Tanya singal  
2.1k Followers · 20 Following

ज़िन्दगी की गहराइयाँ टटोलती
खा़स लोगों की दुनिया में एक आम इंसान!
Joined 13 August 2018


ज़िन्दगी की गहराइयाँ टटोलती
खा़स लोगों की दुनिया में एक आम इंसान!
Joined 13 August 2018
Tanya singal 22 NOV AT 22:08

फिज़ाओं से महक
इश्क़ की आ रही थी
नबी बेचैन हो उठा,
के किसी की किस्मत में
बर्बादी लिखी जा रही थी।

-


Show more
70 likes · 10 comments · 4 shares
Tanya singal 10 SEP AT 6:18

तुम्हारा यूं हंसकर बातें करना
एक उलझा सा इशारा है कहीं,
तुम यूंही बातों में उलझे रहना
किसी को सहारा है कहीं ।

-


Show more
140 likes · 13 comments · 4 shares
Tanya singal 9 APR AT 21:07

रास्तों को देखना भूल गए
जो बैठे थे लोग वहां उनसे
ज़िंदगी समझना भूल गए
ठोकर खाई लेकिन सीखना भूल गए
आज मंज़िल तो मिल गई
लेकिन हम मंज़िल का मकसद भूल गए

-


Show more
153 likes · 12 comments · 4 shares
Tanya singal 3 APR AT 21:10

चांद भी आज कुछ कम निख़रा सा लगता है,
एक हिस्सा तो रोशन है फ़लक में उसका
बाकी का नूर तेरे चहरे पर बिख़रा सा लगता है।

-


157 likes · 12 comments
Tanya singal 20 MAR AT 22:54

मैं लिखते लिखते पन्नों पर
ज़िंदगी अपनी घिसा रही हूं
दफ़ना कर दुनिया में खुद को
कहानियों में जीवन बिता रही हूं।

-


179 likes · 19 comments · 2 shares
Tanya singal 6 MAR AT 17:57

के हारा ये जहां लगता है
और थकन से दुखती हैं एड़ियां,
नज़रें भी धुंधला गई हैं
जब से कसने लगी हैं ये वक़्त की बेड़ियां।

-


Show more
164 likes · 5 comments · 2 shares
Tanya singal 25 FEB AT 11:03

ये बारिश और हमारा रिश्ता
दोनों एक से हैं,
कभी बेशुमार बरसते हैं
तो कभी सिर्फ़ गड़गड़ाहट से
ही एक उम्मीद को ज़िंदा रखते हैं;
कभी ठंडे हो अोले बन बरसते हैं
तो कभी बरसते हुए भी धूप ही रखते हैं
ये बारिश और हमारा रिश्ता
दोनों एक से हैं,
कभी एक फ़ुहार के साथ ही माहौल को
खुशनुमा बना देते हैं
तो कभी बाढ़ की तरह बेवक्त ही कुछ
पनपते जज़्बातों को ये बहा दिया करते है,
ये बारिश और हमारा रिश्ता
दोनों एक से हैं।

-


158 likes · 10 comments · 20 shares
Tanya singal 15 FEB AT 16:26

एक मां का आंचल सूना पड़ा है,
एक बहन की राखी का वादा अधूरा ही रह गया,
जो कर रही थी तोहफों का इंतज़ार उसे कफ़न में लिपटा एक झुमका मिला,
वो लिए झुनझुना हाथ में चौखट पर ही बैठी रही,
देखकर हाल घर का ए जवान,आज कितने ही घरों में मांओं से चूल्हे की आग तक ना सुल्गी,
यकीं कर मेरा आज हर दिल में तेरे लिए इज्ज़त
और जैश के लिए बस बददुआ ही है निकली।




-


192 likes · 10 comments · 7 shares
Tanya singal 13 FEB AT 20:49

सुना है दोस्ती की नदी में
इश्क़ गोते खाने लगा है;
ना डूबने दे रहा है,
ना ही तैरकर उस पार
जाने दिया जा रहा है।

-


Show more
179 likes · 12 comments · 2 shares
Tanya singal 7 FEB AT 23:03

एक फरियादी फ़िर से
इज़हार ए इश्क़ करने जाएगा,
किस्मत से वो शायर है
सनम नहीं पाएगा तो वाह वाही
लेकर ही वो वापिस लौट आएगा।



-


Show more
204 likes · 10 comments · 2 shares

Fetching Tanya singal Quotes

YQ_Launcher Write your own quotes on YourQuote app
Open App