Anshuman Kuthiala   (शहर में शायर)
121 Followers · 22 Following

read more
Joined 22 May 2017


read more
Joined 22 May 2017
Anshuman Kuthiala 14 JUN AT 22:49


मन की गिरह कौन खोले ,

वो ही जो तेरा मौन खोले !

-


Show more
3 likes
Anshuman Kuthiala 13 JUN AT 22:41



ज़िन्दगी जीने का एक ही उसूल है ,

कि ये जितने भी रूल हैं,फ़िज़ूल हैं !

-


7 likes
Anshuman Kuthiala 4 JUN AT 20:36



पिछ्ली बार लुटा था सुख-संसार होली में ,






सो इस दफ़ा ना करेंगे हम प्यार होली में !

-


Show more
5 likes
Anshuman Kuthiala 2 JUN AT 14:27

याद है तुम्हे ? पहली दफ़ा हम जब मिले थे ,

ये मुर्झाए हुए फूल औ' तेरे लब तब खिले थे !

-


Show more
6 likes
Anshuman Kuthiala 27 MAY AT 11:43

अंशुमन के लिये क्या कहें ,

बन्दा बड़ा ही बेतरतीब है !

-


Show more
21 likes
Anshuman Kuthiala 13 MAY AT 20:51



                                           
 
हाँ या ना !

उस दिन जब मैंने उसे पहली बार देखा था, तो देखते ही मुझे कुछ हुआ था, जिसे मैं खुद बाद में समझ पाया| उसे देखते ही मैंने अपने आप से कहा था कि ये बुरी तो नहीं है| धीरे धीरे वो मुझे अछि भी लगने लगी| और मुझे ये लगा कि मैं भी उसे नापसंद तो नहीं हूँ| उसने खुद मुझे पहले बुलाया, इसलिए हमारे बीच की खामोशी को तोड़ने के लिए मुझे कुछ ख़ास करना नहीं पड़ा| वो मेरे किसी कमेंट पर हंसी  और मैं शरमाया-यही था पहला हादसा| इसके बाद कई  हसीन हादसे और हुए, कभी लाइब्रेरी में, कभी लैब में| वो मुझे देखती रहती और मैं उसे| आँख लड़ने का क्या मतलब होता है ये मुझे तब समझ आया था|                                                                                                                               

                                             











                                                          

                    

                                                                                                                                                

                                  

                         


-


Show more
6 likes · 1 share
Anshuman Kuthiala 11 MAY AT 19:57


जो तुमसे ना मिला होता ,





तो मासूम ही रह जाता मैं !



-


Show more
13 likes
Anshuman Kuthiala 7 MAY AT 22:42

मेरी ज़िन्दगी में ना दो यूँ दखल लोगों ,

मैं तुम्हारी नहीं सुनूंगा बेअकल लोगों !

-


Show more
5 likes
Anshuman Kuthiala 6 MAY AT 23:15


चाँद के चक्कर में सितारों से बैर कर लिया ,






मैंने उसकी खातिर सारों से बैर कर लिया !

-


Show more
9 likes · 1 share
Anshuman Kuthiala 2 MAY AT 14:29

तुम्हारे बाद मैं किसी को जचा ही नहीं ,

ये प्यार का खेल फिर से रचा ही नहीं ;

तुम ले गई साथ में ही मुझे भी अपने ,

पास मेरे तो मैं खुद भी बचा ही नहीं !

-


Show more
10 likes · 1 comments · 1 share

Fetching Anshuman Kuthiala Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App