Mona.....   (Mona.......❣️❣️)
2.6k Followers · 5.4k Following

✍️✍️✍️✍️✍️

Follow me on insta @my poetry my feelings
Joined 31 July 2020


✍️✍️✍️✍️✍️

Follow me on insta @my poetry my feelings
Joined 31 July 2020
9 HOURS AGO

पैसा है तो हर खुशी है,पैसा है तो मुस्कान है,
पैसे बिन सच में यार ,ये जिंदगी वीरान है.....

Read caption 👇👇

@my_poetry_my_feelings_

-


11 MAY AT 11:24

इश्क महरूनी, सर्द गुलाबी और धानी हम पर सब रंग फब लेते है,
पर हम तो वकील है काले कोट के नीचे जीवन के सब रंग ढक लेते है....

@my_poetry_my_feelings_

-


11 MAY AT 10:59

वक्त की कलम से लिखी कहानियां बेहद दिलचस्प होती हैं,
क्योंकि उसमे हर लम्हा बारीकी से बयां किया गया होता है......

@my_poetry_my_feelings_

-


10 MAY AT 18:06

संभल जाते गर हालात तो भयंकर नही होते,
नदियों में जहाज चलते तो समंदर नही होते,
मत करो अफसोस जो गरीबी को छुआ है तो,
सब गरीबी सीखा देती तो सिकन्दर नही होते।

@my_poetry_my_feelings_

-


7 MAY AT 13:52

किसी से क्या शिकायत करना की,वो हमे समझ न सके,
हम खुद अपने में फंसे हुए है,फिर कैसे कहे रास्ते सुलझ न सके....

-


7 MAY AT 12:59

सवाल अगर साथ जिन्दगी जीने का होता है,
फिर गलतियों को नहीं खूबियों को देखा जाता है।
किसी से क्या शिकायत करना की वो हमें समझ ना सके,
हम खुद अपने में फंसे हुए है फिर कैसे कहें रास्ते सुलझ ना सके।
हजारों हैं अरमान मगर सब पूरे नहीं हो पाते हैं,
चलते तो सभी हैं साथ मगर मजिंल कुछ ही हासिल कर पाते हैं।

मजिंलों के वास्ते अक्सर इंसान बदल जाते हैं,
राहे तो वही होती हैं मगर अरमान बदल जाते हैं।
क्या तुम हमें दोगे और क्या हम तुम्हें दे सकते हैं,
कुछ गलतियां तुम गिनवाओगे, तो कुछ हम गिनवा सकते हैं।
हम इंसान हैं अक्सर गलतियां कर जाते हैं,
कुछ गलतियां तुम तो कुछ गलतियाँ हम कर जाते हैं!!

-


6 MAY AT 16:01

अपने प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को बेशक़ कोसिए... सवाल कीजिये क्योंकि आपका अधिकार भी और उनकी ज़िम्मेदारी भी....
लेकिन आप सब से मेरी विनती है ये जितनी भी नीचे की सीढियां हैं जैसे सरपंच, जनपद प्रतिनिधी, वार्ड सदस्य, एमएलए, एमपी वो सब जिन्हें आपने चुना था... जो चुनाव के समय आपके सामने हाथ जोड़े खड़े थे... उन सबको भी बख्शाें मत... ये भी उतने ही जिम्मेदार हैं... बल्कि सबसे पहले यही ज़िम्मेदार हैं आपको आज होने वाली दवाखाने में ऑक्सीजन, अस्पताल में बेड जैसी हर एक मुसीबत का जवाब देने के लिए... पकड़िए इनका गला जो छुपे बैठे हैं अपने घरों में ख़ामोशी से दवाओं का और सारी सुविधाओं का स्टॉक किये हुए....
जवाबदेही इन सबकी है... किसी को बख्शाें मत...

और उससे ज़रूरी ये है कि आगे आईये... जिन्हें ज़रूरत है उनकी मदद के लिए... जिस भी तरह से आप कर सकते हैं... अपने परिवार को सुरक्षित रखिये... खुद भी रहिये... मगर जहां कुछ भी कर सकते हैं मुंह मत फेरना... अंधे बहरे असंवेदनशील मत बनिये... जो बन पड़े कीजिये... एक के लिए कर सकते हैं एक ही के लिए सही... मगर कीजिये...

-


6 MAY AT 10:20


वीर रस की कवि नहीं
श्रृंगार मुझे कब भाया है
अनुभूतियों का मैं मोती चुनती
जो जीवन ने सिखलाया है।
शब्द अलंकार को पढ़ा नहीं
कोई मूर्ति सुंदर गढ़ा नहीं
भाषा पर भी पकड़ अधूरी
विज्ञान गले में मढ़ा नहीं।
लिखती हूँ मैं क्या
किसी को कुछ भी पता नहीं
इन काले हरफ़ को देखें कौन?
इन आखरों की भी खता नहीं
पहचान की आतुरता में
बैठे बैठे कुछ लिखती हूँ
पढ़ने वालों को समय कहाँ ?
गा- गाकर खुद ही पढ़ती हूँ।
फिल्मी गाने आते नहीं
शायर जैसा भाव कहाँ
रूप भी उतना सुंदर नहीं
लोग ठिठके तो फिर ठिठके कहाँ?

-


29 APR AT 18:30

हम हिंदू बने मुस्लमान बने पर इंसान नही बन पाए हैं,
शायद कुदरत ने इसीलिए हमे ये दिन दिखलाए है,

इंसानियत भी एक धर्म है चलो इसे अपना ले अब,
छोड़ो कालाबाजारी चलो कुछ प्राण बचा ले अब,

क्या करोगे इन पेसो का जब इंसान ही नही रहेगा,
कोन देखेगा ये शानो शौकत जब आवाम ही नही रहेगा,

फिर कौनसी बीमारी पैसे वालो से डरती हैं,
जो भी चपेट में आ गया वो तो सबको पकड़ती है,

छोड़ो सब जो हुआ सो हुआ,
अभी से कुछ अच्छा कर ले,

आखिर इंसान बनकर जमीन पर आए हैं,
इंसानियत का कुछ फर्ज अदा कर ले.........

-


28 APR AT 19:43

हर आदमी परेशान नजर आता है,
अब शहर जैसे शमशान नजर आता है,
ये हवा है, हर गली से गुजरी है,
चेहरों पर मास्क जैसे बोलने की मनाही हो,
हर दिल में टूटता अरमान नजर आता है,,,

भागती, दौड़ती सड़को पर,
भागदौड़ दिखाई नही देती है,,,
हर सड़क वीरान और सुनसान नजर आती हैं,

कुदरत जैसे खफा है,
लावारिश लाशे कहती है हर रिश्ता बेवफा है,
इंसानियत बिमार आदमी लाचार,
कालाबाजारी के आगे प्रशासन भी ,
हाथ पर हाथ धरे नजर आता है,,,,,

हर आदमी परेशान नजर आता है,
अब शहर जैसे शमशान नजर आता है.......

-


Fetching Mona..... Quotes