#story

3538 quotes

मन से ये किताब लिखी है,
तेरे दिल ने मेरे साथ,
जो बयां करती है एक कहानी,
एक बार पढ़ो तो ज़रा,
समझ जाओगे फिर प्यार के दर्द को हमारे।

Book#story#life#a big pause....😌😌😕😳😳

YESTERDAY AT 23:06

Somewhere someone is wanting a life same as yours..
And here, you are constantly thinking about ending it!
#suicideawareness

Live your life! #somewhere#second#completed#challenge#sucideawareness#mentalhealth#mental#awareness#psychology#life#importance#YQbaba#YQdidi#YQmemes#YQpaaji#YQtaai#YQbhaijan#YourQuote#writing#story#live#love#laugh#happy#smile#life#dream#happiness#mentalhealthawareness#inspirational#motivational#psychologist#depression#wotd#yq

YESTERDAY AT 21:51

मैं तुम्हारे ख़त वापस करने आईं हूँ शिव।

#caption

#YQdidi #YQbaba #story #love #call #tears #इश्क़ #तकलीफ़ #आँसू #तुम #ख़त #आख़री आज सुबह से दिल काफ़ी ख़ुश था सुबह से बारिश हो रही थी दिन रविवार था तो सब काम ख़त्म कर के सोफ़े पे बैठ कर लैप्टॉप निकाला और सारे पुराने दिन यार ,प्यार ,घर सबके साथ जो बिताए थे उन्हें देखने लगा। मैं शहर के किसी कोने में बैठा बीते दिनों को याद कर रहा था तभी अचानक फ़ोन की घंटी बजी मैं फ़ौरन यादों की दुनिया से लौट कर फ़ोन के पास गया। हेलो शिव........।।आवाज़ सुनी हुई सी थी! शिव मैं शिवु....।। शिवु? इसी आवाज़ का तो इंतज़ार कर रहा था मैं, ना चाहते हुए भी आँसू गालों को भिगोने लगे मैं थोड़े थहराओ के साथ बोला हाँ शिव।मैंने कहा। शिव नाम उसी ने दिया था मुझे और मैंने शिवु उसे। मैंने ख़ुद को सम्भालते हुए अनजान बन के कहा हाँ मैं शिव आप कौन? ये शब्द आप कौन मुझे अंदर तक तोड़ चुके थे जिसके साथ ज़िंदगी के सारे क़िस्से जुड़े थे उसे पहचानने से मना कर रहा था मैं,उधर से आवाज़ आई शिव मैं शिवु सच में भुला दिया क्या तुमने मुझे? उसने पूछा। हाँ जाते वक़्त कह के गई थी ना तुम कि अब भूल जाना मुझे मैं नहीं जानती तुमको। मैंने कहा। चलो अच्छा हुआ भूल गये तुम मुझे मेरी सारी बातें मेरे जाने के बाद भी मानते हो,ख़ैर मैंने तुम्हें ये बताने के लिए फ़ोन किया है कि मैं शादी कर रही हूँ मैंने तुम्हें बुलाने के लिए फ़ोन नहीं किया है जानती हूँ आओगे नहीं लेकिन मुझे शादी से पहले एक बार मिलना है तुमसे तुम्हारे कुछ ख़त हैं और कुछ तौफ़े उन्हें वापस करना है मुझे। मैं चुपचाप उसकी बात सुनता रहा और अचानक ग़ुस्से में मैंने भी ऊँची आवाज़ में कह दिया हाँ ले लूँगा सब वापस,लेकिन अंदर ही अंदर मैं टूट सा गया की शिवु शादी कर रही है मेरी शिवु क्या यही सुनने के लिए मैं इंतज़ार कर रहा था ४ साल से कि तुम आओ और ये सब। चलो अच्छा है कर लो लेकिन ख़त और तौफ़े वापस क्यूँ देना है तुम्हें, देना ही है तो वो सब दो जो मैंने दिया था तुम्हें। अगर इसलिए ही आना था तुम्हें तो आई ही क्यूँ तुम इससे अच्छा था तुम मुझे इंतज़ार ही करने देती। काश मैं उससे ये सब कह पाता लेकिन कहा नहीं। उसने बोला शिव मुझे माफ़ कर देना मैं तुम्हें तकलीफ़ देना नहीं चाहती थी।उसने धीरे से कहा। तकलीफ़ नहीं मुझे कहाँ तकलीफ़ होती है। मैंने कहा। उसने फिर पूछा मिलोगे ना मुझसे एक बार? मैं टूट चुका था आँसू रुक नहीं रहे थे और ज़बान लड़खड़ा सी रही थी।किसी तरह ख़ुद की आवाज़ को सम्भालते हुए कहा, नहीं तुम उन सारे ख़तों को जला देना और हाँ देखना कोई हिस्सा पढ़ ने लेना फिर से तुम। मैंने ग़ुस्से में उसे कहा अब मुझे कभी फ़ोन मत करना ना कभी मेरी ज़िंदगी में लौट कर आना और मैंने फ़ोन रख दिया। किसी का तुम इंतज़ार कर रहे हो और वो लौट कर आए भी तो सिर्फ़ तुम्हें कुछ वापस कर के सब कुछ ख़त्म करने के लिए तो इससे अच्छा है कि कभी आए ही ना वो। लिखने को कई कहानियाँ हैं अपनी लेकिन, अधूरा-अधूरा सा है सब तुम्हारे चले जाने से। शिवेंद्र 🖌

YESTERDAY AT 21:25

Yeah!!
Its not easy to live without you..

But your happiness with him gives me strength..

#story of every guy who ended his love story only for someone's smile

YESTERDAY AT 19:32