Munmun Sahu  
2.6k Followers · 2 Following

read more
Joined 26 January 2018


read more
Joined 26 January 2018
Munmun Sahu 29 MAY AT 5:45

आँखों से कोहरा हटा कर देख लो
ज़िंदा हे हम
यूँ मुर्दा समझ कर ज़िंदा दिल में कफ़न ना डाल के चले जाना।

-


Show more
33 likes · 3 comments
Munmun Sahu 24 MAY AT 10:19

....

-


39 likes · 4 comments
Munmun Sahu 16 APR AT 2:02

....

-


49 likes · 3 comments
Munmun Sahu 2 APR AT 8:42

....

-


#Hppy Ram navami #Jai Sri Ram

93 likes · 10 comments · 1 share
Munmun Sahu 15 MAR AT 19:14

If ‘f ‘ is missing
Then it becomes lie...

-


Show more
90 likes · 14 comments · 2 shares
Munmun Sahu 27 DEC 2019 AT 17:32

मसखरा को इतना कम मत समझना, तास के बाज़ी में एक बार हाथ लग गए तो ,बादसाह की एहमियत को कम कर देती है।

-


95 likes · 3 comments
Munmun Sahu 15 DEC 2019 AT 8:23

रेत और बरसात का रिश्ता बहुत दुरी का है,
तो क्या रेत को प्यास नहीं लगती?
रेत और समंदर का रिश्ता बहुत नज़दीकी का है,
फिर भी समंदर उसका प्यास न बुझा पाती।

-


131 likes · 15 comments
Munmun Sahu 15 DEC 2019 AT 6:40

न वो कभी हाल पूछते है, न ही कभी हाल बताते हैं,
हम फिर भी कहते हैं ,पसंद हो आप हमें।

-


115 likes · 18 comments · 2 shares
Munmun Sahu 15 DEC 2019 AT 6:08

रौशनी से ज्यादा तो हमे अंधेरों से लगाव है,
रौशनी तो हमे आसमान को देखने न दिया, और अंधेरों ने हमे आसमान से मोहब्बत करवा दिया।

-


100 likes · 9 comments
Munmun Sahu 14 DEC 2019 AT 18:53

He did not have a home..
So he started living in my poem....

-


147 likes · 22 comments · 3 shares

Fetching Munmun Sahu Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App