Amandeep Singh   (MannसेAman)
2.5k Followers · 74 Following

Insta: waah.amandeep

New Story ("Phir Meri Yaad") 👇
Joined 22 December 2016


Insta: waah.amandeep

New Story ("Phir Meri Yaad") 👇
Joined 22 December 2016
Amandeep Singh 25 MAR AT 20:01

जाने सहरा की अना किसने ऐसे पटकी है
दूर दिखाई दे रही, पानी की एक मटकी है

-


Show more
43 likes · 2 comments
Amandeep Singh 22 MAR AT 23:45


"विश्व भ्रमण"

Show more
38 likes · 10 comments · 72 Views
Amandeep Singh 17 MAR AT 15:55

चेहरे पे हँसी, दिल में उदासी रक्खी
मैं दरिया रहा, पर आँखें प्यासी रक्खी

नींद सुकूं की, अपनी जाँ को दी मैंने
ख़ुद के हिस्से में केवल उबासी रक्खी

-


Show more
52 likes · 9 comments
Amandeep Singh 10 MAR AT 0:59

घर में बच्चा हुआ, अंततः, जश्न मना

कुर्बां बच्चियाँ हुईं क्रमशः, जश्न मना


-


Show more
47 likes · 6 comments
Amandeep Singh 8 MAR AT 12:49

छींक आते आते ठहर गयी
मेरी हर ग़ज़ल बे बहर गयी

ग़म से निजात चाहती थी वो
सो हँसती रही, फ़िर मर गयी



-


Show more
55 likes · 14 comments
Amandeep Singh 19 FEB AT 14:46

वो आई ना! ताकता रहता है
वो, आईना ताकता रहता है

-


Show more
82 likes · 14 comments
Amandeep Singh 26 JAN AT 2:17

गर्व से दो दफ़ा साल में, 'मुल्क आज़ाद है' कहते हैं
बाल मज़दूर वो, जो सुबह, तिरंगा बेचते रहते हैं

-


Show more
67 likes · 1 share
Amandeep Singh 21 DEC 2018 AT 23:26


सताना

Show more
38 likes · 8 comments · 3 shares · 125 Views
Amandeep Singh 13 DEC 2018 AT 12:31

अधिक श्रृंगार नहीं, केवल माथे पर बिन्दी होनी चाहिए

मुझसे ब्याह करना है? अरे! रगों में हिन्दी होनी चाहिए




-


Show more
578 likes · 49 comments · 106 shares
Amandeep Singh 24 NOV 2018 AT 22:55


क्यों मैंने

Show more
42 likes · 13 comments · 161 Views

Fetching Amandeep Singh Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App