Anshuman Kuthiala   (शहर में शायर)
117 Followers · 22 Following

read more
Joined 22 May 2017


read more
Joined 22 May 2017
6 HOURS AGO


माशूका

कवि का ख्वाब अधूरा ,

जिस पर विश्वास उसे पूरा ,

पीठ पर घोंप गई छूरा !

-


6 SEP AT 19:52

Forever with me is your smile in my life ,

Though you were for a while in my life !

-


28 AUG AT 13:52

प्यार वो बरखा है जिसमें हम यूँ भीग के निखरे ,

जैसे गुलाब के फूल पर दाने हों ओस के बिखरे !

-


23 AUG AT 23:17

कई साल , तेरे जाल में, गुज़ारे मोहब्बत ,

है कमाल,बेमिसाल तू इदार-ए-मोहब्बत !

-


19 AUG AT 17:15

हसीन चाहिये, ज़हीन चाहिये ,

एक कली ताज़ातरीन चाहिये !

-


16 AUG AT 21:16

जो थी अटल उसे भी टालते रहे ,
दीया-देह में प्राण तेल डालते रहे ,

तिरंगा ना झुके,इक दिन और रुके ,
जाते - जाते भी सब संभालते रहे !

-


11 AUG AT 23:11

एक कवि कभी पूरा नहीं होता ,

खाब उसका अधूरा नहीं होता !

-


7 AUG AT 23:23

प्यार जिसे समझा था वो थी गलतफहमी सी ,

उसे लगा ये क्या बला है वो बड़ी थी वहमी सी !

-


2 AUG AT 12:00

तेरी दोस्ती को देखकर ही ऐ दोस्त ,

लोग दोस्त कहकर मुझे डराने लगे हैं !

-


22 JUL AT 23:33

किताबों के बिना ये कमरा है ऐसा ,

ख्वाबों के बिना ज़िन्दगी के जैसा !

-


Fetching Anshuman Kuthiala Quotes