#yqbaba

1752716 quotes

      परवरिश     
(Read in caption)

वो बूढ़ी दंपति धनराम ओर उसकी पत्नी एक छोटे से गांव में रहते थे। उनका इकलौता बेटा कलेक्टर था फिर भी छोटे से खंडर जैसे घर में रहते थे।उन्होंने अपनी पूरी जिंदगी बेटे को काबिल बनाने में लगा दी थी। पूरी जमा पूंजी बेटे की पढ़ाई पर खर्च कर दी।खुद एक वक़्त भी खाकर बेटे की पढ़ाई पूरी करवाई ओर उसे शहर भेज दिया। बेटे बलवीर ने भी पढ़ाई पर ध्यान दिया ओर पहले उपजिला कलक्टर ओर फिर कलेक्टर पद हासिल किया। लेकिन उसके बाद से ही धनराम के घर की खुशियां ही छीन गई। बेटे ने घर आना बंद कर दिया। फोन भी करने कम के दिए। हा महीने में एक बार पैसे जरूर भेज देता था।वक़्त ने करवट ली बलवीर की शादी हो गई। उसके पिता ने सोचा कि शायद अब बलवीर घर आने लगे लेकिन हालात नहीं बदले। धनराम ने इसे ही अपनी किस्मत मान आगे की जिन्दगी गुजरने की सोची। ऐसे ही एक सामान्य दिन था। धनराम की पत्नी पानी भर रही थी तभी उसका पैर फिसल गया। उसके कमर में गहरी चोट लगी। धनराम उसे हॉस्पिटल लेके गया लेकिन पैसे कम होने की वजह से डॉक्टर ने उसका इलाज नहीं किया। धनराम अपने बेटे से पैसे लेने के लिए शहर आया। उस दिन बलवीर के घर पर पार्टी थी बलवीर ने जब देखा कि उसके पिता मेले कुचले कपड़ों में उसके घर के बाहर खड़ा था।उसने सोचा कि अगर उसने अपने पिता को घर में लाया ओर किसी को पता चल गया तो उसकी काफी बेइज्जती होगी इसी डर से उसने अपनी पत्नी को भेजा की तुम जाओ और उन्हें किसी भी हालत में वापस घर भेज दो। उसकी पत्नी बाहर गई ओर धनराम को डांट फटकार के वापस गांव भेज दिया। धनराम को बोलने का मौका तक ना मिला। रास्ते में धनराम बस एक ही बात सोचता रहा कि क्या ये उसकी बहू को बोलने की भी तमीज भी थी क्या उसकी परवरिश सही नहीं हुई थी फिर सोचने लगा कि "नहीं कमी तो उसकी परवरिश में रह गई थी जिस बेटे को भूखे रह कर भी पढ़ाय जिसके लिए उसने अपने पूरी जिंदगी लगा दी उसने अपने पिता को घर तक में आने का नही कहा कभी उनके हालात जानने की कोशिश नहीं की शिक्षा तो बेटे को अच्छी दी लेकिन परवरिश में कमी रह गई।अब क्या कहुगा अपनी पत्नी से की जिस बेटे की लिए इतना सब कुछ किया आज उसी बेटे ने मुझे अपने घर से धके मार के बाहर निकाल दिया....। #yqbaba #yqdidi #yq #yqhindi #yqstory #dard #afsos #emotional

52 SECONDS AGO

कभी महत्ता थी
जिन की शाखों पर
सज इठलाते थे
किसी देवता के गले
अब जीवन की धारा
ले चली बहाने 
समय की नदी में
मिट्टी को मिटाने

Though and Pic credit- Nilesh Borban😍😜 कभी  महत्ता थी जिन की शाखों पर सज इठलाते थे किसी देवता के गले अब जीवन की धारा ले चली बहाने समय की नदी में मिट्टी को मिटाने #yqbaba #yqdidi #flower #हिंदी #hindi #life #time

54 SECONDS AGO