Amandeep Singh   (MannसेAman)
2.6k Followers · 73 Following

Insta: waah.amandeep

New Video ("Hashtag Bhasmasur Moment") 👇
Joined 22 December 2016


Insta: waah.amandeep

New Video ("Hashtag Bhasmasur Moment") 👇
Joined 22 December 2016
Amandeep Singh 14 MAY AT 14:06

मिलने आयी थी वो मुझसे आग पहन के
अभी अभी निकली है मीठे दाग़ पहन के
.
.
.
(पूरी रचना अनुशीर्षक में पढ़ें 👇)

-


Show more
40 likes · 6 comments
Amandeep Singh 13 APR AT 13:01

बच्चे अगर डराने हैं, शैतान बना
बात बड़ों की है? तो फिर भगवान बना

(पूरी रचना अनुशीर्षक में पढ़ें 👇)

-


Show more
35 likes · 10 comments · 1 share
Amandeep Singh 15 MAR AT 17:40

नाटक करने वालों को मालूम है ये
नाटक ख़त्म नहीं होता है, कभी नहीं

-


Show more
34 likes
Amandeep Singh 11 MAR AT 12:30

दुआ तो क्या मेरी लानत के भी हक़दार नहीं हैं
छोड़ के जाने वालों की मुझको दरकार नहीं है

मुमकिन है कि दिलो-दिमाग के दंगे अब रुक जाएँ
मेरे शहरे-दिल में अब तेरी सरकार नहीं है

आज इश्क़ का दावा, कल कह देना मुझको rebound
राधा कृष्णा की बातें तेरा अधिकार नहीं है

शर्म हया सब बेच बाच के हवस के बाज़ारों में
ग़ज़लों में कहते हैं कि दुनिया में प्यार नहीं है

जाने कितनों से ही पाक मुहब्बत करने वाली
तेरे दिल में चैम्बर ज़्यादा होंगे, चार नहीं हैं

मुझे चूम के पीठ में छूरा दागने वाली सुनले
तुझसे इश्क़ में धोखा खाना मेरी हार नहीं है

'अमन', बड़े वो बनते हैं जो इज्ज़त देना सीखें
जितना चाहे अच्छा लिख ले, तू फ़नकार नहीं है

-


45 likes · 6 comments
Amandeep Singh 6 FEB AT 20:30

मैं भारत से प्रेम करता हूँ
भारत मेरी माँ है
और महबूबा भी

भारत, हालांकि, पुल्लिंग शब्द है
देश भी
और मुल्क भी

लेकिन भारत से प्रेम करने के लिए
ज़रूरी है उसका स्त्री होना।

-


42 likes · 7 comments
Amandeep Singh 16 JAN AT 15:22

पड़ा ट्रंक में हर इक शॉल उदासी का है
सर्दी ही है, या माहौल उदासी का है

ख़ामोशी, कहकहे, रक़्स, बेहोशी, ट्रिंग् ट्रिंग्
लगता फिर से आया कॉल उदासी का है

लंबा रन अप दौड़ रही है, मिरे लिए वो
और हाँथ में उसके बॉल उदासी का है

जज़्बातों की लगी अटैंडैंस, पता चला
हाज़िर केवल इक ही रौल, उदासी का, है

डाली यादें, नीट, ग्लास में दारू के, तो
मुझ से बना पेग जो स्माॅल, उदासी का है

उसकी शादी की साड़ी मैंने बनवायी
देखो, उस साड़ी में फाॅल उदासी का है

देख चिता को उसकी, लेटा साथ 'अमन' भी
उनके ऊपर जो है शॉल, उदासी का है

-


24 likes · 6 comments
Amandeep Singh 4 JAN AT 13:46

दिल ने कभी शिकायत की ही नहीं दर्द के बारे
समझ न आया क्या है इतना हसीं दर्द के बारे

पुरखों ने जब लाइन खैंची अपने बंटवारे की
जाना नइं क्या कहती है ये ज़मीं दर्द के बारे

-


Show more
44 likes · 2 comments
Amandeep Singh 19 OCT 2019 AT 15:43

चिहरे पर मदमस्त हया का लेप करे आना
मिलना हम से तो नाखूँ को शेप करे आना



-


Show more
33 likes · 4 comments · 1 share
Amandeep Singh 16 OCT 2019 AT 17:48

...
मुझे पता था, तू केवल बोसे से चुप हो सकती है
तभी तिरी आँखें चूमी, ये बहुत बोलती हैं, SuMi
...

(अनुशीर्षक में पढ़ें 👇)

-


Show more
27 likes
Amandeep Singh 10 OCT 2019 AT 13:41

नींद का तख्ता पलट, ख़ौफ़ आया, बैठ गया
मैं लेटा अपने बिस्तर, फिर उठा, बैठ गया

हर आग से बचाए रक्खा हर इक पल तुझे
तिरे मंडप में कौन मेरी जगह बैठ गया

-


50 likes · 8 comments · 1 share

Fetching Amandeep Singh Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App