुम
मेरे हर धड़कन में तुम

परिभाषा हो
तुम सुंदरता की
मेरी मुस्कुराती माँ हो तुम
प्यारी माँ की आँखों में तुम

स्नेह तुम्हारी
हर बात में है
पिता का डांट फटकार हो तुम
पुचकार प्यार दुलार में तुम

कोमल हृदय
दया की छवि तुम्हारी
सागर सा गहरा प्रेम हो तुम
ममता की आँचल मेरी माँ हो तुम

-


9 MAY AT 10:08

सुनो!
चलो एक काम करो अब
आईना उठाओ और अपनी भद्दी सी शक्ल देखो
-------------------------------------------------
अरे बाबा सुनो तो!
चलो अब फ़िर से एक काम करो
आईने में अपनी शक्ल की जगह 'माँ' को निहारो

देखो अब मुस्कुरा न देना :)
Happy Mother's Day 🙏

-


8 MAY AT 19:51

वो दौर था!
जब नींद उड़ी थी।

है वक़्त आया!
जब आँखे नही खुलती।

#LOCKDOWN
//F?@K CORONA//

-


7 MAY AT 19:34

ताज्जुब बैठे हैं
की आज कभी आईना ना दिखा

बड़ी मुश्किल से
सुकूँ फुर्सत मिली कि ग़म ना मिला

-


7 MAY AT 15:59

सुनहरा हुआ है आज आसमा
कोई रंग अब इसमे क्या ही भरे

राग सुरीली बड़ी मीठी है आज
कोई बातें बनाए तो भी क्या ही करे

लिपट कर देख लो उस बड़े नीले चादर में
ये कोहरे सताये फिर अब क्या ही करे

बेचैन वक़्त भी थम गई है देखो
दिल मुसकूराए मचल जाए तो अब क्या ही करे

ओढ लिया है आज सारा गगन फ़िर मैंने
ये जग भुल जाए तो भी क्या ही करे

ना फुर्सत है अब ग़म की कह दो
हँसी ख़ुशी जीवन बीत जाए तो फिर क्या ही करे

बड़ा रख तू दिल ये अपना
मुस्कुरा कर नज़रें झुकाए तो फ़िर क्या ही करे

दिल बहला कर जी लो प्यारे
जग सताये रुलाए तो भी क्या ही करे

-


3 MAY AT 20:12

रोज़ाना!
रूख तो बदला करती हैं तारें
कभी!
मौसमी हाल-ए-बयाँ भी पूछा करो

सौ सौ बार!
दिल-ए-चाँद में हरक़तें होती हैं
गुरूर गुस्से में!
बेचैन बादलों से तबियत भी पूछ लिया करो

-


8 MAR AT 7:32

एक
तेरी शरण में
हैं सब सुख मिले
और कोई जगह
मुझे रास ना आया

जबसे
तूने हाथ थामा
मुझे पहचान है मिली
तेरे नाम से हरसू
मुख मुस्कान है आया

-


7 MAR AT 22:21

अब तो बस,
सो जाना है इसे।
की मुलाज़िम है!
अब बहुत रतजगा हो गए।

मन के,
थक चुके हैं बहुत।
रूठना लाज़मी है!
की नींद भी अब थक गए।

कतरा कतरा पिरोया,
है अरमानों को पसीने से।
प्यास बहुत है!
आ आगे बढ़ चले टूटे अरमा ये कह गए।

हाँ हँसते हँसते,
चुप हो जाना है इक दिन।
की खबर मिली है!
ये रात भी अब जागते जागते सो गए।

-


7 MAR AT 20:03

about cursed feelings,
her fear of fake and liars.

-


7 MAR AT 19:56

Meditation & Self-love

-


Fetching Pramar ❤ Quotes