Yashika Gupta   (Khushii)
584 Followers · 101 Following

read more
Joined 20 February 2018


read more
Joined 20 February 2018
Yashika Gupta 20 HOURS AGO

मैं थोड़ा अकेले में रो लिया करती हूँ,
किसी को शक़ भी ना हो,
इसलिए थोड़ा मुस्कुरा भी लिया करती हूँ..!
जब जब तेरी याद आती है,
तेरी तस्वीरों को निहारती हूँ,
तेरा पसन्दीदा गाना गुनगुना भी लिया करती हूँ..!
तेरी कही हुई बातें मन ही मन दोहराती हूँ,
तेरी आवाज़ को अपनी रूह में उतार भी लिया करती हूँ..!
जब जब तेरी याद आती है,
मैं थोड़ा रो लिया करती हूँ,
और किसी को शक़ भी ना हो,
इसलिए थोड़ा मुस्करा भी लिया करती हूँ..!

-


22 likes · 5 comments
Yashika Gupta 20 HOURS AGO

मंदिर से आती घंटियों की गूँज हो तुम,
जो बार बार मेरे कानों से टकराती है..!
बारिश के मौसम में मिट्टी से आती खुशबू हो तुम,
जो मेरी रूह को अंदर तक महकाती है..!
मेरे बग़ीचे में खिला ग़ुलाब हो तुम,
जिसकी एक झलक के लिए मेरी आँखें तरसती हैं..!
चाय में डली अदरक की महक हो तुम,
जो बार बार मेरे ज़हन में उतरती है..!
जुलाई अगस्त की तेज़ बारिश हो तुम,
जो मेरे दिल की बंजर ज़मीन पर बरसती है..!


// ❤ मेरा सबकुछ हो तुम ❤ //

-


Show more
27 likes · 8 comments
Yashika Gupta 8 MAR AT 19:44

प्यार तो तभी हो गया था,
जब बचपन में साथ खेलते समय,
वो दौड़कर मेरे पास आता था,
मुझे "बर्फ़" से "पानी" बनाने..!!

और मैं पिघल गई..!! 🙈😁😂

-


Show more
29 likes · 14 comments · 2 shares
Yashika Gupta 8 MAR AT 14:05

'प्रेम' की परिभाषा

-


Show more
21 likes · 2 comments
Yashika Gupta 8 MAR AT 13:49

दूर रहकर भी तेरी फ़िक्र रहेगी मुझे..
हर बात में ज़िक्र करूँगी तुझे..
दूर से ही सही, रिश्ता निभाऊंगी मैं,
जुदा होकर भी तुझे चाहूंगी मैं..!!

-


Show more
22 likes · 6 comments · 1 share
Yashika Gupta 8 MAR AT 13:42

पिता की आन हूँ.. भाई की शान हूँ..
साजन की मीत हूँ.. मितवा की प्रीत हूँ..
ममता की मूरत हूँ.. राधा/सीता की सूरत हूँ..
दोस्तो की जान हूँ.. रिश्तो की पहचान हूँ..
बच्चो की परछाई हूँ.. जीवन की सच्चाई हूँ..

मैं एक नारी हूँ..!!

-


29 likes · 10 comments
Yashika Gupta 6 MAR AT 17:57

तुम कहते हो "सफ़र को अधूरा ना छोड़ो"
पर जिस मंज़िल तक पहुँचना ही ना हो,
उस रास्ते पर ज़बरदस्ती चलने से क्या फायदा..?
तुम्हारे साथ जो सफ़र तय किया था,
वो याद है मुझे! हर दिन, हर रात याद है!
पर वो सफ़र अधूरा ही रहेगा हमेशा...
क्योंकि तेरे मेरे रास्ते अलग अलग हैं
और कभी एक हो भी नहीं सकते..!!

-


37 likes · 6 comments
Yashika Gupta 5 MAR AT 10:20

जनवरी फ़रवरी की कड़कड़ाती ठंड में,
सुबह 6 बजे उठकर, तुमसे मिलने आती थी.!
तुमको सूनी सड़क का सफ़र याद है.?
मेरा हाथ थामकर, मेरे साथ साथ चलते थे तुम,
तुमसे हर बात कहती थी, दिल का हाल बताती थी.!
तुमको सूनी सड़क का सफ़र याद है.?
सुबह 6 बजे उठकर, तुमसे मिलने आती थी.!
अगले दिन फिर मिलने का वादा करके जाती थी.!

-


Show more
29 likes · 8 comments
Yashika Gupta 4 MAR AT 22:41

मैं कैसे उस शख्स को रुला
सकती हूँ,
जिसे मैंने खुद रो रोकर माँगा था.??

-


Show more
36 likes · 9 comments
Yashika Gupta 4 MAR AT 21:34

नन्हे बच्चे ने भगवान से माँगा हो तारा जिस तरह।

-


Show more
25 likes · 5 comments

Fetching Yashika Gupta Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App