Gunjan Gupta   (Tamanna189)
1.3k Followers · 339 Following

read more
Joined 20 June 2018


read more
Joined 20 June 2018
Gunjan Gupta 14 HOURS AGO

~~मेरे अनकहे शब्द~~

मेरी जिंदगी का सूखा शजर मेरा,
पतझड़ की जैसे हर शाख़ का सूखा पिंजर मेरा,

टूटती हैं मूरत मेरी, दिल की अंधेरी परछाइयों में,
दिल का हर रुत में होता अलग ही मंजर मेरा,

पहचान खुद की किसी किरदार में ढूढ़ने निकली हूँ
खोया हुआ है अब तक मुझ से मुकद्दर मेरा,

दिल मेरा दरिया हुआ, प्यासा ये मंजर मेरा,
कोई ठहरे अगर किनारे , वो बने साहिल मेरा,

वक़्त बुनियांद मेरी, सब्र पहचान मेरा,
ख्वाहिशों की तमन्नाओं में बैठा हर दिन मेरा।

-


19 likes · 12 comments · 1 share
Gunjan Gupta 23 HOURS AGO

वफ़ा तेरे इश्क़ से उम्मीदें बहुत है
तू मेरा है मेरा ही रहे ये चाहत बहुत है

उम्र तलक बीते वक़्त कितना भी
तू सहारा है मेरा' ये तेरा कहना ही बहुत है

नज़रें तेरी ढूंढे मुझे हर पल हर लम्हां
किसी और को न देखने का तेरा इशारा ही बहुत है

-


31 likes · 5 comments · 1 share
Gunjan Gupta 6 JUL AT 21:03

मेरी ज़िन्दगी तेरी साँसों से, वफ़ा तेरे इश्क़ से,
बेसब्र बैठी सालों से, ये हया सिर्फ तेरे लिए।

आरजू ,तमन्ना और ख्वाहिश तेरी पनाह को बैठे हैं,
तू वक़्त की जंजीरों को तोड़ आ , बस तेरी तलब को बैठे हैं।

अपनी ख्वाहिशों की रूह पर ,तेरी चाहत का जिस्म समेटे हैं,
तू राहों को न भूल जाना, मेरा दिल तेरे तसव्वुर को बैठे हैं।



-


Show more
24 likes · 8 comments
Gunjan Gupta 6 JUL AT 15:02

तालीम है तलब है फिर भी तसव्वुर में बैठे हैं।
वो अपने हया , अदब और नज़ाकत को समेटे हैं।

-


27 likes · 8 comments · 1 share
Gunjan Gupta 6 JUL AT 3:07

उम्र गुजर रही है वक़्त के साथ
सफर को सुहाना बनाते रहों

राही साथी सफर संघर्ष हर
वक़्त से साथ मिलते चलो

ज़िन्दगी खूबसूरत है कितनी
कुछ वक़्त ठहर कर समझ आएगा

खुद से खुद की मुलाकात हर मुश्किल में
खुद ही वक़्त वक़्त पर कराते चलो

खामोशियों की खनक ख़ामोश हो कर
अंतर मन में गुनगुनाते चलो

-


Show more
30 likes · 2 comments
Gunjan Gupta 5 JUL AT 23:40

~~ताल्लुक नहीं किसी के हाल से~~

ताल्लुक नहीं रखते हम अब किसी के हाल से,
मन बहुत बेचेंन होता है किसी की बुरे हाल से,

किसी के ज़ख्म हम से देखे जाते नहीं इस खयाल से,
कितना दर्द होगा उनको जहन में चलते सवाल से,

पूछ कर सवाल उनके जख्मो को दुखा न दूँ दिल से,
इस लिए ख़ामोश रहती हूँ दर्द से भरे हर सवाल से,

साथ देना किसी का आसान है पर दिल का दर्द भाप ले,
कुछ राहों में साथ दे कर उनके लफ़्जों के हल चल से,

रुख बदले हवाएं जैसे मौसम के बदले मिज़ाज से,
ताल्लुक नहीं रखते हम अब किसी के हाल से,

-


Show more
20 likes · 3 comments · 1 share
Gunjan Gupta 5 JUL AT 21:04

मसरूफ हो कर मसक्त कर रहे हैं वो,
अपने ही किरदार को पूरा कर रहे हैं वो,

माफ़ी मांग ली उसी किरदार से जो कमी छोड़ी थी,
आज उन्ही को अपनी ज़िन्दगी में पूरा भर रहे हैं वो,

एक शुरुवात ही थी एक नई पहल की ज़िन्दगी के साथ,
हाथ थाम हाथों में नये रिश्ते की पहल कर रहे हैं वो।

-


Show more
17 likes · 5 comments · 2 shares
Gunjan Gupta 5 JUL AT 16:00

~~~मंजिल पाने की बेसब्री~~

उम्र तलक ज़िन्दगी गुजर रही है,
कुछ कट रही है कुछ निकल रही है,

सब्र अब टूट रहा चलते चलते राहों में,
मंजिल न दिख रही है न मिल रही है,

वीरानगी की भी एक हद होती है,
ख़ामोशी ख़ामोश नही चीख़ रही है,

शोर आवाजों का नहीं खल रहा मुझे,
मेरी तमन्ना ही कुछ ज्यादा मचल रही है,

सब्र है ख़्वाबों के रूबरू होने तक का,
पर आरजू है जो मुझ में न ढल रही है,

थामा है दिल में मैंने मेरी तमन्नाओं को लेकर,
पर धड़कनें अब न मुझसे सँभाल रही हैं।

-


Show more
23 likes · 30 comments · 2 shares
Gunjan Gupta 5 JUL AT 3:05

चाँदनी रात में तारों के तले कुछ फ़रियाद करना,
मिले मोहब्बत की कोई ख़बर ,तो दिले -इज़हार का न इंतज़ार करना।

-


Show more
16 likes · 2 comments
Gunjan Gupta 4 JUL AT 20:42

बेक़रारी बेख़याली बेसब्र हो रहा आज और कल,
इंतज़ार के हर लम्हें को और भी बड़ा रहा ये पल,

-


Show more
21 likes · 11 comments · 1 share

Fetching Gunjan Gupta Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App