Khushi Yadav   (Khushi Yadav)
3.3k Followers · 2 Following

read more
Joined 23 November 2018


read more
Joined 23 November 2018
8 SEP AT 9:11

He hedges me from every frezy thought,
I chastised a lot but he never fought,
Jealous I am when someone calls him hot,
When agony clenches me at midnight,
All I want is to hug him tight.

He outstays me in each of my mood,
When I am solicitous or hell of rude,
He kens it well that I am crazy dude,
When I am in melonie or in bright,
All I want is to hug him tight,

Only he can cool me within instances,
Unfortunately, we never shared glances,
In mid of us there are uncovered distances,
When I think he is so far from my sight,
All I want is to hug him tight.

My alien is unique,unlike many,
Delicious as he is,I call him Veg Biriyani,
When I can't be useful to him I feel wanny,
I flirt with him not even leaving a slight,
All I want is to hug him tight.

-


9 JUN AT 19:55

एक हिस्सा मेरा तुम में ढह जाएगा,
एक रोका हुआ आंसू तब बह जाएगा,
एक कतरा मेरा तुम से कुछ कह जाएगा,
तुम भी अपनी बातें कुछ ऐसे ही बता देना,
जब मिलोगे तुम मुझसे,
बस गले से लगा लेना।

लबों से ज़्यादा तब आँखे बातें करेंगी,
न जाने उस दिन कितनी यादें बनेंगी,
जब हमारी दो रूहें मुलक़ाते करेंगी,
तुम भी अपने मन से सारी रोक हटा देना,
जब मिलोगे तुम मुझसे,
बस गले से लगा लेना।

उस वक़्त कुछ वक़्त, ठहर ये वक़्त जाए,
जिस वक़्त मेरा नाम युँ ही तुम्हारी जुबाँ पर आए,
तुम्हारी आवाज़ में मेरा नाम!!! हाय!
बातों ही बातों में तुम मुझ पर हक़ जता देना,
जब मिलोगे तुम मुझसे,
बस गले से लगा लेना।

जब मिलोगे तुम,वो पल कितने नायाब होंगे,
उन पलों में न जाने पूरे मेरे कितने ख्वाब होंगे,
जाने के बाद तो फिर दूरियों के अज़ाब होंगे,
तुम्हें मैं खुद में समेट लुंगी,तुम मुझे खुद में बचा लेना,
जब मिलोगे तुम मुझसे,
बस गले से लगा लेना ।

-


30 MAY AT 2:03

Sliding your pics and zooming the eyes,
"I love you DY" , my craving heart cries,
Your euphonious voice is sweeter than pies,
Imagining us together in a comely dell,
O DY! I miss you like hell.

Winsome memories upholstered in our chat,
Watching screenshots of VC melts this brat,
You are the best doublet,nothing fits me like that,
Clasp me as for you I already fell,
O DY! I miss you like hell.

Hitherto you are the nonpareill guy I met,
I am cognizant,you'll understand my every fret,
You are the most prudent one anyone can get,
The only one who gets exactly what I need to tell,
O DY! I miss you like hell.

How ravishing it feels to call you mine,
Just talking to you makes me fine,
You protect me from thoughts which seem as pine,
Loving you, with my each cell,
O DY! I miss you like hell.

-


18 APR AT 11:54

जो हँसती थी सड़के,सुनसान हो गईं,
गूंजती थी जो गली,वीरान हो गई,
कुछ युँ ही,शाम-ए-अवध,अंजान हो गई,
सारे ज़ायके अब लगते पुराने हैं,
बेहाल हैं मेरा लखनऊ,
जबसे कोरोना के ज़माने है...

हँसमुख लखनऊ के मिजाज़ अब कुछ तीखे हैं,
क्या हज़रतगंज,क्या अमीनाबाद, अब सब लगते फीके हैं,
खुशमिजाज़ शहर ने उदासी में रहने के हुनर भी सीखे हैं
अब तो यादों में ही सजते सारे शामीयाने हैं,
बेहाल है मेरा लखनऊ,
जबसे कोरोना के ज़माने हैं....

रिश्ते अब दो गज़ का फासला मांगते हैं,
मास्क के पीछे से ही अब चेहरे झांकते हैं,
पहले अकेलेपन से डरते थे अब लोगो से भागते हैं,
किसी के टूटे रिश्ते,किसी के बिछड़े याराने हैं,
बेहाल है मेरा लखनऊ,
जबसे कोरोना के ज़माने हैं....

मुस्कुराता अब लखनऊ कुछ कम ही है,
अब दिल में ख़ुशी नहीं बस ग़म ही है,
उम्मीद है मन में पर आँखे नम ही हैं,
हर मोहल्ले,हर गली,अब मौत के अफसाने हैं
बेहाल है मेरा लखनऊ,
जबसे कोरोना के ज़माने हैं....




