Nikki Prabha Tiwari   (Nikki Prabha (लफ़्ज़_बनारसी))
5.8k Followers · 51 Following

read more
Joined 30 January 2017


read more
Joined 30 January 2017
Nikki Prabha Tiwari 27 JAN AT 2:11

#उदासी

दर्द छुपाने की कोशिश में,
मुस्कुराते हुए हम,
बस ये उम्मीद लगाए रहते हैं,
कि कोई आखें पढ़ ले,
और पूछ ले..
"बताओ, बात क्या है?"

-


93 likes · 10 comments · 12 shares
Nikki Prabha Tiwari 4 JAN AT 22:26

सुन, बैठ यहीं, अरे कहां जाएगा,
वो घरौंदा तेरा नहीं, क्यों वहां जाएगा।।

क्यों बिलखता है महज़ एहसास है ये,
दर्द तेरा आख़िर तुझमें ही समा जाएगा।।

बनाना है गर तो जिगर को पत्थर का बना,
फूल बनेगा तो पैरों तले रौंदा जाएगा।।

कोई नहीं होता यहाँ वक़्त आने पर अपना,
ये वक़्त आते ही वक़्त तुझे बता जाएगा।।

पड़ने लगे हैं प्रेम में, इक डाल के दो पंछी,
सुना है कल इस पेड़ को काटा जाएगा।।

-


कुछ अधूरी पंक्तियां..

103 likes · 26 comments · 1 share
Nikki Prabha Tiwari 11 NOV 2019 AT 16:55

ऋतु वसंत सा होने को लपेटती हूँ कई रंग नकली खुद पर,
और दिखावों इन रंग के भीतर, टूटती हूँ हर रोज़ पतझड़ सी मैं।।

-


81 likes · 7 comments · 10 shares
Nikki Prabha Tiwari 10 NOV 2019 AT 12:55

आसमां छू लेता है जमीन को, दूर किसी कोने में, हर किसी की नजरों से छुप कर,
कुछ इसी तरह पूर्ण होता है शायद प्रेमियों का प्रेम।।

-


प्रेम

67 likes · 6 comments · 13 shares
Nikki Prabha Tiwari 3 NOV 2019 AT 16:21

लफ्ज़ मुश्किल होने लगे जो तारीफ को तेरी,
मैंने आसान तरीका सोचा, तुझे मोहब्बत लिख दिया।।

-


77 likes · 6 comments · 8 shares
Nikki Prabha Tiwari 28 OCT 2019 AT 14:09

#बिंदी #

आईने पर माँ,
हर रोज़ चिपकती हैं,
एक बिंदी।
और वो बिंदी दे जाती है,
निशानी बीते दिन की,
कुछ खट्टी-मीठी यादों की,
माँ की सरलता
और सहजता की।
पिछले ज़माने में
शायद ऐसे ही,
बनाई जाती थी,
बीते दिनों की तस्वीरें,
और कर लिया जाता था,
उन्हें कैद, आइनों में।।

-


83 likes · 6 comments · 4 shares
Nikki Prabha Tiwari 20 OCT 2019 AT 19:35

कड़ी मशक्कत से यारों मिलता है हीरा,
आसानी से तो केवल पत्थर मिलते हैं।।

-


86 likes · 7 comments · 10 shares
Nikki Prabha Tiwari 6 OCT 2019 AT 22:33

मीचो आँखें, उसे याद कर, तुम इबादत करो ज़रा,
जो छुप कर सपनों में आता है उसकी खुशामत करो ज़रा।।

लहराती हैं लटें, हवा सहला कर उनको इतराती है,
छू कर तो देखो तुम भी उनको, अब शरारत करो ज़रा।।

फिर करो आँखें चार, की बातें आँखों ही आँखों में हों,
लफ़्ज़ों का मोल भाव भी हो, अब तिजारत करो ज़रा।।

उसके बाद कभी हँसी, और कभी कभी हो नाराज़ी,
अपने मन से कब तक अनबन अब उनसे शिकायत करो ज़रा।।

दे भी दो दिल को आज़ादी, बैर की कड़ी बेड़ियों से,
कब तक रखोगे दिल में नफ़रत, अरे मोहब्ब्त करो ज़रा।।

-


मोहब्बत करो ज़रा।।
#मोहब्बत

71 likes · 8 comments · 4 shares
Nikki Prabha Tiwari 2 OCT 2019 AT 14:44

वो मोहब्बत खोजने कहाँ से कहाँ जाते हैं,
कदमों के निशान उनके जहाँ हम वहाँ जाते हैं।।

कब तलक भटकेंगे हम-तुम यूँ अधूरे से,
पूरा करें खुद को, चलो, इक दूजे में समा जाते हैं।।

वो पढ़ने की कोशिशों में मेरे लबों की खामोशी,
इशारे नज़रों के मेरे सब कुछ कर बयां जाते हैं।।

छोड़ दिया हमने भी मंदिर मस्जिद में जाना,
ख़ुदा से करने इल्तेजा वहाँ ना-तवां जाते हैं।।

कचहरी में इंसाफ का पलड़ा पहले से नहीं,
सच कोई नहीं कहता अब, वहाँ बेज़ुबां जाते हैं।।

-


#मोहब्बत #ज़िन्दगी

ना-तवां - कमज़ोर

76 likes · 6 comments · 3 shares
Nikki Prabha Tiwari 29 SEP 2019 AT 23:54

वो आँखें,
जिनमें एक स्त्री
लिए रहती है,
हर किसी के लिए
इज़्ज़त और मोहब्ब्त।।

(अनुशीर्षक में पढ़ें..)

-


Show more
102 likes · 12 comments · 3 shares

Fetching Nikki Prabha Tiwari Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App