Ayman Jamal   (JAMAL)
6.0k Followers · 74 Following

chale-chalo ki vo manzil abhi nahi'n aa.i (~Faiz)
Joined 10 November 2016


chale-chalo ki vo manzil abhi nahi'n aa.i (~Faiz)
Joined 10 November 2016
Ayman Jamal 29 JUL AT 1:42

नींद पलकों पे बैठी
तकती है सारी सारी रात
आंखों में जलते सपनों का मंज़र,
आंखों से उठते धुएं का ख्वाब ।

-


Ayman Jamal 29 JUL AT 1:00

ऐ इश्क! ले चल वहां
जहां से तेरा
कारवां था चला
वो शहर, वो नगर,
जहां की हवा,
बहती इश्किया
ऐ इश्क!
चल चलें अब वहीं
अब यहां पर है क्या?
ना तेरा कुछ बचा
ना मेरा कुछ रहा ।

-


Ayman Jamal 25 JUL AT 12:31

सफरनामा~

तेरी राहों को छोड़ कर जाता है कोई
मुसाफिर सा फिर भी नजर आता है कोई
मंज़िल का जुनून, चाहत किसी की
रफ्तार से तेरी रूठ जाता है कोई
रात और दिन के दामन में सिमटने की कसक
तुझे देख कर ही चैन पाता था कोई
कह अलविदा अब चला जाता है कोई
मुसाफिर सा फिर भी नजर आता है कोई।

-


Ayman Jamal 18 AUG 2019 AT 9:44

कुछ है
जो मैं लिखना चाहती हूँ
दर्द, ख़ुशी,
बोझ, हसी से परे
झूठ, सच,
नेकी, बदी से अलग
तुझसे, मुझसे,
इससे, उससे जुदा
सब कुछ भुला कर
सब कुछ झुटला कर
बस ख़ुदा
बस ख़ुदा
बस ख़ुदा लिखना चाहती हूँ।

-


Ayman Jamal 7 AUG 2019 AT 21:49

Excerpts from the book of mind~


"Humans are this and that and this and that......"
How does that even make sense to you? Humans are nothing! They can't be described. Humans are bodies with unimaginable things in it. Things you see and things you don't. And how do you even categorise the unknown?

-


Ayman Jamal 6 AUG 2019 AT 18:03

हमारी शह का इंतज़ार इस कदर है उसको
हमसे जलन बेशुमार, डर बहुत है उसको
कह दो तमाशबीनों से खेल अब भी बाकी है
मैदान छोड़ा नही हमने, लड़ना अभी बहुत है उसको ।

-


Ayman Jamal 6 AUG 2019 AT 1:46

ज़रूरी नही सबक हर चीज़ का सीधा सीधा मिले
थकना किसे कहते हैं, ये बैठे बैठे महसूस हुआ ।

-


Ayman Jamal 4 AUG 2019 AT 22:53

मर मिटने का हुनर ऐसे ही तो नही आता है
हर दोस्त, कहाँ अए दोस्त, दोस्ती निभाता है!

-


Ayman Jamal 3 AUG 2019 AT 21:16

मैंने इश्क़ का सलीक़ा सीखा उम्र बीत जाने के बाद
मेरी ग़ज़लों को इतराना आया मेरे ढल जाने के बाद ।

-


Ayman Jamal 29 JUL 2019 AT 22:55

एक उम्मीद ए वफ़ा है
जो अब तक बाक़ी है
वादे जो हज़ार किए थे
वादे वो हज़ार टूट गयें ।

-


Fetching Ayman Jamal Quotes