Anshuman Kuthiala   (शहर में शायर)
132 Followers · 24 Following

read more
Joined 22 May 2017


read more
Joined 22 May 2017
11 JAN AT 22:43

वापस ले लो ये काले क़ानून ,
हमें चाहिये वही वाले क़ानून !

जिनसे हुआ शोषण-पोषण ,
तुमने काहे बदल डाले क़ानून!

इसमें संसद की बिसात क्या ,
बहुमत के बल बनाले क़ानून !

हम न मानेंगे क़ानून का राज ,
तुम करो हमारे हवाले क़ानून !

बातों से ही हल हों सब मसले ,
कोई किताबों से हटाले क़ानून !

क़ानून से नहीं बदला समाज ,
ये बात मन में बैठाले क़ानून !










-


26 NOV 2020 AT 13:40

तुझे खोना न होना तेरा पहचान है मेरी ,

लोग तेरे ही नाम से अब बुलाते हैं मुझे !

-


25 NOV 2020 AT 21:53

चन्द्रमा की तरह कलाएँ हैं तुम्हारी ,

हमें जो लगीं बुरी बलाएँ हैं तुम्हारी !

-


24 NOV 2020 AT 4:00


तुमसे जब पहली बार मिला था मैं ,

एक फूल की मानिन्द खिला था मैं !

-


2 NOV 2020 AT 22:32


तेरे बगैर है जीना कैसे कुछ मश्वरा ही दिया होता ,

तन्हाई के आलम में मैं इस क़दर न तबाह होता !

-


26 OCT 2020 AT 22:31



पहले मरते थे जिसकी अदाओं पे हम ,






अब उसके हवालों से नफ़रत हो गई है !

-


23 OCT 2020 AT 14:04


प्रेम बन्धन नहीं,मुक्ति है ,

यही जीवन की सुक्ती है !

-


16 OCT 2020 AT 22:30


कोई बुरा सपना हो जैसे !

-


13 OCT 2020 AT 13:29

मेरे दिल में पल्नेवाली कहानी ,

वो तो है एक जाली कहानी !

-


9 OCT 2020 AT 18:22




मासूम ही रह जाता मैं ,




जो तुमसे न मिला होता !

-


Fetching Anshuman Kuthiala Quotes