Munish K Attri   (Munish K Attri)
22.4k Followers · 397 Following

read more
Joined 29 September 2017


read more
Joined 29 September 2017
Munish K Attri 22 JAN AT 20:04

जब झुर्रियां पड़ जाएगी,तब भी यूँ ही चूमा करूंगा तुम्हे
मै मेरी ख्वाहिशों को मरने और तुम्हे बूढ़ी नहीं होने दूँगा

-


249 likes · 75 comments · 3 shares
Munish K Attri 21 JAN AT 19:16

मैं तुम्हारा हूँ , मुझे इसका एहसास दिलाया कर
मुझसे ज्यादा मुझपर, तू अपना हक जताया कर

बात जो भी कहूँ,आसानी से न माना कर
नख़रे दिखाया कर , मुझे खूब सताया कर

अकेलापन खा न जाए हर पल पाकर अकेला मुझे
ख़ल्वत में ख़लल डालकर ,मेरी तन्हाईयाँ भगाया कर

मगरूर , गुस्सैल लहज़े को मेरे, हवा में उड़ाया कर
अपनी शरारती,नटखट बातों से मुझे खूब हंसाया कर

मेरी अनकही सुना कर , ज़ुबां पर न जाया कर
देखकर आँखों में, मेरी प्यास समझ जाया कर

थोड़ा नासमझ हूँ मैं , इश्क़ के मामले में
आँखों से पिलाकर मुझे इश्क़ सिखाया कर

सीने में दफन है मेरे बारूद मोहब्बत का
बन कर शरर मेरे इर्द-गिर्द मंडराया कर

-


Show more
215 likes · 69 comments
Munish K Attri 20 JAN AT 19:05

वो जो मेरी "जिंदगी" थी ना,किसी ओर की हो गई
अब मेरी "मौत" मेरी हो जाए, तो कमाल हो जाए

-


247 likes · 61 comments · 2 shares
Munish K Attri 19 JAN AT 18:58

जब तक जिंदा हूँ मुझे अपने दरिया-ए-इश्क़ में डूबा रहने दे
कि जब लाश हो गया तो खुद ही आ जाऊँगा किनारे पर तैर कर

-


Show more
226 likes · 65 comments · 1 share
Munish K Attri 18 JAN AT 19:35

उम्र की उस स्थिति में आ गया हूँ
कि बुढापे में किसी बच्चे सा हो गया हूँ
चाहता हूँ कि कोई संभाले मुझे बच्चे की तरह
पर किसी के पास वक़्त नही,व्यर्थ जो हो गया हूँ

छोटा हो गया हूँ इतना कि घुटनों पर चलता हूँ
बड़ा हूँ इतना कि कदमों पर चला नही जाता
जिंदगी ने मुझे कितना  लाचार  बना दिया
अब निवाला भी उठाकर खाया नही जाता

पर ये मेरी पीड़ा का कारण नही,
दुख इतना सा है कि,,,,,

एक उम्र गुजार दी मैंने जिनका जीवन सवारने में,
आज मेरी उस औलाद से मेरा बुढ़ापा उठाया नही जाता

-


Show more
200 likes · 49 comments · 4 shares
Munish K Attri 17 JAN AT 18:42

धूप अगरबत्ती करके , चंद रुपये चढ़ा आता हूँ
टेक कर माथा,सब ख्वाहिशें अपनी बता आता हूँ

पुरुषार्थ से बच जाऊ,चमत्कार की उम्मीद जगाने जाता हूँ
भगवान पूजन के नाम पर मंदिर फ़क़त माँगने जाता हूँ

-


186 likes · 47 comments · 5 shares
Munish K Attri 16 JAN AT 18:43

मैं तुम हो जाऊँ
तुम मैं हो जाओ
तू मुझको जिये
मैं तुझको जियूँ
कुछ न दिखे हमको
एक दूसरे के सिवा
तू आईना देखे
तो मुझको सँवारे
मैं आईना देखूं
तो तुझको सँवारु

-


Show more
228 likes · 45 comments · 14 shares
Munish K Attri 15 JAN AT 19:25

तृप्त हो जाए फ़क़त बूंद से,कभी समुंदर भी कम पड़ जाए
"मुनीष" ये तिश्नगी-ए-इश्क़ , इसे कौन समझ पाए ।

-


215 likes · 57 comments
Munish K Attri 14 JAN AT 18:17

ऊँचे लोगों से याराना रखों , पर किसी छोटे का साथ न छोड़ो
सूरज की किरणें जहाँ साथ छोड़ दे ,वहां दीया सहारा बनता है

-


276 likes · 74 comments · 4 shares
Munish K Attri 9 JAN AT 17:01

डंक  लगा  है  इश्क़ का , दिल पर मेरे
आँख मिली थी आँख से , मोड़ पर तेरे

डर  रहा  हूँ कुछ हो न जाए इश्क़ में तेरे
जहर इश्क़ का फैल गया नस नस में मेरे

डपट लगाओ न अब,मासूम इश्क़ को मेरे
दिल से दिल बदलकर , प्राण बचा लो मेरे

डग मिला डग से, हाथों में हाथ रख,पास आ मेरे
साथ  में  मिलकर मनायेगे , हम  माँ  पापा   तेरे

डहडहा हूँ , प्यार देखकर आँख में तेरे
नयन में अश्रु भी आ गए, खुशी में मेरे

डपोरशंख नही कि चाँद तारे रख दूँ कदमों पर तेरे
खुशनुमा  होगा हर डगर , विश्वास रख प्रेम पर मेरे

डोर थमा दी जिंदगी की , मैंने हाथ में तेरे
खुशी-गम सब तुमसे,तू है हर सांस में मेरे

डोली  तेरी 'गर  न आई , घर  में  मेरे
कसम तेरी मैं मर जाऊँगा,हिज़्र में तेरे

-


Show more
250 likes · 59 comments · 7 shares

Fetching Munish K Attri Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App