Bittu Shree Darshanik   (દાર્શનિક)
72 Followers · 40 Following

read more
Joined 27 May 2021


read more
Joined 27 May 2021
YESTERDAY AT 10:07

रात के पास अपने खुद के कोई राज़ नहीं होते।
दिमाग पागल मत करो,
चमगादड़ की तरह जागने से बेहतर है सो जाओ।
सेहत अच्छी रहेगी।
ऐसी बातों में वक्त जाया ना करे।
अपने काम पे अधिक ध्यान लगाएं।

-


1 DEC AT 18:23

घूंट - घूंट पी रहा वो मुंह,
बस पेट भरता जाता है।

उस सीने के पास लगकर,
सुकुन मूंदी आंखो में है।

थन से लगे होंठ छोट है,
उसी पे टिकाए हाथ है।

गिर न जाए ये शिर कहीं,
बना तकिया वो हाथ है।

यहां चाहे कितना शोर है,
थन में समाया ये जहां है।

आंखे मूंद के जीना हुआ है,
सुकुन का वक्त बीत चुका है।

-


29 NOV AT 22:14

वो: अर्ज किया है,
टोपी पहन ली, चश्मा केसे लगाओगे ?
टोपी पहन ली, चश्मा केसे लगाओगे ?
दोस्त तो बना ली अब,
गर्लफ्रेंड केसे बनाओगे ?

दार्शनिक: जी गौर फरमाइए!
टोपी पहनी है हमने तो लेंस लगा लेंगे।
टोपी पहनी है हमने तो लेंस लगा लेंगे।
उस दोस्त को दोस्त ही रखेंगे।
बीवी पार्ट टाइम हो या फुल टाइम,
पंगे नहीं लेंगे !

-


29 NOV AT 11:45

प्रेम का समान्य अर्थ है,
"स्वार्थ का त्याग", "अन्यार्थ, परार्थ और परमार्थ का स्वीकार"।

-


29 NOV AT 10:50

Paid Content

-


28 NOV AT 12:15

प्रति,
बिट्टू की प्यारी ममा।






लि.
बिट्टू

-


27 NOV AT 10:29

A bad boy with good personality
A cold mind with warm blood.
A strong guy with delicate emotions.
An indipendent soul with many friends.

-


25 NOV AT 21:31

ऐसे मुश्किल प्रश्न अब सामने आ रहे है की...
जवाब मिल ही नहीं रहे।
अगर जवाब कहीं दिख गया तो...
कैसे आया समझ नहीं आता।

क्या हालात हो गए है यार !
🤦🏽‍♂️🤦🏽‍♂️🤦🏽‍♂️🤦🏽‍♂️🤦🏽‍♂️🤦🏽‍♂️🤦🏽‍♂️🤦🏽‍♂️

-


21 NOV AT 10:33

जब जिम्मेदारी का धक्का लग रहा हो,
हृदय में अकेलेपन का एहसास हो।
तब आवश्यकता छत की नहीं,
उचित मार्गदर्शक और साथ की होती है।

-


20 NOV AT 18:16

This is how Ruhi looks from her Bhaiyu's eye.

-


Fetching Bittu Shree Darshanik Quotes