NASAR   (©NASAR)
21.7k Followers · 108.9k Following

read more
Joined 25 July 2017


read more
Joined 25 July 2017
20 SEP AT 23:27

जो कल मेरे अपने थे,
वो आज मेरे सपने है।

-


12 APR AT 6:23

खुदा का लिखा फरमान बन जाओ,
छोड़ो रंजिशें अब इंसान बन जाओ।

-


11 APR AT 23:43

सुरमई आंखो में, जलते आफताब देखें हैं,
उसकी आंखों में हमने,कई ख़्वाब देखें हैं।

-


7 FEB AT 0:43

'सम्मान' एक ऐसी मिठाई है,
जो सबको हजम नहीं होती।

-


18 JAN AT 0:25

जो लौट आया वो अपना,
जो चला गया वो सपना!

-


17 JAN AT 22:08

कश्मकश में हूं,क्या करूं!
मैं जियूं या तुम पर मरूं।

-


21 DEC 2020 AT 19:32

साथ रहकर ज़ख्मों की, मुकम्मल जगह ढूंढ़ता हैं,
जिसे बदनाम करना होता है,वो बस वजह ढूंढ़ता हैं।

-


20 DEC 2020 AT 1:24

गंदगी से निजात पाना चाहते हैं,
तो गंदगी में उतरना ही पड़ेगा !

-


4 DEC 2020 AT 5:20


मुझे बदनाम करके तुम क्या पाओगे,
देखना एक दिन बहुत पछताओगे!

-


20 NOV 2020 AT 20:37

इंकलाब चाहिए सबको 'घरों में बैठकर',
बदलाव चाहिए,भगवान भरोसे रहकर!

-


Fetching NASAR Quotes