Anjula Singh Bhadauria   (Founder & Director AAGAMAN (ਪੰਜਾਬ))
10.5k Followers · 78 Following

read more
Joined 25 February 2017


read more
Joined 25 February 2017
Anjula Singh Bhadauria 15 APR AT 23:03

हर सुबह ज़िन्दगी तेरे, इस्तकबाल में झुकी।
कभी तो नज़ारे इनायत भी मेहर हो जाने दे।।

Anjula Singh Bhadauria

-


Show more
71 likes · 8 comments
Anjula Singh Bhadauria 1 APR AT 16:09

Show more
71 likes · 7 comments · 2 shares
Anjula Singh Bhadauria 21 MAR AT 10:42

Show more
55 likes · 18 comments
Anjula Singh Bhadauria 8 MAR AT 22:56

Poem in Caption 👇🏻



-


Show more
43 likes
Anjula Singh Bhadauria 8 MAR AT 15:31

तू दुर्गा है,  तू काली है,
कर खप्पर-खड्ग धारी है,  
तू सीता है, तू लक्ष्मी है,
सुख-समृद्धि घर की सारी है,
तू आज की बर्बर दुनिया में,
मानवता की रखवाली है, 
अपना होकर अपनों पर, 
करे ज़ुल्म उसे स्वीकार न तू,  
मनुष्य होकर भी अत्याचारी हो,
उसको बढ़ के ललकार दे तू, 
वो दुश्शासन हो या दुर्योधन,
वो मनुष्य हो चाहे खुद रावण,
तू ना दासी है, तू ना अबला है,
तू ना कल की बेचारी नारी है, 
स्वयं अधर्मी महिषासुर का, 
तू मर्दन करने वाली, 
तू  जननी है, तू ममता है,
तू भी जीने की अधिकारी है।

💕HAPPY WOMEN'S DAY💕

Anjula Singh Bhadauria

-


Show more
109 likes · 28 comments · 11 shares
Anjula Singh Bhadauria 7 MAR AT 23:17

कविता अनुशीर्षक में पढ़े 👇🏻


-


Show more
45 likes
Anjula Singh Bhadauria 7 MAR AT 16:45

कविता Caption में 👇🏻



-


Show more
41 likes · 6 comments
Anjula Singh Bhadauria 6 MAR AT 22:26

कविता Caption में 👇🏻



-


Show more
57 likes · 9 comments · 1 share
Anjula Singh Bhadauria 6 MAR AT 15:13


कविता Caption में 👇🏻


-


Show more
42 likes · 2 comments
Anjula Singh Bhadauria 4 MAR AT 12:36







ॐ नमः शिवाय

-


Show more
62 likes · 9 comments · 1 share

Fetching Anjula Singh Bhadauria Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App