Aरिफ़ Aल्व़ी   (कोरा काग़ज़....✍ (Arif Alvi))
2.8k Followers · 3 Following

read more
Joined 5 February 2019


read more
Joined 5 February 2019


रास्ते का पत्थर हो गयी है ज़िन्दगी
ठोकरों के अलावा कुछ नहीं चाहिए

-


218 likes · 94 comments · 11 shares

मैं दूसरों में ढूँढता रहा उजाले की एक किरण
क्या ख़बर थी मेरे पैरों तले रौशनी का दरिया है

-


259 likes · 140 comments · 12 shares

वो रूठने पर और हसीन लगती थी
इसी वजह से मैंने उसे मनाया नहीं

-


286 likes · 201 comments · 11 shares

सिर्फ़ कहने भर से नहीं मिलती मंज़िलें
हर किसी को मुसाफ़िर बनना पड़ता है

-


272 likes · 132 comments · 12 shares

क्यों न पतंगों की उड़ान नीची रख
कुछ परिंदों को बचा लिया जाए

-


281 likes · 173 comments · 11 shares

कैसे सोये हुए ज़ख्मों को जगाऊँ
चलो उनकी एक तस्वीर बनाऊँ

-


284 likes · 86 comments · 11 shares

वजूद-ए-ज़न करता है दुनिया रंगीन
सूखे दरख़्त होते गर ऐसा नहीं होता

-


Show more
269 likes · 93 comments · 11 shares

अपनें हौसलों से तक़दीर बदल दूँ
सुन ज़ालिम दुनिया मैं मोहब्बत हूँ

-


272 likes · 94 comments · 11 shares

दुनिया एक इश्क़ का मैदान है
अब मैं खेलूँ या खिलवाड़ करूँ

-


280 likes · 76 comments · 10 shares

ज़िन्दगी है ही शर्मनाक
तलाक़ तलाक़ तलाक़

-


Show more
221 likes · 82 comments · 11 shares

Fetching Aरिफ़ Aल्व़ी Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App