-


7 FEB AT 13:06

जिस ताक़त से विरोध दिखाते हो,वो उनकी ही ताक़त है,
जो रोज़ रोज़ तुम खाते हो,वो उनकी ही मेहनत है,
तार लगा, कीलें बिछा कर, उन्हें तुमने आतंकी माना है,
उनके हाथ का खाते आए हो,क्या आगे नहीं खाना है?
ज़ुल्म किया उस पर भी,जिसने उनके लिए प्रयास किए,
फिर भी राह में तुम्हारी बैठे हैं वो,तुमसे ही कुछ आस किए,
जय जवान ,जय किसान,तुमने बार बार बोला होगा,
जो दर्द वो झेलते है,क्या तुमने कभी वो तोला होगा?
सुन लो उनकी बात भी,वो तुम्हारे ही घरवाले हैं,
वो किसान हैं, उन्होंने ही तुम्हारे पेट पालें हैं।

-


27 JAN AT 22:39

किसी दूसरे ग्रह से आए कोई दूत हो तुम,
हाँ,बेशक़ टूटे हो,पर मज़बूत हो तुम,
खुद ही काफी हो, इस बात का सुबूत हो तुम,
कितना भी ग़म हो,तुम अकेले ही सहोगे,
मुझे मालूम है,तुम कुछ न कहोगे,

दुःख ही है यार,गुज़र जाएगा,
तुम खुश रहोगे तो वक़्त भी सँवर जाएगा,
तुम्हारी मुस्कान से कोई और भी निखर जाएग,
मैं कितना भी बोलूँ,तुम चुप ही रहोगे,
मुझे मालूम है,तुम कुछ न कहोगे,

हीरो बने फिरते हो,कभी खुद की परवाह कर लो,
इतना दुःख क्यों,कुछ हँसी का भी हिस्सा धर लो,
ये खुशी जो कह रही है,अपने दिमाग में भर लो,
पता है मुझे,ये पढ़कर तुम हँसोगे,
मुझे मालूम है,तुम कुछ न कहोगे,

कुछ हो गई,कुछ बात बाकी है,
शायद दिन सही नहीं,पर खुशियों की रात बाकी है,
अभी तो हँसी से तुम्हारी मुलक़ात बाकी है,
अब बस! कब तक दुःख के पानी में बहोगे,
मुझे मालूम है,तुम कुछ न कहोगे।

-


10 JAN AT 12:29

All those things happening really suck,
Should I become iconolast and give a chuck,
Or should I stay lazy,and don't give a fuck,
This has now became an unwanted protrusion,
When will you end,my 'not so dear' confusion,

All and sundry say," You are becoming abstruce",
Can't anyone see,I am just a philomuse,
But should I learn to play wicked ruse??
What I am feeling is not a good intuituon,
When will you end,my 'not so dear' confusion,

Aspiring for a sojourn on a far island,
To bask out with trees and sand,
But have a freight to deal at hand,
Even my dreams are creating a new illusion,
When will you end,my 'not so dear' confusion....

Now my favourite chum is beating the dead horse,
That's what making my sitch even worse,
Still something beautiful is there like a torse,
Is all this real,or just a delusion?
When will you end,my 'not so dear' confusion....

-


23 DEC 2020 AT 0:07

Her eyes waiting for a mother's touch,
A familiar warmth and a tight clutch,
A pampering hug and nothing much,
But having these seems to be in a dreamy land,
Okay leave........you won't understand!

Oily tongues made the closest away,
The strongest bond became a feet of clay,
Now her birthgiver considers her a creaky cray,
Distances are augmenting as drizzles the hour glass' sand,
Okay leave........you won't understand!

Other forms of love cut no ice,
Yearning for affection,her face dries,
Before sharing any issue,she thinks twice,
All she wishes for is a doting hand,
Okay leave........you won't understand!

Is longing for mother's love a cry for the moon,
For her,getting it wouldn't be less than a boon,
Are these problems incessant or would end soon?
She is desiring for a magic by a wand,
Okay leave........you won't understand....!😊

-


11 NOV 2020 AT 21:13

कुछ तबियत नासाज़ सी,कुछ दर्द-ए-बदन है,
कुछ साँसों मे दिक्कत,कुछ ठण्ड से सिहरन है,
पर यादें आपकी कुछ इससे अंजान है,
इतने दर्द में भी हमारे चेहेरे पर मुस्कान है,
भीगी सी पल्कें आपका पता पुछती हैं,
इन्तज़ार की रातें अपनी ख़ता पूछती हैं,
कुछ गले में ख़राश सी,जैसे कुछ फंसा हो,
पर फर्क़ नहीं पड़ता जब दिल में कोइ बसा हो,
काट रहें हैं रात,बस आपके इन्तज़ार में,
कुछ अलग ही स्वाद है, हमारे इस बुखार में...❤

-


17 OCT 2020 AT 1:37

I always say you are counted in elite,
Can be wrong for others, for me always right,
Don't settle for small,you are to achieve height,
You will be facing the hard times too,
Can't say about others,but I love you.

Your prominence for me is immeasurable,
When I miss you,even hushes babel,
But your text always turns the table,
How difficult it is to bid you adieu!,
Can't say about others but I love you.

Lovers and haters will always be there,
But matters only that,about what you care,
You will always be present in my every prayer,
I will ask you to decide,whether its fake or true,
Can't say about others but I love you

We met as strangers who came nigh,
Now my trust for you is so high,
Only your happiness gives me a relieved sigh,
Your memories have fragrance of rainy dew,
Can't say about others but I love you...❤

-


Fetching Khushi Yadav Quotes