दीप शिखा  
2.9k Followers · 286 Following

read more
Joined 5 July 2018


read more
Joined 5 July 2018

ये कुदरत की कारीगरी है या ख़ुदा की इनायत,
रंग सोने सा है मेरी मेहनत का और हाथ मैले हैं !

-


Show more
137 likes · 102 comments · 1 share
दीप शिखा 28 SEP AT 16:35

साथ हैं रंग हजारों बस तेरा साथ नहीं,
चाँदनी अब भी होती है मगर वो रात नहीं,
दु:ख इस बात का नहीं कि हम तन्हा हैं,
ख़्यालो में भी होती तुझसे मुलाकात नहीं !

-


120 likes · 29 comments · 1 share
दीप शिखा 28 SEP AT 14:40

उम्र का ये दौर और ख़ामोशियों का सफर,
ऊंचे मकानों में तन्हा, हम अपने घर का पता पूछते हैं !

-


134 likes · 37 comments · 3 shares
दीप शिखा 26 SEP AT 18:00

चुभा करती हैं खामोशियाँ तन्हा रातों में,
वो उजालों में अपनी परवाह खोजता है।

-


98 likes · 27 comments · 2 shares
दीप शिखा 26 SEP AT 17:35

सच छिपा लेती हैं ये निगाहें अक्सर,
इश्क़ ख़ामोश लबों पर गुनाह खोजता है।

-


83 likes · 11 comments
दीप शिखा 26 SEP AT 8:13

जब जली तो जलते न देखा तुमने,
जब बुझी तो बुझते न देखा तुमने,
सांझ सी मैं जिसे तलाश थी शायद
जब ढली तो ढलते न देखा तुमने !

-


114 likes · 77 comments · 2 shares
दीप शिखा 23 SEP AT 19:00

लफ़्ज़ हैं कुछ अनकहे, कुछ बात आधी है,
ख़ूबसूरत ख़यालो की उनकी सौगात आधी है,
हम ख़ुद हैं परेशां अपनी बेबाक कलम से,
अफ़सुर्दा इश्क़ से उनकी शिकायात आधी है !

-


126 likes · 52 comments · 4 shares
दीप शिखा 19 SEP AT 19:42

खर्च हो रही, मुख़्तसर सी जिंदगी किश्तों में,
ज़मीं की फ़िक्र नहीं, आसमाँ ख़ुदा लगता है।

-


143 likes · 82 comments · 3 shares
दीप शिखा 18 SEP AT 16:36

मेहरबानी तेरी, जो नेमत-ए-जीस्त मिली है मुझको,
ऐ खुदा, तमाम तीरगी तेरी रहमतों से रौशन कर दे !

-


Show more
127 likes · 40 comments · 2 shares
दीप शिखा 15 SEP AT 14:16

देख कर आईना तेरा खयाल कैसा है,
तू अब तू नहीं, मिरे बीते हादसे सा है,

फ़िक्र है तेरी, ये गलतफहमी न रखना,
बात ये वक्त, और बीच मेरे, जफ़ा सा है,

तिरे तग़ाफ़ुल पर, मिरा यूँ मुस्करा देना
मिज़ाज-ए-दर्द में, इतना ही राब्ता सा है,

ऐतबार किस पर, और इंतज़ार कैसा हो
मरासिम निभाना, अब लगता झूठ सा है,

ख़लिश चुभती है ताज़ीर सी 'ऐ दीप'
तू इश्क़ नहीं, ज़हन में इक ख़ता सा है !

-


Show more
137 likes · 51 comments · 2 shares

Fetching दीप शिखा Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App