Anand Kanaujiya   (Anand)
150 Followers · 160 Following

read more
Joined 7 January 2019


read more
Joined 7 January 2019
26 JUL AT 2:14

दिल में घाव अब बहुत सारे हो गए हैं
मेरे हक़ीम से अब तो खंजर छीन लिया जाए!

-


1 JUL AT 2:26

माना कि तुझको पा लिया है हमने मगर,
महफ़िल में तुझे ढूढने की आदत नहीं गई।

-


13 JUN AT 21:40

काश….. बच्चों सी ज़िद मैं कर पाता
तुझको जाता देखता तो लिपट जाता!

-


11 JUN AT 22:30

तेरे आने का इंतजार यूँ हो
जैसे बारिश के इंतजार में मिट्टी ।

तेरे आने का इंतजार खत्म हो 
जैसे बारिश में खत्म इंतजार मिट्टी ।

-


11 JUN AT 22:29

प्यार का एहसास साथ रह जाए
जैसे बारिश के बाद गीली मिट्टी ।

तुम्हारे जाने की तड़प ऐसी हो
जैसे बारिश के बाद सूखी मिट्टी ।

-


11 JUN AT 8:05

तेरे लौटने का विश्वास यूँ हो, हर वर्ष जैसे
बारिशें गिरती हैं भिगोने को मिट्टी

-


11 JUN AT 8:02

मिलो तो अब ऐसे, जैसे
बारिश की बूंद से मिट्टी ।

-


10 JUN AT 9:35

तेरे प्यार में यूँ भीग जाऊँ
जैसे बारिशों में ये मिट्टी ।

तेरे लौटने पर आलम कुछ यूँ हो, जैसे
बारिशों में आनन्द को प्राप्त हो मिट्टी ।

-


31 MAY AT 22:51

ऐ उम्र इतना भी बड़ा न बनाना कि
अपनों के सामने भी झुक न पाऊँ।
मुझे रहने दे वही छोटा सा बच्चा कि
माँ की गोद में सर रख कर सो जाऊँ।।

-


23 MAY AT 23:05

"बीती इस उम्र में एक अरसा देखा
नंगे पैरों से चलकर आसमाँ देखा।"

-


Fetching Anand Kanaujiya Quotes