Upload Video

#yqshayari

30509 quotes

YourQuote
YourQuote
बेहतरी के लिए टूटे रिश्तों की याद।



(Read in caption )

कितनी अजीब बात है ना दूर होते हुए भी इतना करीब जी रहे की मैं कुछ ही दिन पहले पोवई लेक के किनारे दोस्तों के साथ बैठ थी और याद कर रही थी की कुछ महीने पहले तुमने कहा था ,हनी यहाँ इस रेस्त्रो में किसी दिन आपके साथ घंटो बैठ कर मुंबई की पुरानी यादें ताज़ा करेंगे ! आप बता रहे थे कैसे दोस्तों के साथ बहुत ज्यादा ड्रिंक कर के जब आप लोग होश में नहीं थे तो उस दौरान क्या क्या हुआ , और मैं आपको चुपचाप सुन रही थी , फिर आपने मुस्कुरा के बोला जानती हैं जब आप नहीं थी हमने आपको बहुत मिस किया कभी -कभी , लेकिन आप नहीं समझेंगी . मैं मन में खुश होती और आपके बात पर यकीन भी करती पर मुस्कुरा देती और कह देती अच्छा आप झूठ बोल रहे ...बस आपको छेड़ना का इरादा था मेरा , पर यकीन बहुत करते थे खुद से ज्यादा . आज जब यहां से घर पहुंचे तो आपके दोस्त ने बताया की वो मुझसे मिलने पोवई आया था दिन को , देखो कितने करीब है आज भी ,आपको भी मेरी याद बहुत आयी होगी मुझे यकीन है . अच्छा फिर मैंने शहर बदला और घर आ गयी , की मालूम पड़ा आप भी किसी काम से इसी शहर आ गए , ये कैसा इत्तेफ़ाक़ है , सब कुछ एक सा हो रहा दोनों की ज़िंदगी में बस हम साथ नहीं , जानती हूँ आखिरी दिन जब मैंने आपको छोड़ कर जाने का फैसला किया मैं बहुत रोई थी , और उससे कुछ दिन पहले से आप बेचैन होकर मुझे हर वो पुरानी जगह दिखाने लगे जहां हमने साथ वक़्त बिताया , मंदिर ले जाते बिन बोले और खुद मेरे कितनी बार बोलने पर भी अंदर नहीं जाते जैसे मन ही मन भगवान से लड़ बैठे हो , अजीब बात थी , मेरी पसंद की मिठाई , वो सुखी पापड़ी और काजू कतली भी बहुत लाने लगे जैसे भूल जाते हो की कल जो लाए थे वो भी पड़ी है और तो और एक आखिरी गुलाब भी बड़ी सिद्दत से दी थी मैंने उसे हमेशा की तरह फ्रीजर में रख दिया था और भूल गयी लाना पर उसकी याद बड़ी आयी , मैंने टोटो भी आपके पास छोड़ दिए ताकि वो आपका ख्याल रखे आपको मेरी याद आये तो मेरा पसंदीदा टेडी बेयर आपके पास हो ,... दोनों ने मन ही मन क्या खूब तयारी की थी एक दूसरे को अलविदा कहने की फिर वो आखिरी रात आयी जो हम दोनों को मालूम नहीं थी की आखिरी है पर कायनात को पता थी सो कहर बरसा रही थी वो , मेरे सर में जोड़ो का दर्द हुआ और मैं रो पड़ी आपसे देखा ना गया और भाग कर आये अरे पगली,ओये , बाबू क्या हुआ अरे रो क्यों रही? हम है ना ....हम है वो आखिरी बार था आपने सर गोद में रखा और दबाने लगे और हम अपना चेहरा छुपा कर पलट गए की पिछले हिस्से में दर्द है दर्द सर में नहीं था दर्द दिल में था क्यूंकि मैं आपको हमेशा के लिए छोड़कर जा रही थी तो खूब रोई . मैं उसके बाद कभी नहीं रोई और रोई भी तो उस कदर नहीं रोई , आप भी बेचैन थे बस दूध हल्दी लेकर दिया मुझे मैं पि और आपका हाथ पकड़ लिया रोते हुए , आप समझ गए मैं आपको जाने नहीं दूंगी कही अभी , आपने बस कहा दो मिनट दो टी.बी बंद करनी है और लाइट्स , मैं पहली और आखिरी बार भूली की आपने खाना नहीं खाया उस रात ना मैंने पूछा ,आप लौट आये और मेरा सर सहलाने लगे मैंने आपके हाथ को पकड़ा और अपने गाल से लगाकर सो गयी जैसे माँ का आँचल हो और जब सुबह उठी तो देखा आप आधे नींद में उसी तरह मेरा सर सहला रहे थे कुछ ३ बजे थे , मैं आपसे थोड़ी और दूर हो कर लेट गयी ताकि आपके हाथ को आराम मिले और फिर मुझे नींद नहीं आयी वो रात बस आपको देख कर कटी सुबह आप ऑफिस गए, जाना जरुरी भी था .. मैंने कुछ सामान लिया जो मेरी जरुरत की थी और कुछ वही छोड़ दिए कभी ना मिलने में भी एक मिलने का बहाना .. और चल पड़ी , जब घर की दहलीज़ लाँघ रही थी तो बहुत सी तस्वीरें आँखों के सामने थे वो सब रिश्ते सवालातों के घेरे में थे जिनपर मैंने यकीन किया , आपकी माँ जो मुझे खाना बनाना सिखाती थी ,आपके पिताजी जिन्होंने अपने हाथो से निवाला खिलाया ये सोचकर की मैं ऐसा ना सोचु की वो सिर्फ आपकी बहन से प्यार करते है , मैं भी तो उनकी बेटी थी, आपके दोस्त जो मुझसे अक्सर पूछते थे , शादी करोगी इससे और बिना मेरे जबाब के ही बोल उठते थे शर्मायी भाभी ये देखो ,आपकी बहन जिसे सारे रास्ते गोद में लिटा कर किसी छोटी बच्ची की तरह मैंने पूरा नासिक देखा जानती हूँ बहुत बार सुन चुके हो ये सब अब कुछ नहीं हो सकता , पर इस बार मैंने ये आखिरी मुलाकात किसी शिकायत के लिए नहीं लिखी , बस इसलिए लिखा की जानती हूँ छुप छुप कर पढ़ते हो मेरा लिखा और आज भी एक भी तस्वीर नहीं मिटाई है , और वो नया शख्श जिसके साथ मेरा घर और दिल बाँट रहे , उसके होते हुए भी तुम्हे रोज़ मेरी ही याद आयी है . जब उसको छूते हो तो कही नशे में तो नहीं होते क्यूंकि होश में तुमसे ऐसा किया ना जायेगा , और हाँ इस बार मैंने सिद्धि विनायक में बस ये सोचकर मोदक चढ़ाये की पुरानी सारी अर्जियां नामंजूर कर देना और शुक्रिया की मुझे यकीन हो गया की कोई शख्श रब्ब नहीं होता ! #yqbaba #yqdidi #yqhindi #yqtales #yqquotes #yqshayari #yaad #dil bahut udas hai