Dhara Patel   (Dhara patel)
289 Followers · 176 Following

जान कर क्या करोगे ?
Joined 3 July 2020


जान कर क्या करोगे ?
Joined 3 July 2020
22 JAN AT 20:33

हर्फ ये था की इश्क़ मे शामिल मे ना हो सका,
फर्क ये था की वो महफिल मेरी कभी हुयी ही नही,

एक दास्ताँ जो मैने आखो से देखी थी,
छोडो, मंजिल उसको भी मिल पायी नही थी।

-


21 JAN AT 20:14

देख कर कम जगह वाला पानी डुबा मत करो,
तालाब का पानी अक्सर गहेरा होता है,

और यू ही मत वारो किसी की खुबसूरती पर,
जनाब इधर हर चेहरे के पीछे चेहरा होता है।

-


21 JAN AT 12:40

उसको गरूर था कि मुझसे बहेतर मिलेंगे उन्हे,
उन्हो ने एक उम्र गुजार दी तलाश करते करते

बिखरा वो इतना की राख हो गया,
बंजर सी जमीं को आकाश करते करते।

-


21 JAN AT 6:33

Be yours forever,
because no one is yours...

-


20 JAN AT 20:42

लफ्जो को बिना शराब के नशा चढ जाता है,
शायरीयों मे जिक्र जब तेरा आता है।🖤

-


19 JAN AT 18:48

कलम से संजोया हर मर्तबा महोब्बत को मैने,
बिना भेजे ही पढा जाये इस तरह लिखा था खत को मैने!,

क्या ही फासले और खाख नजदीकिया,
शुक्र करो जो भी लिखा गलत लिखा मैने ।

-


18 JAN AT 22:10

मेरी इश्क़ियत की गहराई लोगो को कुछ इस कदर सिखायी जाये
की जनाजा मेरा हो उपर तस्वीर उसकी लगायी जाये।

-


18 JAN AT 5:08

Every recovery consist that ther is
no problems which haven't solution.

-


17 JAN AT 20:53

मे खत भी लिखू तो वो खता समज लेती है,
मिलना नामुमकिन फीर भी जिद बेहिसाब करती है,

मुझको जरा सी चोट लगी अपने सर पर सब ले लेती है
दरअसल वो महोब्बत मुझसे बेहिसाब जताती है।

-


16 JAN AT 18:21

मरहमी सी धुप और करारी बारिश,
खफा हो खुशिया और गम की सिफारिश,

तेरा साथ है ख्याल पर ख्वाबो मे गुजारिश,
शायरियाँ, समुंदर और कलम की नवाजिश।❤



-


Fetching Dhara Patel Quotes