Vivek Thakur   (सारांश✍️)
272 Followers · 65 Following

read more
Joined 16 May 2019


read more
Joined 16 May 2019
Vivek Thakur 10 JUL AT 21:18

ज़िन्दगी यही है कल तक जीत रहे थे तो सब गुण गान कर रहे थे, आज हार गए तो बुरा भला कह रहे हैं टीम को सब। असली फैन वही है जो बुरे वक्त में अपनी टीम के साथ खड़ा हो अच्छे वक़त में तो सब ही साथ होते हैं।
Well done #TeamIndia आप बहुत अच्छा खेले आज शायद आपका दिन नहीं था।

जीत हो या हार करो दिल से स्वीकार,
ज़िन्दगी एक चुनौती कोशिश करो बारम्बार।

आज हार सही कल जीत नसीब आएगी,
कोशिश करने से ही होगी हर बाधा पार।

-


#worldcup2019 #teamindia #cwc2019

Image Source - Google Images

20 likes · 5 comments · 1 share
Vivek Thakur 9 JUL AT 16:37

ईश्वर का हम पर एक एहसान है "पिता"
(पूरी कविता अनुशीर्षक/कैप्शन में)

-


Show more
19 likes · 8 comments
Vivek Thakur 7 JUL AT 22:09

"त्याग की मूरत है माँ"
(पूरी कविता अनुशीर्षक/Caption में)

-


Show more
19 likes · 13 comments
Vivek Thakur 6 JUL AT 17:06

जीवन में तुम सदा ही "मुस्कुराते चलो",
प्यार लुटाते चलो तुम खुशियां फैलाते चलो।

ज़िन्दगी को तुम सेवामय भाव से बिताते चलो,
अपने लिए सब जीते औरों के काम आते चलो।

ज़िन्दगी गर रात सी काली फिर भी गम ना करो,
एक सितारा बनो हमेशा ही तुम जगमगाते चलो।

ज़िन्दगी में तुम सदा ही "मुस्कुराते चलो"।

किसी से कुछ सीखो तुम किसी को सिखाते चलो,
ज़िन्दगी में प्यार और इज़्ज़त तुम कमाते चलो।

बांटना ही है अगर बांट लो हर खुशी को तुम,
तुम गमों को अपनी मुस्कान में छिपाते चलो।

अश्क है अनमोल कभी खोना मत तुम इन्हें,
हर एक आंख से अश्कों को तुम चुराते चलो।

ज़िन्दगी में तुम सदा ही "मुस्कुराते चलो"।

किसी की अंधेरी दुनिया रोशनी से भर दो तुम,
जीवन में किसी के उम्मीद का दीप जलाते चलो।

किसी को मुसीबत में देख तुम हाथ बढ़ाओ,
इंसान हो तुम इंसानियत का फर्ज़ निभाते चलो।

किसी भटके को ज़िंदगी में सही राह दिखाते चलो,
अपनी अच्छाइयों से दुनिया को सुंदर बनाते चलो।

ज़िन्दगी में तुम सदा ही "मुस्कुराते चलो"।

-


Show more
23 likes · 10 comments
Vivek Thakur 6 JUL AT 9:59

जीवन है अनमोल हर पल इसका शुक्रिया मनाओ,
राहे मंजिल मुश्किल सही तुम चलने से ना घबराओ।

जब दर्द बढ़ जाये तुम उसी दर्द को दवा बनाओ,
टूट कर बिखरो मत तुम उम्मीदों का दीप जलाओ।

गिर कर संभलो राहों में बस निरंतर चलते जाओ,
कुछ करने की ठान मंजिल पाने को कदम बढ़ाओ।

वक़त चाहे कैसा हो हर हाल खुद को जीना सिखाओ,
ख़ुद से उम्मीद रखो किसी के आगे ना हाथ फैलाओ।

अपने टूटते होंसलों को संभालो खुद को तुम उठाओ,
हालात अपने हक़ में लाने को तुम पूरा जोर लगाओ।

हिम्मत कभी ना हारो तुम गिर कर उठते रहो हमेशा,
मुश्किलों की चट्टानों पर कामयाबी का निशान बनाओ।

हार कर तुझे बैठना नहीं है गिर कर तुझे रुकना नहीं ,
प्रयासरत रहो जब तक तुम ना अपनी मंजिल पाओ।

तुम हिम्मत ना छोड़ो अपने टूटे अरमानों को बटोरो,
तुम ज़िंदगी में अपना हर सपना पूरा कर दिखाओ।

"गुलाब जैसी हो ज़िन्दगी" काँटों को भी गले लगाओ,
ये मुश्किलें ही देती ताकत तुम दर्द में भी मुस्कुराओ।

तुम आज गुमनाम सही मेहनत से तुम नाम कमाओ,
जमाना मिसाल दे तुम ऐसी अपनी पहचान बनाओ।

-


Show more
27 likes · 13 comments
Vivek Thakur 5 JUL AT 15:54

चंद सिक्कों की आस में जाने कब से भूखा प्यासा भटक रहा था वो,
सिग्नल की बत्ती लाल देख कर सब गाडियों पे ही झपट रहा था वो।

मांग रहा था सबसे वो सिक्का लगाये हुए था वो सबसे बहुत आस,
आसानी से मिलता कहाँ सिक्का जिसकी उसे बेसब्री से थी तलाश।

कुछ उससे नज़रे चुरा रहे थे तो कुछ अपनी मजबूरियां बता रहे थे,
यह एहसास उसे भी था फिर भी पेट भरने ख़ातिर कर रहा था प्रयास।

