KPR quotes   (KPR)
35.1k Followers · 264 Following

read more
Joined 3 August 2018


read more
Joined 3 August 2018
23 SEP AT 20:40

तुम जैसी ना मिलेगी ढूंढू भी अगर रोशनी-ए-चिरागों में
चाहों छूटकारा तो मांग लो हमारी मौत मन्नत के धागों में।

-


28 JUL AT 21:07

जैसे आज वजूद आबाद नहीं⁣⁣
मेरी ऐसी कतई शुरूआत नहीं⁣⁣
सदियों की गड़ी कहानियां है⁣⁣
मैं शुरूआत से ही बर्बाद नहीं⁣⁣
⁣⁣
हाल देखें तो मगर पूछे ना कोई⁣⁣
ख़ैर अब पहले से हालात नहीं⁣⁣
कितना कुछ है कहने को मगर⁣⁣
कह दें ऐसी भी कोई बात नहीं।⁣

-


28 JUL AT 16:23

चल चलें उसी सपनों की डगर पर
दरिया हो वहीं और साथ तु सफर में
भटकूं जो अगर मैं तो भी होगा क्या
तेरे साथ कंकड़ भी फूल है सफर में

-


23 JUL AT 12:09

दुनियावालों का अंदाज़ बड़ा अजीब है
ये बद्दुआ भी देते हैं दुआ की शक्ल में।

-


22 JUL AT 13:51

लाखों है हसीनाएं दुनिया में मगर
बार-बार क्यों आता है दिल ये तुझपर?

-


22 JUL AT 11:18

तुमने पूछा मैं चुप क्यों हूं?
मैंने कहा तो बहुत कुछ
पर किसी ने सुना नहीं।

-


21 JUN AT 23:35

क्या लिखते कुछ अनोखा
बैठे-बैठे कुछ ग़म लिख बैठे
कुछ अपने कुछ औरों के
कुछ असल कुछ वहम लिख बैठे
कुछ एहसास गुलाबी कुछ मख़मली
कुछ ख्वाहिशें बेरहम लिख बैठे
मैं ख़ुदा नहीं कि ठीक ही लिखूं, यूं ही
कुछ बेवकुफ़ी कुछ फ़हम लिख बैठे।

-


18 JUN AT 5:57

दिल में खलती बातें कहीं ख़ार ना बन जायें
बोलों मगर ऐसे कि लफ़्ज़ दीवार ना बन जायें

-


17 JUN AT 22:03

कई बार कुछ जवाब उजालों से नहीं मिलते
वो बिना ढूंढे मिल जाते हैं अंधेरी रात से

-


15 JUN AT 22:24

हम मरकर भी उनकी ख़बर में है
उन्हें ख़बर भी नहीं हम कबर(कब्र) में है।

-


Fetching KPR quotes Quotes