Anuup Kamal Agrawal   (A.AG.)
20.5k Followers · 1.6k Following

मल्हारा सुना आपने?
Joined 4 October 2016


मल्हारा सुना आपने?
Joined 4 October 2016
YESTERDAY AT 20:52

आसान नहीं।

मुश्किल भी नहीं।

-


YESTERDAY AT 8:11

सूरज के हाथ होते
तो बादलों का घूँघट उठाकर
देखता धरती का मुखड़ा

सूरज के हाथ होते
तो चाँद के दाग मिटाकर
कम कर देता दुखड़ा

सूरज के हाथ होते
तो धरती से कभी न टकराता
किसी उल्कापिंड का टुकड़ा

-


YESTERDAY AT 8:07

प्रेम में लिखना पढ़ना
प्रेम में गिरना चढ़ना
प्रेम में घटना बढ़ना
प्रेम में टूटना गढ़ना
प्रेम में रुकना बढ़ना

लगा रहता है, लगा रहता है।

-


YESTERDAY AT 6:40

तुमसे पहली मुलाकात
पहली मुलाकात सी न लगी।

तुमसे आखिरी मुलाकात
कहीं सचमुच आख़िरी तो नहीं?

-


YESTERDAY AT 6:34

उतना ही अकेला हूँ
जितना तुमसे मिलने से पहले था

-


25 SEP AT 21:32

to decide the topics of our conversation.

-


25 SEP AT 17:55

"कैसे करती हो कपड़ों को प्रेस, हर बार कमीज की बटन टूटी हुई मिलती है।" राज ने कमीज़ पहनते हुए कहा।

सिमरन अपनी शरारत पर धीमे धीमे मुस्कुराते हुए सुई और धागा ले बटन टाँकने लगी।

-


25 SEP AT 16:59

उतरा न करो मेरी आँखों की गहराई में
ख़ुद भी डुबोगी और मुझे भी डुबाओगी

-


25 SEP AT 16:00

जिसने मुझे साहसी बनाया

-


25 SEP AT 16:00

when I witness the generosity of less priviledged.

-


Fetching Anuup Kamal Agrawal Quotes