CA Priya Patel   (©_Priya🌟)
10.0k Followers · 10 Following

read more
Joined 17 September 2017


read more
Joined 17 September 2017
23 APR AT 20:45

उम्मीद से परे है उनसे मुलाकात की ये ख्वाहिश जनाब,
दिन की कड़कती धूप में जैसे रात की हवा का झोंका कोई ।

-


4 FEB AT 0:16

वो अनचाही अलविदा की कश्मकश है जनाब,
अगली मुलाकात का ख़्वाब सजाए इन्तज़ार कोई ।

-


1 JAN AT 23:48

हर रोज़ पढ़ रही हूं उनके वो पुराने ख़त जनाब,
और वो हमें सरेआम बेवफ़ा क़रार कर चुके हैं ।

-


18 NOV 2020 AT 18:29

बेह रहा था लफ़्ज़ों का सैलाब इन निगाहों से जनाब,
और उनको उम्मीद थी कि हम होंठों से बयान करे ।

-


15 NOV 2020 AT 10:07

ये लंबे रास्ते कम पड़ जाते है जनाब,
जब वो हमारे हाथ में हाथ लिए साथ चलते हैं ।

-


12 NOV 2020 AT 22:16

हमारे दिल के भी अपने कुछ उसूल है जनाब,
जिस्म से नहीं, ये बस रूह से आशिकी निभाता है ।

-


21 OCT 2020 AT 12:14

हम तो बेझिझक फना हो जाए उनके इश्क़ में जनाब,
कोई उनसे भी तो पूछे क्या वो हमारी मोहब्बत के काबिल है ?

-


7 OCT 2020 AT 19:20

चंद सांसों की मोहताज है ये ज़िन्दगानी जनाब,
तसव्वुर के जहान को हकीकत में भी जी लिजिए ।

-


1 OCT 2020 AT 0:27

एक अरसे बाद हमारी नफ़्स मुस्कुरा रही है जनाब,
यक़ीनन उनके अल्फ़ाज़ में उमीद-ए-परवाज़ बेलौस है ।

-


26 SEP 2020 AT 23:57

उनके हाथों की चाय की आदत हो गई है जनाब,
या शायद सुबह-शाम मिलने का बहाना मिला है ।

-


Fetching CA Priya Patel Quotes