ये सोच कर शायद की तुम उस गरीब लाचार को दोगे सहारा,
पहुंचा था वो तुम्हारे पास जैसे उसे था बस "इंतज़ार तुम्हारा"।

पर तुम शायद अपनी शानो शौकत के नशे में ज्यादा ही चूर थे,
इंसान तो तुम थे पर शायद इंसानियत से तुम कोसों दूर थे।

बिन उसकी मजबूरी जाने उस मासूम पर तुमने रौब जमा दिया,
उस लाचार को चोर चकार कहकर डरा कर उसे भगा दिया।

बेशक तुम धनवान बहुत पर दिल से तुम छोटे हो ये जता दिया,
एक गरीब की गरीबी का मज़ाक उड़ा आखिर तुमने क्या पा लिया।

दौलत शोहरत के नशे में इंसान, इंसान नहीं रहता तुमने दिखा दिया,
ये किस्मत है जिसने तुझे अमीर बनाया और उसे गरीब बना दिया।

ए दोस्त इस कदर भी तुम धन दौलत के नशे में चूर रहा ना करो,
वक़त की मार ने बड़े बड़ों का अभिमान पल भर में धूल में मिला दिया।

-


Show more
20 likes · 6 comments
Vivek Thakur 5 JUL AT 11:01

सुख-दुख की आंखमिचौली जीवन,
जीवन बस चंद पल का है मेला।
जब तक सुख दुख साथ है तेरे,
इस मेले में तू हरगिज़ नहीं अकेला।
बीते हुए कल को तुम भूल जाओ,
भविष्य को आने वाले कल पर छोड़ दो।
बस आज अभी की बात करो तुम,
तुम "वर्तमान में जीना सीख" लो।

इस जीवन के सागर मंथन में तुम,
दुःख का विष पीना भी सीख लो।
ठोकर खाके गिरकर संभलो तुम,
ज़िन्दगी को एक नया आयाम दो।
किसी के आगे हाथ ना फैलाओ,
रहम की किसी से तुम ना भीख लो।
बस आज अभी की बात करो,
तुम "वर्तमान में जीना सीख" लो।

बीते कल पर अब तुम पछताओ ना ,
तुम व्यर्थ की चिंता करना छोड़ दो।
ज़िन्दगी में जो तुम्हें पीछे खीँचे,
ऐसी गम की जंजीरो को तुम तोड़ दो।
बीते कल की गलतियों से ले सबक,
सुधार कर तुम गलतियों को कर ठीक दो।
बस आज अभी की बात करो,
तुम "वर्तमान में जीना सीख" लो।

-


Show more
23 likes · 10 comments
Vivek Thakur 4 JUL AT 21:38

"बना रही नारी ख़ुद की पहचान"
(पूरी कविता अनुशीर्षक/caption में)

-


Show more
26 likes · 20 comments
Vivek Thakur 4 JUL AT 15:37

जो है जग में हीन पतित उनको गले लगाओ,
जो हैं दीन दुखी पीड़ित उनको धैर्य बंधाओ।

जिनको ना कोई चाहता उन्हें जा अपनाओ,
जो रोते उन्हें हँसाओ हर एक से प्रेम जताओ।

"भलाई इसी में है" सबकी यही मार्ग अच्छा है,
सबसे करो तुम प्यार जगत में यही धर्म सच्चा है।

मिलजुल कर रहना सीखो करो ना द्वेष किसी से,
सबसे मीठी वाणी बोलो होगा भला इसी से।

जो तुमसे मदद मांगे मदद करना तुम खुशी से,
किसी को तुच्छ ना समझना रखना स्नेह सभी से।

जो गिरें हुए हैं उन्हें उठाओ यही कर्म अच्छा है,
सबसे करो तुम प्यार जगत में यही धर्म सच्चा है।

जो भी है तुम्हारे पास कला, विद्या या धन सम्पति,
सबके हित में इसे लगाओ गर चाहते हो मुक्ति।

बस मेरा मेरा ना करते रहो भाई यहां कुछ नहीं तेरा,
एक ना एक दिन जाना होगा ये दुनिया रैन बसेरा।

किसी के काम आओ सेवामय जीवन ही अच्छा है,
सबसे करो तुम प्यार जगत में यही धर्म सच्चा है।

-


Show more
20 likes · 6 comments
Vivek Thakur 4 JUL AT 11:13

आज आपका जन्मदिवस है,
करें मेरी बधाई स्वीकार।

जुग-जुग जियें आप सदा ही,
मैं ईश्वर से करता ये मनुहार।

ज़िन्दगी मे सब खुशियां मिलें,
पड़े कभी ना गम की मार।

आपकी सदा जीत हो, हो ना हार,
ईश्वर से प्राथना ये मेरी बारम्बार।

पल भर में सबको कायल कर लेते,
ऐसा है आपका सद् व्यवहार।

ऐसे ही सदा लुटाते रहिये सभी पर,
आप अपना निश्छल लाड-दुलार।

ऐसे ही सदा लिखते रहिये,
कलम आपकी करती रहे कमाल।

यही कामना नित भगवन से ,
आप सदा रहिये खुशहाल।

रहे सफलता हर पल कदम चूमती,
रहें तन मन धन से मालामाल।

जन्मदिवस की पुनः बधाई,
जियें आप हज़ारों साल।

-


Show more
29 likes · 14 comments

Fetching Vivek Thakur Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App