Anand Kanaujiya   (Anand)
145 Followers · 161 Following

read more
Joined 7 January 2019


read more
Joined 7 January 2019
24 NOV AT 23:51

इसलिए
बस लिखे जा रहे हैं!

-


21 NOV AT 22:34

भटका हुवा ही तो हूँ
तेरे साथ जो नहीं हूँ!

-


20 NOV AT 23:53

बड़ा मुश्किल है तुझको

छोड़कर मुझे जाना...

उसके लिए जरूरी है

हाथों में हाथों का होना।

-


20 NOV AT 23:50

बड़ा मुश्किल है इच्छाओं को

गलत सही के चक्कर में दबाना...

जलराशि खतरे से ज्यादा हो तो

लाजमी है बाँध का ढह जाना।

-


5 NOV AT 23:13

वो दायरा
जिससे बाहर रहकर
लोग तुमसे
बात करते हैं
मैं वो दायरा
तोड़ना चाहता हूँ
मैं तेरे इतना क़रीब
आना चाहता हूँ।

-


26 JUL 2021 AT 2:14

दिल में घाव अब बहुत सारे हो गए हैं
मेरे हक़ीम से अब तो खंजर छीन लिया जाए!

-


1 JUL 2021 AT 2:26

माना कि तुझको पा लिया है हमने मगर,
महफ़िल में तुझे ढूढने की आदत नहीं गई।

-


13 JUN 2021 AT 21:40

काश….. बच्चों सी ज़िद मैं कर पाता
तुझको जाता देखता तो लिपट जाता!

-


11 JUN 2021 AT 22:30

तेरे आने का इंतजार यूँ हो
जैसे बारिश के इंतजार में मिट्टी ।

तेरे आने का इंतजार खत्म हो 
जैसे बारिश में खत्म इंतजार मिट्टी ।

-


11 JUN 2021 AT 22:29

प्यार का एहसास साथ रह जाए
जैसे बारिश के बाद गीली मिट्टी ।

तुम्हारे जाने की तड़प ऐसी हो
जैसे बारिश के बाद सूखी मिट्टी ।

-


Fetching Anand Kanaujiya Quotes