Language Festival 2018
movie

#urdu

16323 quotes

YourQuote
YourQuote
Jab saari kainath se ladhker do jism ek hote hai..
Rest ( read in caption )

Jab saari kainate se ladhker do jism ek hote hai.. Khule angaan me khushiyun ke phool khil uthte hai..Khuda ki rehmath bhi khushiyun se jhooli bherdeti hai or farishte bhi unh jaano ki hifaazath me lagh jate hai.. jab woh nahni si jaan apne khadem badah ti hai manoo jaise jannat ka koi manzer hua ho..unki khil khilate awazo se khelo se khushiyun se angaan bhi khusiyun se mahek uth tha hai aisa lagtha hai jaise dil ki koi gehri arzoa tamernaye phuri hua ho.. aisa laghta hai jaisa yeh zindagi kai sadiyun baad jannat hue ho.. #yqbaba #yqtales #yqfanclub #yqdidi #yqdada #yqbhaijan #shayari #urdu

इश्क़ का इल्म तो बहुत है तुम्हे,
इज़हार पर जब बात आती है तो अनपढ़ क्यों हो जाते हो ?
हर रात चांद को देखते हुए नए तरीके सोचते हो उसे बयां कर देने के,
सुबह उसके सामने जाते ही किस दुनिया में खो जाते हो ?
उसकी राह - गुज़र में उसका इंतज़ार करना तो तसलसुल चलता रहता है,
पर कब तक दिल की बात को पोशीदा रखने का इरादा है ?
हा माना मौके बहुत से मयस्सर है तुम्हे,
पर इस गलत फहमी में मत रहना के तुम्हारे पास वक़्त बहुत ज़्यादा है।
हर्ज ही क्या है उसे जा कर बोल देने में वो जो तुम दिल में बात लिए चलते हो ?
बता देने में के जब वो पास नहीं होती तो कुछ यूं उदास हो जाते हो जैसे के एक लंबे दिन के बाद हज़ारों सूरज एक साथ ढलते हो।
ये जो तुम अपनी खुशी को उसकी मुस्कुराहट पर मुन्हासिर किए बैठे हो,
जब तक उसे बताओगे ही नहीं तो इसका इस्त्तीफादा क्या होगा ?
किस सोच में पड़े हो तुम किस बात का इंतजार है,
अब तो होना था जितना हो गया,
अब उस से इस से इश्क़ ज़्यादा क्या होगा ?

Enhanced Reading: इश्क़ का इल्म तो बहुत है तुम्हे, इज़हार पर जब बात आती है तो अनपढ़ क्यों हो जाते हो ? हर रात चांद को देखते हुए नए तरीके सोचते हो उसे बयां कर देने के, सुबह उसके सामने जाते ही किस दुनिया में खो जाते हो ? उसकी राह - गुज़र में उसका इंतज़ार करना तो तसलसुल चलता रहता है, पर कब तक दिल की बात को पोशीदा रखने का इरादा है ? हा माना मौके बहुत से मयस्सर है तुम्हे, पर इस गलत फहमी में मत रहना के तुम्हारे पास वक़्त बहुत ज़्यादा है। हर्ज ही क्या है उसे जा कर बोल देने में वो जो तुम दिल में बात लिए चलते हो ? बता देने में के जब वो पास नहीं होती तो कुछ यूं उदास हो जाते हो जैसे के एक लंबे दिन के बाद हज़ारों सूरज एक साथ ढलते हो। ये जो तुम अपनी खुशी को उसकी मुस्कुराहट पर मुन्हासिर किए बैठे हो, जब तक उसे बताओगे ही नहीं तो इसका इस्त्तीफादा क्या होगा ? किस सोच में पड़े हो तुम किस बात का इंतजार है, अब तो होना था जितना हो गया, अब उस से इस से इश्क़ ज़्यादा क्या होगा ? ~Sanchit Kalra ∆|• Ilm= Knowledge | Tasalsul- path | Posheeda - Hidden |Mayassar- available |Munhasir- Dependent| Istifaada- to gain advantage #yqbaba #yqdidi #poetry #worldbookday #urdu #yqurdu #arhythmicdream #heartitout