Meghana Bose   (Meghana Bose Chatterjee)
8.8k Followers · 446 Following

read more
Joined 14 November 2016


read more
Joined 14 November 2016
9 JAN AT 17:40

सर्द गलियों में इश्क़ की निकल तो पड़े हैं
पर ठंडे रवैय्ये की दिल को आदत नहीं है
जज़्बातों पे उनकी जो बर्फ जमी है
सूरज उसी से बनाने चले हैं
कसूर मेरा ही होगा कि
धूप गिरती नहीं, छज्जे पे उनके
मौसम से हमको कोई शिकायत नहीं है
दरीचे पे अक्सर मिलती है नज़रें
राहें तो कब की अलग हो चुकी है
शब्दों में उनकी अब लेहज़ा मेरा है
और कहते हैं उनको हमसे मोहब्बत नहीं है

-


4 JAN AT 18:38

हमारे पास आते आते
ना जाने क्यों उल्टे पांव, दूर चली गई
बस तुम ही नहीं, मां
तुम्हारे साथ इस घर से रौनक भी चली गई

एक आखरी बार वो अपना
मुस्कुराता चेहरा दिखाने आओ ना मां
बहुत चमक चुका ये आसमां
हमारे जीवन की चमक बनके
अब वापस आओ ना मां

-


4 JAN AT 17:07

you wouldn't have to wait
for my poems to turn sweet

-


4 JAN AT 16:43

वो पूछते हैं हमसे
कि क्या ऐतराज़ है हमें
अपनी मोहब्बत उन्हें
उधार देने में

अब कैसे समझाएं उन्हें
कि इस दिल में जो भी है उनका ही तो है,
धर्ती को कभी देखा है क्या
आसमां से समुंदर कर्ज़ लेते हुए?

-


2 JAN AT 2:43

नसों में दर्द बहता नहीं अब,
दिल से होठों तक की गलियां भी खो गईं
लफ़्ज़ों की सांसे रुक गई, और
मेरी ग़ज़लें एक पल में यतीम हो गईं

-


2 JAN AT 2:08

Books have always taught that
"It's always 'you and I', and not the other way around"
This year my resolution is to unlearn such rules

And always keep "I" before everything else.

-


18 DEC 2020 AT 4:00

A faint voice that tells me
peace is bigger than strength
and that it's fine if I want to sit and cry.
It's okay to be just a little star
when the world wants you
to be whole of the sky.

-


18 DEC 2020 AT 2:55

सब कहते हैं कि वो लिखने को
तरजीह देते हैं हमेशा,
उनकी आवाज़ से वाकिफ
शायद बस हम ही है।
लोगों की आंखों को नसीब है
दिलशाद शेर - ओ - शायरी उनकी
हमारे कानों के हिस्से
बस उनके ग़म ही है।
पुराने किस्से बाक़ी है अभी
उनका क़ाफ़िया कायम रखने को,
हम साकी से माशूका हो जाएं उनकी
ये तो बस एक भ्रम ही है।

-


10 DEC 2020 AT 3:33

ग़रीबी में
भगवान के आगे हाथ फैला कर
कुछ लोग थक जाते है इतना
कि दीवाली के बाज़ार में
भगवान को ही बेचने पे मजबूर हो जाते है।
उसी गरीब की
फटी एड़ियों की तस्वीर खीच कर
कुछ लोग बड़े मशहूर हो जाते है।

-


8 DEC 2020 AT 3:27

He likes his coffee black,
I like it a little sweet.
When he demands silence,
I keep my words on loop, on repeat.
He likes subtle monochromes,
I love glitters on my reds and blues.
While he plays his flute and strings,
I fill my shopping cart with a dozen shoes.
I take time to process his confusing statements,
He reads my mind through my eyes,
I shout my love out on the social media
To which he diffidently denies.
He has a limited circle
And I make friends wherever I go,
He finds his happiness in daily sunsets,
While I believe in creating my own rainbow.
Our traits as people are too different to coincide
But that's how we sail through the rough seas,
no matter how high a tide.
Even decades later
when there be nothing left new
We will randomly exchange texts saying
" I LOVE YOU"

-


Fetching Meghana Bose Quotes