6 OCT AT 20:44

आज अहसास हो रहा हैं की...
घर था वही अच्छा था,
जब से मकान बना हैं उसकी लगती दिवरो ने रिश्तो में दूरिया बढ़ा दी हैं।
सबके अलग कमरों ने कब सबको अलग कर दिया पता ही नहीं चला।
"दिवारे लगती गई हम दूर होते गए"
🙃🙃🙃

- It's_me_nobita🙃😉