Aरिफ़ Aल्व़ी   (Arif Alvi | عارف علوی)
7.1k Followers · 32 Following

read more
Joined 5 February 2019


read more
Joined 5 February 2019

इस अहंकार के आगे और बहुत कुछ है
कर तो सही ज़रा सा ग़ौर, बहुत कुछ है

अपनी ही धुन में यूँ चलने से क्या होगा
देकर देख ले ज़रा सा ठौर बहुत कुछ है

हर वक़्त एक जैसा नहीं रहता किसी का
बदलता तो ज़िन्दगी में दौर बहुत कुछ है

जगह बदलने से गुनाह कम तो नहीं होंगे
अब दिल्ली हो या हो इंदौर बहुत कुछ है

रहने दे "आरिफ़" कुछ भी मत लिखा कर
बात को समझने का ये तौर बहुत कुछ है

-


191 likes · 26 comments · 6 shares

लोगों नें चलना सीख लिया इसलिए चल रहे हैं
हर मोड़ पर ये छले जा रहे हैं, या तो छल रहे हैं

-


Show more
187 likes · 15 comments · 3 shares

चाँद की चाहत में तारों को भूल गया हूँ मैं
चाँदनी तो मिल गई पर ख़्वाब पूरे ना हुए

-


Show more
197 likes · 15 comments · 3 shares

एक बीज मिले टूटे दिलों की बंजर ज़मीं को
कम से कम कहीं तो इब्तिदा-ए-इश्क़ पैदा हो

-


Show more
230 likes · 39 comments · 3 shares

मेरे अच्छा लिख देने भर से अगर तू सभी के लिए अच्छा होकर आ सकता है तो मैं चाहता हूँ कि तू सभी की ज़िन्दगी में ख़ुशियाँ बनकर आ। जब भी तू आए तभी से उनके चेहरे खिल उठें और उनकी सभी परेशानियाँ दूर हो जाएँ। ऐ आने वाले पल तू ऐसा बनकर आना कि इस दुनिया से सभी बुरी बलाएँ चली जाएँ और यहाँ के सभी रहने वालों की उम्र दराज़ हो। तू सिर्फ़ मेरे अकेले के लिए अच्छा बनकर आ रहा है तो मत आ, सबकी सोच सब कितने परेशान हैं। जल्दी जवाब देना कब आ रहा है?

तेरे इन्तज़ार में तेरा हमदर्द...

-


Show more
189 likes · 29 comments · 4 shares

दर्द ने दर्द से दर्द का हाल कब पूछा
ज़ख़्म मिलते गए वक़्त गुज़रता गया

-


दर्द अभी बाक़ी है मेरे दोस्त...

#दर्द #वक़्त #हाल #कोराकाग़ज़ #yqdidi #yqbaba

256 likes · 27 comments · 5 shares

ये क्या बात हुई कहकर मुझे छोड़ कर चला गया वो
तुम्हारी बातें दिल में घर करती हैं कहा करता था जो

-


Show more
253 likes · 31 comments · 6 shares

ख़्वाब हो गए अब शहर अपने
पिलाने लगे हैं अब ज़हर अपने

जो मन करता है ये लिख देते हैं
अपने ही रदीफ़ और बह्र अपने

अपनी ही दुनिया में जीते हैं लोग
अपने ही वक़्त और पहर अपने

गुनाहों का कहाँ ठिकाना है अब
ढाने लगे हैं जब से कहर अपने

तू भी फंस ही जाएगा "आरिफ़"
लम्हे अब नहीं रहे ये ठहर अपने

-


205 likes · 27 comments · 5 shares

मेरे ख़्वाब की ताबीर है वो एहसास
मेरे इश्क़ की तासीर है वो एहसास

उसकी एक नज़र सबको मात दे दे
शायद ऐसी शमशीर है वो एहसास

उसके बिना ख़सारा ही ख़सारा होगा
लगता है मेरी तक़दीर है वो एहसास

ज़िन्दगी भी फ़ानी है चले जाएँगे सब
ज़िन्दा लोगों का ज़मीर है वो एहसास

रंजिशों से कभी कुछ मिला है "आरिफ़"
मोहब्बत से भी अमीर है वो एहसास

-


Show more
245 likes · 34 comments · 4 shares

How's the josh ?




Quarantined.

-


188 likes · 20 comments · 3 shares

Fetching Aरिफ़ Aल्व़ी Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App