Jyoti Jha   (ज्योति झा)
620 Followers · 56 Following

~An Open Book Yet A Mystery
Twitter @jyotijh666757784
Joined 27 May 2018


~An Open Book Yet A Mystery
Twitter @jyotijh666757784
Joined 27 May 2018
Jyoti Jha 3 APR AT 19:19

प्रेम में पड़
जब नेत्रों से बहता है
सबसे पहला अश्रु तो
वो पवित्र जल बनता हैं

और प्रेमी के साथ की गई
बातें....बनती है प्रार्थनाएं

और प्रेमपत्रों की राख से
बनाई जाती हैं.... भस्म

जिससे होता हैं
अभिषेक......देवों का

-


15 likes · 5 comments · 1 share
Jyoti Jha 1 APR AT 19:10

यदि....
वन के सभी पेड़ खो दे पत्ते अपने
तब भी हो सकता है, प्रकृति उदास न हो

दुनिया का सबसे सुगंधित पुष्प
खो दे सुगंध अपनी तो भी कोई आश्चर्य न हो

अचानक ही सभी पंछी त्याग दे
आकाश में उड़ना तब भी आसमां दुःखी न हो

परंतु
यदि कोई प्रेमी अपने प्रेम से झूठ कहे तो
ईश्वर के बगीचे की दूब भी माटी होने लगती हैं
जो आश्चर्यजनक हैं, अत्यंत दुखदायक और सदैव के लिए उदास कर देती हैं

-


15 likes · 8 comments · 1 share
Jyoti Jha 30 MAR AT 19:21

अब कहीं जान पाई हूं मैं
कि
प्रेम स्वयं नहीं मिलेगा
किसी को भी....

किन्तु खोज इसकी
जारी रहनी चाहिए
ठीक उसी तरह जैसे
खोजा जाता है
मेले में गुम हुआ कोई बच्चा

-


18 likes · 4 comments · 1 share
Jyoti Jha 29 MAR AT 21:07

मैं नहीं जानती कि
कभी पढ़ पाऊंगी
वेद.. पुराण.. की नहीं

"किन्तु"

तुम्हारे हथेलियों की स्पर्श
एक बार तो पड़ेगी
मेरे लिखे प्रेमग्रंथ पर
और ये अमर हो ही
जाएंगी सदा के लिए

-


26 likes · 16 comments · 3 shares
Jyoti Jha 14 FEB AT 11:08

जिंदगी.....
एक पहेली

और मैं
तुम्हारे लिए सरल होने की चाह

सरल
जैसे तुम्हारे चाय की चुस्की होना
जिससे दूर हो जाती हैं तुम्हारी सारी परेशानी

सरल
जैसे तुम्हारा चश्मा होना
जिसे किसी भी क्षण पहन
तुम देख सकते हो.... संसार पूरा

-


44 likes · 12 comments · 2 shares
Jyoti Jha 27 JAN AT 11:28

भूल गई उन राजाओं का इतिहास
बस... याद रही तो कुछ
अधूरी प्रेम कहानियां

जिसमे मै खोजती रही
विज्ञान के आविष्कारों
का प्रयोग कर उन प्रेमियों
के मिलन की गाथा को

मैंने जाना है प्रेम में
प्रेम कहानियों का वेद हो जाना

-


29 likes · 8 comments · 2 shares
Jyoti Jha 20 JAN AT 7:06

प्रेमियों के द्वारा लिखे
सारें पत्र .....प्रेम पत्र नहीं होते
ठीक उसी तरह.... जैसे
सारे विरह गीत
मौन नहीं हुआ करते

प्रेम में पड़े प्रेमी अक्सर
इस संसार में
"मैं" नहीं रह जाते

तुम्हारे प्रेम में पड़
अब मैं भी अब मैं नही रहीं
"तुम" हो गई हूं

-


37 likes · 11 comments · 2 shares
Jyoti Jha 18 JAN AT 9:15

अल्पविराम दे... आंसुओ को
दूसरों के समक्ष रोक लेना
खूबसूरत होता हैं...


अर्धविराम का उपयोग कर
बारिशों से प्रेम पत्रो को बचा लेने भी
मनोहर हैं....

किन्तु दुष्कर होता हैं प्रिये
प्रेम पर लगा.... पूर्ण विराम


-


25 likes · 8 comments · 2 shares
Jyoti Jha 7 JAN AT 16:55

यदि पूछोगे तुम मुझसे
कि..... प्रेम क्या है

तो मैं कहूंगी...
नेत्रों से अश्रुओं के सुख जाने का भय

यदि विरह... पूछोगे
तो कह दुंगी
कभी ना समाप्त होने वाला ग्रहण





-


32 likes · 6 comments · 2 shares
Jyoti Jha 6 JAN AT 15:56

मैं तुम्हें उतना ही
चाह पाऊँगी जितना कि मैं... खुद को
.
.
.
.
.
क्योंकि...

चाहती नहीं हूँ मैं
अन्यथा प्रेम के सरोवर में
इतना डूब जाना कि
जिसे उठने के लिए
सहारे की जरूरत पड़े..

-


32 likes · 10 comments · 2 shares

Fetching Jyoti Jha Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App