Neel Kamal   (नील कमल)
145 Followers · 10 Following

read more
Joined 20 August 2018


read more
Joined 20 August 2018
Neel Kamal 14 SEP AT 9:43

बिना मिले मुझसे
जब तुम, मेरे शहर से गुजरती हो
तुम क्या जानों
मेरे दिल पर क्या गुजरती है ?

-


Show more
22 likes · 2 comments
Neel Kamal 10 SEP AT 14:04

कॉलर पर छूटे लिपस्टिक के दाग,
पीठ में धँसकर टूटा नाख़ून

सब बेच देते हैं बाजार में
मोहब्बत में हारे हुए लोग ।

-


17 likes · 4 comments · 3 shares
Neel Kamal 25 JUL AT 16:50



... किसी और के हिस्से आए जो ज़ुर्रत,
इल्जाम वो मुझे दे दो, मैं क्या कम बुरा हूँ ?

-


18 likes · 8 shares
Neel Kamal 13 JUN AT 11:04

फुर्कत पूछती है
सिगरेट चुनूँ,
शराब
या बस मर ही जाऊं अब ?

मन कहता है -
जिंदा रहने को तुम्हारा ख़ुमार ही काफ़ी है  ।

(* फुर्कत = जुदाई, ख़ुमार - नशा )

-


32 likes · 5 comments · 5 shares
Neel Kamal 12 JUN AT 9:16


गली के मोड़ पर वो जो मेंहदी का पेड़ है
आज से चौदह साल पहले
उसे इसी मेंहदी के पेड़ को लगाते देखा था ।

एक रोज
मेंहदी के सारे पत्ते नोचकर
उसकी हथेलियों पर सजा दिए गए

मेंहदी ठूंठ पड़ा है तब से
तब से मेरा मन भी .....

-


30 likes · 4 comments · 9 shares
Neel Kamal 11 JUN AT 15:45

एक तिल उग आया है
मेरे कांधे पर

तुम्हारे अलविदा कहकर जाते वक्त
यह चिपक गया था मुझसे शायद

जैसे बिंदी चिपकी रह जाती थी तुम्हारी
हर सुबह मेरे सीने पर

तुम नही हुईं
ये तिल तो उम्र भर के लिए होते हैं न ?

-


917 likes · 28 comments · 18 shares
Neel Kamal 14 FEB AT 13:00

***
मैंने एक कहानी लिखी
सबने सराहा

उसने बस आह भरकर कहा -
"काश ! यह एक कहानी होती"
***

-


134 likes · 17 comments · 3 shares
Neel Kamal 26 OCT 2018 AT 18:48

***
गुदवा दो अगणित शिलालेख,
लिखवा दो अनेक ग्रन्थ,
या खड़े कर दो असंख्य संगमरीमरी महल

पर तुम्हारी तमाम कोशिशों के बावजूद
अंत तक
पृथ्वी पर बस बचेंगी
तितलियों द्वारा चूमी गयी
फूलों की पंखुड़ियाँ

***

-


44 likes · 15 comments · 8 shares
Neel Kamal 25 OCT 2018 AT 23:57

***
तुम राधा रही होगी,
या मीरा
या मेरी असंख्य प्रेमिकाओं में से कोई एक

मैं नहीं जानता
तुम कौन थी ?

पर तुम्हारे प्रेम ने
मुझे कृष्ण बना दिया ...

***

-


55 likes · 2 comments · 4 shares
Neel Kamal 24 OCT 2018 AT 11:56

"ढक्कन"
..............

जाते-जाते
कितनी जोर से बन्द कर दिया है तुमने
मेरे दिल का ढक्कन ,
कितना भी दम लगा ले कोई
ये खुलता ही नहीं !

आ सको जो कभी इधर
अपने पल्लू से पकड़
ये ढक्कन, जरा ठीला कर जाना,
लोगों को आवाजाही की गुंजाइश मिल सकेगी।

बन्द से इस कमरे में , तन्हा
अब बहुत घुटन होती है यार !

-


22 likes · 2 comments · 4 shares

Fetching Neel Kamal Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App