CA Priya Patel   (©_Priya🌟)
10.1k Followers · 6 Following

read more
Joined 17 September 2017


read more
Joined 17 September 2017
30 JUN AT 12:49

यादों की करवट लिए एक ज़माना निकल गया,
और हम समय के साथ कदम मिलाकर चल रहे हैं ।

-


11 JUN AT 22:15

Paid Content

-


11 JUN AT 22:00

ओढ़ कर चुनर उनके इश्क़ के एहसास की जनाब,
वो सोलह सिंगार की खुशी निगाहों में उभर आई है।

-


10 JUN AT 9:37

लफ़्ज़ कहीं आंखमिचौली खेल रहे थे जनाब,
आज फिर लम्बे अरसे बाद कलम से दोस्ती कर ली है।

-


11 JUL 2021 AT 11:35

मत करिए गुरूर अपनी रईसी का जनाब,
खुदा से ज़िन्दगी खरीदने की औकात तो आज भी नहीं है ।

-


4 FEB 2021 AT 0:16

वो अनचाही अलविदा की कश्मकश है जनाब,
अगली मुलाकात का ख़्वाब सजाए इन्तज़ार कोई ।

-


1 JAN 2021 AT 23:48

हर रोज़ पढ़ रही हूं उनके वो पुराने ख़त जनाब,
और वो हमें सरेआम बेवफ़ा क़रार कर चुके हैं ।

-


18 NOV 2020 AT 18:29

बेह रहा था लफ़्ज़ों का सैलाब इन निगाहों से जनाब,
और उनको उम्मीद थी कि हम होंठों से बयान करे ।

-


15 NOV 2020 AT 10:07

ये लंबे रास्ते कम पड़ जाते है जनाब,
जब वो हमारे हाथ में हाथ लिए साथ चलते हैं ।

-


12 NOV 2020 AT 22:16

हमारे दिल के भी अपने कुछ उसूल है जनाब,
जिस्म से नहीं, ये बस रूह से आशिकी निभाता है ।

-


Fetching CA Priya Patel Quotes