Arun Prakash Singh   (Arun Prakash Singh)
4.9k Followers · 617 Following

read more
Joined 3 November 2016


read more
Joined 3 November 2016
Arun Prakash Singh 8 JAN AT 23:31

दिल की धड़कन रुक जाना,
पलक बिल्कुल न झपकाना,
तुझे देख के,
मदहोश होता हूँ,
शायर होता हूँ,
कुछ चंद लफ़्ज़ों बाद,
मैं बदनाम भी होता हूँ,
तेरे इश्क़ में,
तुझसे इश्क़ में,
जी रहा हूँ,
मुस्कुरा रहा हूँ,
आसान ही है,
मुश्किल नहीं है,
तुझसे इश्क़ हो जाना,
उसको ताउम्र निभाना।

-


Show more
109 likes · 15 comments · 6 shares
Arun Prakash Singh 3 DEC 2018 AT 18:23

फिर भी अभी बाकी है,
तुझमें जो एहसास है,
वो ऐसा अमर है।

-


Show more
81 likes · 7 comments · 6 shares
Arun Prakash Singh 21 NOV 2018 AT 20:54

जब उजाला नज़र आने लगे,
समझ जाओ कि अँधेरा हो गया है।

-


Show more
96 likes · 9 comments · 9 shares
Arun Prakash Singh 11 NOV 2018 AT 20:18

होती नहीं,
हो जाती हैं दूरियाँ,
तेरे मेरे दरमियाँ,
ये जाने कैसी मजबूरियां।

-


Show more
96 likes · 8 comments · 6 shares
Arun Prakash Singh 3 NOV 2018 AT 7:35

जाने ऐसी कौन सी बंदिश है तुम में,
बहुत आज़ाद होता हूँ तुम्हारी बेड़ियों में मैं।

-


96 likes · 20 comments · 3 shares
Arun Prakash Singh 1 NOV 2018 AT 0:33

एक काश पे ही रुका है मेरा सारा वजूद,
की ख़्वाबों सा इश्क़ कर पाऊं,
काश मैं ऐसा कोई पा पाऊं।

-


Show more
82 likes · 6 comments · 2 shares
Arun Prakash Singh 27 OCT 2018 AT 20:50

ज़िन्दगी बस कुछ चंद यादें है,
कुछ बन चुकी हैं,
कुछ बननी बाकी हैं।

-


Random Thought

#random #life #memories

88 likes · 8 comments · 7 shares
Arun Prakash Singh 22 OCT 2018 AT 21:05

मेरी अनगिनत शामों में लगभग उतने ही नज़ारे हैं,
पर मैंने सारे दिन अपनी ख़्वाबों में यहीं गुज़ारे हैं।

-


Show more
78 likes · 10 comments · 3 shares
Arun Prakash Singh 18 OCT 2018 AT 14:14

जब तुम लाखों हँसी के अँधेरे में घिरे होगे,
कोई उजाले सा तुमपे मुस्कुरा रहा होगा।

-


Amongst all the laugh, look for the one smiling.


81 likes · 2 comments · 6 shares
Arun Prakash Singh 15 OCT 2018 AT 19:24

दो ही तरह के कहानीकार होते हैं,
कोई दिल को सुनाता है,
कोई दिल की सुनाता है।

-


Show more
104 likes · 6 comments · 4 shares

Fetching Arun Prakash Singh Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App