Nehal 'Vishrut'   (Neha 'विश्रुत'❇️)
2.2k Followers · 129 Following

read more
Joined 25 March 2019


read more
Joined 25 March 2019
Nehal 'Vishrut' YESTERDAY AT 11:13

.....
...
कुछ फूल
खिलकर
मुरझा जाते हैं
तो कुछ
प्रभु चरणों में
अर्पित होकर
परम सद्गति को
प्राप्त हो जाते हैं
......
....
जानते हो
'प्रेम को हम'
नहीं चुनते
...
अपितु
"प्रेम द्वारा हम"
चुने जाते हैं ।।
🌷🌸🏵️🌹

-


Show more
66 likes · 55 comments · 1 share
Nehal 'Vishrut' 24 FEB AT 17:25

कवि के अहसासों की मीठी छुअन
और कलम की नोंक की तीखी चुभन
.....
गुज़रता है
काग़ज़ जब
.....
प्रसव की पीड़ा
जैसे
इस अनूठे,
अनमोल दर्द से
......
.....
तब शायद
जन्म होता होगा
...
एक "प्रेम कविता" का !!

-


Show more
93 likes · 67 comments · 1 share
Nehal 'Vishrut' 23 FEB AT 17:34

जब कोई आपको टेस्टीमोनियल दे...
तो आपका उसको बदले में
झट से टेस्टीमोनियल पकड़ाना....
👇👇👇👇👇👇👇👇

-


Show more
72 likes · 43 comments
Nehal 'Vishrut' 22 FEB AT 18:53

🧣बैंगनी दुशाला🧣
जन्म मरण से मुक्ति
-----------------------

इस संसार से
मेरी विदाई होते वक़्त
देखो याद रखना तुम
किंचित भी भूल न जाना तुम
......
और
.....
ओढ़ा देना मुझे वो
बैंगनी दुशाला
जिस पर मोह के
मोटे धागे से
बुना था जाल
मैंने अपेक्षाओं का...

(पूर्ण रचना अनुशीर्षक में)

-


Show more
109 likes · 85 comments
Nehal 'Vishrut' 21 FEB AT 10:06

हे महादेव, हे शिव
....
मैं जीव, हूं मैं भी शिव
मगर शिव, हो तुम सदाशिव
....
तप तपस्या तारक
तेज तृप्ति त्रिपुरांतक
त्याग तत्परता त्रिलोकेश
तारुण्य तीर्थरुप त्र्यम्बकेश
....
हे महादेव, हे शिव
....
मैं जीव, हूं मैं भी शिव
मगर शिव, हो तुम सदाशिव।।

-


Show more
118 likes · 61 comments · 4 shares
Nehal 'Vishrut' 19 FEB AT 19:07

...
कुछ यादों को
हम सहेजकर
रखते हैं
...
और
...
कुछ यादें
हमें समेटकर
रखती हैं !!

-


Show more
106 likes · 38 comments · 1 share
Nehal 'Vishrut' 19 FEB AT 8:06

...
सुनो
...
आज आटे संग
तुम्हारे लिए
अपने अहसास
गूंथ दिये हैं मैंने
....
...
रोटी
मीठी लगे ग़र,
तो प्लीज़
उलाहना
मत देना !!

-


Show more
125 likes · 65 comments · 1 share
Nehal 'Vishrut' 18 FEB AT 20:44

..और जब जब
भोर का सूरज
आकाश की मांग में
स्वर्णिम सिन्दूर
सजाता है
...
...
बादल का
हर टुकड़ा
आईने में
खुद को देख
शर्माता है..!!

-


Show more
104 likes · 67 comments · 2 shares
Nehal 'Vishrut' 18 FEB AT 19:22

लोग खोजते हैं मुझमें तुम को
मैं खोजता हूं खुद में मुझ को !

-


Show more
110 likes · 37 comments · 1 share
Nehal 'Vishrut' 17 FEB AT 19:57

प्रेम ऐसी फ़सल है
जिसका बीज
रोपित होते ही,
खेत, उसी क्षण
पैदावार से
लहलहाने लगता है!

-


Show more
90 likes · 47 comments · 3 shares

Fetching Nehal 'Vishrut' Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App