Kumar Mohit   (कुमार मोहित)
159 Followers · 7 Following

read more
Joined 28 April 2017


read more
Joined 28 April 2017
Kumar Mohit 21 JUN AT 11:49

परस्पर प्रेम पनपा जब,
पिता और पुत्र-पुत्री में,
प्रभु ने प्रेम पल्लव तब,
ढ़का पतले से पर्दे में ।

-


12 likes
Kumar Mohit 2 APR AT 22:31

अनुशासन से कर शासन वो,
जग में पूजित हो जाते हैं,
हैं राम सकल पौरुष का दंभ,
वनवास सहज सह जाते हैं।

-


10 likes · 1 share
Kumar Mohit 1 APR AT 7:34

शहर जब डूब जाता है,
तो बस इतना बताता है,


(पूरी कविता अनुशीर्षक, कैप्शन में पढ़िए)

-


Show more
16 likes
Kumar Mohit 26 FEB AT 19:12

वक़्त बिखरे रेत सा,
हम कैद कर ना पाएंगे,
दिन बुरे हैं आज पर,
कल तो अच्छे आएंगे ।।

-


5 likes
Kumar Mohit 11 FEB AT 9:06

मेरे हिस्से की कच्ची धूप,
को तुम सेंतते रहना,
मैं आती हूं अभी जाकर,
मुझे तुम देखते रहना,

-


7 likes
Kumar Mohit 1 DEC 2019 AT 11:10

Kumar Mohit

-


Show more
17 likes
Kumar Mohit 30 SEP 2019 AT 21:23

पूरी कविता अनुशीर्षक (कैप्शन) में पढ़ें।

-


Show more
12 likes · 1 comments · 4 shares
Kumar Mohit 27 SEP 2019 AT 8:12

चिरागों को मयस्सर है,
अभी वो आखरी "रेशा",
कि जिसका साथ लेकर वो,
अंधेरा काट लेंगे।

-


8 likes
Kumar Mohit 26 SEP 2019 AT 0:06

सफर में साथ इतना हो,
कि "मुश्किल" भी कटे संग में,
जो मंज़िल दूर हो थोड़ी,
तो "दोनों" ही थकें संग में।

-


10 likes
Kumar Mohit 13 SEP 2019 AT 12:30

-कु.मो

-


15 likes · 1 comments

Fetching Kumar Mohit Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App