Peeush singh ( vishu)   (😊diary of _Peeush_🤔)
1.1k Followers · 23 Following

read more
Joined 15 April 2019


read more
Joined 15 April 2019
Peeush singh ( vishu) 7 DEC 2019 AT 8:32

बो तो दी खेतों में फसलें किसानों ने भूख के मामलों में,
और अभी तो जवां भी नहीं हुए थे पौधे मसल दिए बादलों ने,
वर्षाए हैं नमक मुझपर दर्दभरे मेरे क्यों मलालों में,
लगता है हमें तड़पाने की रिश्वत दे दी तुम्हे दलालों ने,

-


Show more
66 likes · 12 comments · 2 shares
Peeush singh ( vishu) 1 DEC 2019 AT 11:15

इन बादलों को बड़ी ही जलन है मुझसे
मैंने कच्चे मकां क्या बनाए बरसने लगे

-


Show more
119 likes · 12 comments · 1 share
Peeush singh ( vishu) 24 NOV 2019 AT 9:01

मैं जिंदा लाश बनकर रह गया तुम्हारे दिल की मीनारों में ,
कश्तियां डूब गईं समुंदर में और साथ छोड़ दिया किनारों ने ,
खिल गए फूल तुम्हारी बगिया के यहां तो पतझड़ है बहारों में ,
सींचता था मै तेरे ख़्वाबों को बस तेरे थोड़े ही इशारों में ,
सूख गईं डाली मेरी सबके घर हरियाली फिर भी खुश हूं इन नजारों में ,
मै जिंदा लाश बनकर रह गया तुम्हारे दिल की मीनारों में ।।

-


138 likes · 16 comments · 1 share
Peeush singh ( vishu) 21 NOV 2019 AT 20:28

मेरे ख्वाब तो अब बूढ़े होने लगे,
वो भी रो कर मुझसे यूं कहने लगे,
दफना दो मुझे इसी अपने दिल में
पता है सजाते,रिझाते तुझे कितने जमाने लगे,

-


🤔😟😍 ख़्वाब💖😍🤗
#ख्वाब #peeush #khwav #yqbaba #ydidi #life #love

179 likes · 22 comments
Peeush singh ( vishu) 18 NOV 2019 AT 17:20

कौन कहता है कि बीता हुआ वक्त वापस नहीं आता
अरे सुन मेरे ख्वाब आज फिर से जवां हो गए

-


200 likes · 9 comments
Peeush singh ( vishu) 7 NOV 2019 AT 21:48

तुम्हारे शहर में तो घटाएं ही घटाएं है /
हमारे गांव में तो बारिशें हुआ करतीं है //

-


Show more
239 likes · 22 comments
Peeush singh ( vishu) 29 OCT 2019 AT 15:04

तमाम रात नहाए इस शहर की बारिश में
कमबख्त वो गांव वाला रंग ही नहीं उतरा

-


Show more
271 likes · 26 comments · 1 share
Peeush singh ( vishu) 24 OCT 2019 AT 8:47

देख कर उनकी आंखे , टूट पड़ती थी घटाएं
अब वो पानी के लिए भरी बरसात तड़पते है

-


☁️ ⛈️🌩️💦🌈 👨‍👧🏃🏃‍♀️
#collab #attitude #life #peeush

263 likes · 12 comments · 1 share
Peeush singh ( vishu) 21 OCT 2019 AT 10:37

जब समंदर रूठ गया और
साहिल भी ढह गए,
कश्तियां भी डूब गई
और परिंदे भी उड गए,
बदलना चाहता था रूह
खता हुई क्या हमसे
क्यों बस मुझे ही छोड़ गए,
😢🅿️😭

-


Show more
268 likes · 17 comments · 1 share
Peeush singh ( vishu) 17 OCT 2019 AT 22:46

वो चांद है चांद को निहार रहा है
दिल, आसमां के बगीचे में विहार रहा है
कहीं बिखरे फ़ूल की पंखुंडी संभार रहा है
वो बर्फ होकर भी कहीं पत्थर घोर रहा है
वो चांद है चांद को निहार रहा है

-


Show more
282 likes · 16 comments

Fetching Peeush singh ( vishu) Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App