Pradeep kr   (वज़ीर)
1.8k Followers · 5.8k Following

read more
Joined 9 November 2018


read more
Joined 9 November 2018
20 NOV AT 16:14

तू महज़ पहला नहीं... तू वो आखिरी गैर था
जिसके जाने पर रोया था मैं...!!💔

-


19 NOV AT 12:29

इस कदर तुम सबसे दूर हो जाना है मैंने
इक दिन नींद में मशरूफ हो जाना है मैंने ।

-


9 NOV AT 16:49

ख्वाब कहीं ये टूट न जाए अंगड़ाई से डर लगता है
तन्हाई के बाद मुझे अब तन्हाई से डर लगता है ।
वो चाहती है डूब के उसकी, मैं आंखों में देखूं लेकिन
उसे नहीं मालूम के मुझको गहराई से डर लगता है ।।

-


2 AUG AT 12:49

गलत ! गलत है
चाहे उसे करने वाला भगवान ही क्यों न हो...।।

-


2 AUG AT 7:41

"शायर"

हिजरत भी अच्छी थी आमद अच्छा था
मैं जानता हूं वो शख्स बेहद अच्छा था

जो मेरे साथ हुआ तुम सुनकर रो दोगे
मैं मान नहीं सकता के मकसद अच्छा था

हम दोनों को मालूम था तय है हिज्र मगर
करते राब्ता दोनों तो शायद अच्छा था

बुरा कुछ भी लिखा मैने हो तेरे बारे में
जनाजे में कहोगे तुम के 'शायर' अच्छा था

-


30 JUN AT 18:12

मुझसे पूछता तो मैं खुद बता देता हूं दोस्त
मुझमें कमियां ढूंढकर वक्त ज़ाया किया तूने ।।

-


23 JUN AT 18:13

उसने कहा,"दुश्मनी करनी है",
मैने कहा,"सोच ले..!!
मैं वो गिद्ध हूं जो शेर की आंखें नोच ले ।।

-


15 JUN AT 19:27

मुझे खबर है की उसको खबर है मेरी
ये भी के अब ज़िंदगी मुख्तसर है मेरी ,
इसलिए भी नहीं आ रहा मुझको लेने शायद
यमराज जानता है उसकी नौकरी पर नज़र है मेरी !

-


13 JUN AT 21:46

आंख खुली तो देखा मैने, वो सपना था है सपना ही
मेरे अंदर झांकके देखो, कत्ल कर चुका हूं मैं अपना ही...

-


9 JUN AT 6:40

मैं कबतक कर सकता था यार इंतज़ार तेरा
हद की भी आखिर एक हद होती है ।।

-


Fetching Pradeep kr Quotes