Arun Prakash Singh   (Arun Prakash Singh)
5.7k Followers · 622 Following

read more
Joined 3 November 2016


read more
Joined 3 November 2016
Arun Prakash Singh YESTERDAY AT 10:09

बदलेगा वो क्या,
जो ख़ुद बदल जाएगा,
ज़माना उसका मोहताज़ नहीं,
जो ज़माने में ढल जाएगा।

-


40 likes · 2 comments · 3 shares
Arun Prakash Singh 12 JAN AT 23:43

ज़ाहिर जो मेरा अँधेरा हो जाएगा,
ख़ुद में से मेरा कुछ कम हो जाएगा।

-


Show more
44 likes · 1 comments · 2 shares
Arun Prakash Singh 26 DEC 2019 AT 9:21

वक़्त की रफ़्तार अजीब है,
एहसास के हिसाब से चलती है।

-


52 likes · 2 shares
Arun Prakash Singh 26 DEC 2019 AT 9:15

थोड़ा वक़्त हो गया है,
गुज़रे उस ज़माने को,
ये कमबख़्त ऐसी यादें हैं,
जो हमेशा आँखों में रहती हैं।

-


Show more
61 likes · 8 comments · 3 shares
Arun Prakash Singh 22 NOV 2019 AT 17:18

न शून्य हूँ, न अंत हूँ,
काल में मैं बह रहा,
खो गया अनंत हूँ।

-


59 likes · 3 comments · 2 shares
Arun Prakash Singh 12 NOV 2019 AT 15:15


इश्क़ मेरा इश्क़ है,
आज था वो कल भी है,
चल रही है जिंदगी सी,
क्यों कोसता तू क्या पता,

प्यार के हर मायनों में,
तू कर गुज़र उसको दिखा,
मुस्कुरा दे जो वो देख तुझको,
और क्या चाहिए फिर क्या पता।

-


Show more
35 likes · 2 comments · 3 shares
Arun Prakash Singh 11 NOV 2019 AT 16:46

खो गया ख़ुद में कहीं मैं,
ढूंढता ख़ुद को यहाँ,
मिल सके वो रास्ता जो,
ले चले मुझको वहाँ,
हूँ जहां पे रो रहा मैं,
बंध के ख़ुद की बेड़ियों में,
थाम के मैं हाथ अपना,
ले चलूं ख़ुद को वहाँ,
हूँ जहां आज़ाद सा मैं,
मिल सकूँ ख़ुद को जहां,
हो सकूँ जो एक फिर मैं,
ख़ुद को ख़ुद में घोल के,
रुक सकूँ तब तक जहां मैं,
जाना मुझे है अब वहाँ,
ढूँढता ख़ुद को ख़ुदी में,
खो गया ख़ुद में यहाँ।

-


Towards the way to me

58 likes · 16 comments · 5 shares
Arun Prakash Singh 4 SEP 2019 AT 20:09

उसको पता भी न था,
कि मैं देख रहा था,
और मैं,
बस देख रहा था।

-


A poem to follow.... "मैं उसको ही देख रहा था"

1554 likes · 31 comments · 38 shares
Arun Prakash Singh 19 JUL 2019 AT 15:50

तुमने कई सरहदें देखी हैं,
और मैंने सारी जिंदगी, सिर्फ हदें।

-


Show more
97 likes · 2 comments · 3 shares
Arun Prakash Singh 25 JUN 2019 AT 23:20

चलो कहीं हवा हो जाएं,
बीमार सी इस दुनिया में,
एक दूसरे की दवा हो जाएं।

-


Show more
107 likes · 14 comments · 9 shares

Fetching Arun Prakash Singh Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App