Meghana Bose   (Meghana Bose Chatterjee)
8.1k Followers · 418 Following

read more
Joined 14 November 2016


read more
Joined 14 November 2016
Meghana Bose 2 JUL AT 12:40

"तेरी आवाज़ हफ्तों तक बिना सुने
ये मन अक्सर कराह उठता है,
विदेश की हवा ने बदल दिया बेटा तुझे
कि अब तू चिट्ठियां भी कम भेजा करता है"


"माँ, इस तथ्य से तो सभी वाकिफ हैं
तो तुम विज्ञान से अंजान क्यूं?
पानी का भी स्वाद शहर - शहर बदलता है,
मैं भला कौन जो कुदरत का नियम बदल दूं?"


"पानी जिस शहर जाए, उसी शहर का हो जाए,
ये बात तो मुझे भी मालूम थी,
पर उसे जनने वाली धरती से ही अलग होने की प्रवृत्ति
मैंने किसी किताब में ना पढ़ी थी।"

-


88 likes · 11 comments · 7 shares
Meghana Bose 28 JUN AT 8:25

बचपन की किताबों के पन्ने खोल के कभी बैठूं
तो आंसुओं को आंखो में बंद कर, हंस पड़ती हूं।
नीले पेड़, आसमान गुलाबी, और बिल्लियां लाल।
नारियल के पेड़ पे सेब बने हुए।
उन पर टीचर के लाल कलम से बनाए सितारे और
उनका अक्सर मुझे "बेहद रचनात्मक" कहना।

उसी बुलबुले में बड़ी होती गई और हमेशा ये सोचा कि मैं जो भी बनाऊं,
चीज़ों को जो भी रंग - आकार दूं वो बस मुमकिन ही नहीं,
पर वो एक "कला" है, "रचना" है।
एक समय ऐसा था जब हक़ीक़त ने आंखों पर दस्तक दी,
और मेरे लिए बड़ा मुश्किल था ये मान लेना कि
हर चीज़ का एक निश्चित आकार, रंग, स्थान है।
कि जब पहाड़ों पर बर्फ बनाया हो, तो उस चित्र में सूरज नहीं होता।
अब पेड़ों को एक दायरे के अंदर, केवल हरे रंग से ही रंगना था।
यही दायरे जीवन के हर पहलू में लगाने थे।

आज भी कभी कभी, बेख़याली में मुस्कान को होठों से खींच कर
कानों तक लाल रंग देती हूं
पर दायरे याद आते ही उसे मिटा कर होठों तक सीमित कर देती हूं
जीवन के हर नए पढ़ाव पर एक नया दायरा बनता है
और मै लाल सितारों के सराहना की उम्मीद में
हर बार दायरे के बाहर, अलग रंग भरने की कोशिश करती हूं

-


129 likes · 7 comments · 12 shares
Meghana Bose 9 JUN AT 12:38

One of the below is a #474 poem and the other is a poem. Following a scheme of number of letters in a poem is just not as easy as breaking a sentence to force it to fit into the scheme.

I saw you there
While you wandered on the clouds above
They never looked prettier.

__ __ __ __ __ __ __ __

While you were excitedly
Wandering on the clouds, you made them
Look prettier than ever.

-


68 likes · 5 comments
Meghana Bose 30 MAY AT 8:50

जो रातें तुम संग जाग के
बातें करते बियाई थी,
वो रातें
आज मेरी डायरी से लिपट कर
अपनी नींदे पूरी कर लेती हैं।
जिन बारिशों में तुम संग खिड़की पे बैठ
चाय की चुस्कियां लगाने के लिए
मैं भीगना भूल गई,
वो बारिश अब वक़्त - बेवक़्त
मेरी आंखो से बहकर, मुझे भीगा जाती हैं।
वो भोर की किरणे जो मेरी खिड़कियों तक
पहुंचने से पहले ही सांझ में बदल जाती थी
क्योंकि मेरी खुशियों का सवेरा चुभता था तेरी आंखो को,
उन किरणों की चमक, रात के अंधेरों में भी
मेरी मुस्कान का साथ नहीं छोड़ते।
तुम थे, तो सब ठीक था।
तुम नहीं हो, तो सब बेहतर लगता है अब।

-


95 likes · 9 comments · 5 shares
Meghana Bose 28 MAY AT 7:50

Tearless cries for the past, I weep.
Each morning I wake up with a heavy head.
Heavy, not with sleeplessness,
But with your memories that I closely keep.
All the dreams that we weaved together
Slowly, out through my eyes they seep.

I close my eyes but do not sleep.

-


Show more
69 likes · 2 comments · 4 shares
Meghana Bose 28 MAY AT 7:39

उसकी गली में नज़र आने वाले चांद का
टुकड़ा भर चुराने की ख्वाहिश ना कर
हर सांस में याद करता है जिसे,
उसे भूल जाने की नुमाइश ना कर।
तेरे इश्क के सुहानी सुबह को रात के अंधेरे का
काजल लगाने की गुज़ारिश थी जिसकी,
ऐ दिल, तू उसी बेदर्द के मुस्कान की
कायनात से सिफारिश ना कर।

-


83 likes · 8 comments · 5 shares
Meghana Bose 26 MAY AT 23:02

मेरी जूझ मेरी पहचान है
मेरी हार मेरा अभिमान है
गिर कर टूट जाने की
हालत से ये दिल अनजान है

-


96 likes · 4 comments · 3 shares
Meghana Bose 13 MAY AT 19:14


शौक और इच्छाओं की कोई उम्र नहीं होती

(Story in caption)

-


Show more
92 likes · 8 comments · 3 shares
Meghana Bose 3 MAY AT 7:21

Anything nude is always smut-philic.
A nude shoe, A nude dress.
A nude soul.
Dirt around them attracts them.
A cloth of determination and
a bucket full of positivity
are enough to wipe the grime
time to time.

-


Show more
150 likes · 8 comments · 3 shares
Meghana Bose 2 APR AT 7:46

When you travel daily in a local train, you see quite a lot of familiar faces and a few new faces everyday.
Today, a new face was sitting right opposite me. Her face covered in a scarf, only eyes visible. Those big beautiful eyes, lined with Kohl right at the edge of those curled long lashes. I had already imagined her as a beautiful woman.
Slowly the scarf slid up her forehead making the green 'bindi' visible. Placed right in the middle of the perfectly done eyebrows, it looked perfect. Mesmerizing.
Her 'very-dusky' skin peeped from the displaced scarf, making me re-believe that just being fair skinned does not make one beautiful.
Almost fifteen minutes after I had adored her beautiful eyes and forehead, she took off her scarf completely. I could see scars of healed wounds on her neck. Her cheek and chin shriveled, apparently by acid.
She looked more beautiful. Just then, she dropped her phone in haste. I picked it up and handed it to her. That courteous smile in return, just completed her beauty.
What a beautiful woman I saw! Neither fair, nor flawless skin, yet very beautiful!

-


Show more
113 likes · 10 comments · 10 shares

Fetching Meghana Bose Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App