कुलदीप शर्मा   (कुलदीप शर्मा 'अल्फ़ाज़')
1.6k Followers · 2.0k Following

read more
Joined 27 January 2018


read more
Joined 27 January 2018

»भारत भूमि के संतों पर जब-जब कोई वार हुआ,
किसी शिवाजी के भाले से इनका नरसंहार हुआ।«
#पालघर

-


24 likes · 2 comments

»के तुमको कुछ कहने को बेताब है ये खामोशी,
दहकती आग की आख़िरी राख है ये खामोशी।
क़त्ल कर सकते हो तो रेत दो गला सन्नाटे का,
वरना चीख-चीख कर मार देती है ये खामोशी।«
❤️

-


Show more
22 likes · 3 comments · 1 share

»अभी भी वक्त है कुछ कह क्यों नहीं देते,
मेरे हाथ में अपना हाथ रख क्यों नहीं देते।
धड़कता है दिल तुम्हारा भी जब मेरे क़रीब होते हो,
करते हो इश्क़ हमसे ये कह क्यों नहीं देते।«

-


21 likes

»ये रिश्ते भी कुछ इलायची जैसे ही होते हैं,
महक आने के बाद लोग निकाल फेंकते हैं।«

-


21 likes · 2 comments

»चाय और तुममें एक बात ख़ास है,
मिज़ाज है गरम, पर लाजवाब है।«
❤️

-


29 likes · 3 comments · 1 share

मैं Lockdown में भी मस्त रहता हूँ,
माँ भारती की भक्ति में व्यस्त रहता हूँ।

-


30 likes · 5 comments

कुछ यूँ रंग लगाना मुझे ए गुलिस्ताँ,
कि मैं भारत माँ के तीन रंगो में रंग जाऊँ। 🇮🇳

-


30 likes · 6 comments

मेरा रुतबा ही मेरी पहचान बनाता है,
अब तो मेरा लहू भी इंक़लाब गाता है।

-


41 likes · 7 comments

इबादत में सर झुकाने में हर्ज क्या है,
हर फ़र्द से इश्क़ से बड़ा फ़र्ज़ क्या है।

-


33 likes · 3 comments

एक मुद्दत से मैं ‘पानी’ जैसा हूँ,
‘गर दुनिया बैरी, मैं ‘आग’ जैसा हूँ।

-


28 likes

Fetching कुलदीप शर्मा Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App